Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Yatra
Shanka
Health
Pandit Ji

Question Related to God

Why God is rescued some people from misfortune and othres not?

  Views :1323  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :3
3750 days 19 hrs 4 mins ago By Waste Sam
 

radhey radhey, yeh insaan ka brahm hai ke bhagwan kuch hee logo ko bachate hai aur doosaro ko nahi, mere anusaar hum he bhagwan ke kripa ko mehsoos nahi kar pate... iska udharan hai ke bhagwan ko ek nastik ko bhi bojan pradan karte hai... jai shri radhey

3772 days 20 hrs 50 mins ago By Gulshan Piplani
 

कर्म सिद्धांत के अनुसार यह संचित कर्मों के फल हैं जो भाग्य बन कर हमें हमारे कर्मानुसार प्राप्त होते हैं भगवान अपनी तरफ से कुछ भी अलग से नहीं देते हैं| प्रकृति सरंक्षण का नियम है चलता रहता है|

3883 days 8 hrs 15 mins ago By Nidhi Nema
 

राधे राधे,इसे हम पूतना की कथा से समझ सकते है पूतना पहले जन्म में राजा बलि की बेटी रत्नमाला थी,जब भगवान वामन बनाकर आये तो रत्माला उनके रूप को देखकर मन में सोचने लगी कि कितना प्यारा बालक है इसे तो अपनी गोद में बैठाकर दूध पिलाने का मन करता है ,भगवान उसके मन का भाव समझ गए और उसे स्वीकार भी कर लिया, परन्तु अगले ही पल जब वामन भगवान ने राजा बलि का सबकुछ हर लिया तो वही रत्नमाला का विचार बदल गया और अब मन में सोचने लगी कि ऐसे बालक को तो में दूध में विष मिलाकर दे दूँ.भगवान तो अंतर्यामी,तुरंत समझ गए और फिर भक्त का भाव स्वीकार कर लिया.यहाँ रत्नमाला के मन में पहला भाव तो बहुत अच्छा आया पर दूसरा भाव बुरा आ गया.इसी लिए रत्नमाला पूतना बनाकर आई,यदि भाव अच्छा रखा होता तो शायद यशोदा जी कि तरह भी आ सकती थी.तो ये हम पर निर्भर करता है.हम उसे किस भावना से भजते है . भगवान ने स्वयं कहा है-जो भक्त मुझे जैसे भजता है, मै भी उसे वैसे ही भजता हूँ,वे तो निष्पक्ष है कमी हमारे भावो कि ही है हम जो भी मांगते है हमें वही मिलता है.राधे राधे.

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Popular Article
Popular Opinion
Latest Bhav



Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

Guru/Gyani/Artist
DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
Copyright © radhakripa.in>, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here.