Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Yatra
Shanka
Health
Pandit Ji

क्या महत्वपूर्ण हैं: वेदांत, ज्ञान या प्रेम ?


  Views :2000  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :6
3492 days 10 hrs 53 mins ago By Meenakshi Goyal
 

Vedant kehta hai, parmatma ke darshan aankh se nahin hote hain. Dekhne ki shakti aankh ke pass hai aur is shakti ko dene wale ishvar hain. Jin prabhu ne aankhon ko dekhne ki shakti di hai, ve aankhen bhagwaan ko dekh nahin saktin. Vedant ka siddhant hai - ishvar drishy nahin hai, ishvar drishta hai. Vedant darshan drishta ka dArshan hai. Vedant kehta hai jo dikhayi deta hai, jo drishy hai vah shan-shan mei parivartit hota hai. Jo dikhayi deta hai vah drishyrup hai. Parmatma dikhayi nahin dete hain. Charm chakshu se koi bhi parmatma ke darshan nahin kar sakta.
Vaishnav siddhant hai; ki parmatma ki baat satya hai, prantu bhakti-prem jab atyadhik badhta hai tab bhakt drishta banta hai aur bhagwaan drishy ban jaate hain. Gopiyon ka prem itna badh gaya ki parmatma ko drishy hona pada. Bhakti bhagwan ko drishy banati hai, bhakti mei aisi shakti hai.

3492 days 10 hrs 53 mins ago By Meenakshi Goyal
 

Vedant kehta hai, parmatma ke darshan aankh se nahin hote hain. Dekhne ki shakti aankh ke pass hai aur is shakti ko dene wale ishvar hain. Jin prabhu ne aankhon ko dekhne ki shakti di hai, ve aankhen bhagwaan ko dekh nahin saktin. Vedant ka siddhant hai - ishvar drishy nahin hai, ishvar drishta hai. Vedant darshan drishta ka dArshan hai. Vedant kehta hai jo dikhayi deta hai, jo drishy hai vah shan-shan mei parivartit hota hai. Jo dikhayi deta hai vah drishyrup hai. Parmatma dikhayi nahin dete hain. Charm chakshu se koi bhi parmatma ke darshan nahin kar sakta.
Vaishnav siddhant hai; ki parmatma ki baat satya hai, prantu bhakti-prem jab atyadhik badhta hai tab bhakt drishta banta hai aur bhagwaan drishy ban jaate hain. Gopiyon ka prem itna badh gaya ki parmatma ko drishy hona pada. Bhakti bhagwan ko drishy banati hai, bhakti mei aisi shakti hai.

3496 days 9 hrs 44 mins ago By Meenakshi Goyal
 

केवल प्रेम..........................................

एहिं कलिकाल न साधन दूजा। जोग जग्य जप तप ब्रत पूजा॥
रामहि सुमिरिअ गाइअ रामहि। संतत सुनिअ राम गुन ग्रामहि॥3॥

भावार्थ:- इस कलिकाल में योग, यज्ञ, जप, तप, व्रत और पूजन आदि कोई दूसरा साधन नहीं है। बस, श्री रामजी का ही स्मरण करना, श्री रामजी का ही गुण गाना और निरंतर श्री रामजी के ही गुणसमूहों को सुनना चाहिए॥3॥

..................................................
सब जानत प्रभु प्रभुता सोई। तदपि कहें बिनु रहा न कोई॥
तहाँ बेद अस कारन राखा। भजन प्रभाउ भाँति बहु भाषा॥1॥

भावार्थ:-यद्यपि प्रभु श्री रामचन्द्रजी की प्रभुता को सब ऐसी (अकथनीय) ही जानते हैं, तथापि कहे बिना कोई नहीं रहा। इसमें वेद ने ऐसा कारण बताया है कि भजन का प्रभाव बहुत तरह से कहा गया है। (अर्थात भगवान की महिमा का पूरा वर्णन तो कोई कर नहीं सकता, परन्तु जिससे जितना बन पड़े उतना भगवान का गुणगान करना चाहिए, क्योंकि भगवान के गुणगान रूपी भजन का प्रभाव बहुत ही अनोखा है, उसका नाना प्रकार से शास्त्रों में वर्णन है। थोड़ा सा भी भगवान का भजन मनुष्य को सहज ही भवसागर से तार देता है)॥1॥
.................................................

3496 days 9 hrs 51 mins ago By Meenakshi Goyal
 

shrimadbhagwat mei gyan aur vairagya ko bhakti maharani ke putr bataya gaya hai

3496 days 9 hrs 53 mins ago By Meenakshi Goyal
 

तुम किसी को जाने बिना उसे पसन्द नहीं कर सकते। अहर तुम्हे गुलाब जामुन पसन्द है,तो उसके बारे में जानना ज्ञान योग है। उसे खरीद कर खाना कर्म योग है, और उसे पसन्द करना भक्ति योग है। भक्ति मतलब पसन्द करना। जब तुम किसी चीज़ को पसन्द करते हो तो उसके बारे में जानने की इच्छा स्वाभाविक ही उठती है। तीनो एकसाथ चलते हैं।

3499 days 16 hrs 32 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... जीवात्मा का परमात्मा से मिलन के लिये तीनों ही महत्वपूर्ण हैं।.......... इन तीनों के बिना किसी भी जीवात्मा का परमात्मा से मिलन असंभव होता है।..... परमात्मा से मिलन की दो ही विधियाँ हैं।............... पहली विधि के अनुसार जब व्यक्ति निरन्तर वेदों के अध्यन द्वारा उस ज्ञान में स्थित रहकर वेदों की आज्ञा के अनुसार आचरण करता है तो परमात्मा की कृपा से एक दिन परमात्मा का प्रेम (भक्ति) स्वतः ही प्राप्त हो जाता है तब उस जीवात्मा का परमात्मा से मिलन का मार्ग प्रशस्त होता है। गीता में इस विधि को \"सांख्य-योग\" कहा गया हैं.................... दूसरी विधि के अनुसार जब व्यक्ति भगवान के किसी भी एक रूप के प्रति शरणागत भाव में स्थित रहकर निरन्तर प्रेम (भक्ति) का आचरण करता है तो भगवान की कृपा से एक दिन वेदों का ज्ञान स्वतः ही प्राप्त हो जाता है, तब परमात्मा की कृपा से परमात्मा से मिलन का मार्ग प्रशस्त होता है। गीता में इस विधि को \"निष्काम कर्म-योग\" कहा गया है।

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Popular Article
Popular Opinion
Latest Bhav



Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

Guru/Gyani/Artist
DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
Copyright © radhakripa.in>, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here.