Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Yatra
Shanka
Health
Pandit Ji

क्या विचार पूर्व के कर्म या मन मे पूर्व के संस्कार के कारण उत्पन्न होते है?


  Views :1733  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :5
3755 days 22 hrs 11 mins ago By Diwakar Kushwaha
 

Vicharo ki utpatti Hamare Karyon Ke Anusar hoti hai yadi satwik karya karte hain to satvik aur yadi taamsik karya karte hai to tamsik vichar utpann hote hai"JAISE KARYA VAISI SRISHTI"

3755 days 22 hrs 19 mins ago By Gulshan Piplani
 

बुद्धि मन द्वारा प्रेषित विचारों पर विचार करके निर्णय लेने का कार्य करती है| और हमारी पांच ज्ञानेन्द्रियाँ केमरे की तरह ज्ञान अर्जित कर के मन को प्रेषित कर देतीं हैं| पूर्व के कर्मों के फल भी विचारों द्वारा ही हमारे मानस पटल पर अंकित हो जाते हैं और जो पूर्व के विचार देश काल, संग क्रिया प्राप्त न होने की वजह से संकल्प नहीं बन पते वह देश, काल, संग या क्रिया प्राप्त होते हे पुन: जागृत हो जाते हैं| पूर्व जन्मों के वह संस्कार जो हमें प्रारब्ध के रूप में प्राप्त होने होते हैं वह भी विचारों का रूप लेकर ही पुन: जागृत हो जाते हैं|

3792 days 19 hrs 58 mins ago By Bhakti Rathore
 

ha humhari pravti he usi ke anusaar hoti he

3835 days 29 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा..... विचार मन और बुद्धि दोनों में ही उत्पन्न होते है।....... मन में जो विचार उत्पन्न होते है वह पूर्व जन्मों के कर्म के कारण इच्छा के रूप में उत्पन्न होते हैं।....... बुद्धि में जो विचार उत्पन्न होते हैं, वह वर्तमान कर्म के कारण कामना के रूप में उत्पन्न होते हैं।...... मन में जो इच्छाएं उत्पन्न होती है, वह सदैव पूर्ण होती हैं, लेकिन बुद्धि में जो कामनाएं उत्पन्न होती है, वह वर्तमान जीवन में कभी पूर्ण नहीं होती हैं।

3835 days 2 hrs 46 mins ago By Vipul Nema
 

bichar kisi ke manviy savedan ki abhiwaykti hai wicharo ka samwandh manviy gayan per nirbhar hai gayan uske kriya kalp tatha rahansahn uske watawaran per nirbhar kartahi jise ham sanskar kahte hai

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Popular Article
Popular Opinion
Latest Bhav



Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

Guru/Gyani/Artist
DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
Copyright © radhakripa.in>, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here.