Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Yatra
Shanka
Health
Pandit Ji

मुझे पता है कि क्या करना अच्छा नहीं है, फिर भी मैं वो क्यों करती हूं? इससे छुटकारा कैसे पा सकती हूं?


  Views :1649  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :9
3750 days 16 hrs 7 mins ago By Waste Sam
 

radhey radhey… Sab jante hue bhi hum galat kaam karne ke liye preret hote hai apne paapo ke karan… humari paap he humse galat kaam karwate hai… iss se chutkara pane ke liye, bhagwan ke sharanagati ho jana hee ek upaay hai.. Jai shri radhey

3757 days 22 hrs 44 mins ago By Bhakti Rathore
 

radhe radhe iske ley apne man ko kabhu me kerna jaruri he wo tub he ho sakta he jub hum apne guru aur east ki shran me ho

3764 days 14 hrs 55 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 

हमें अक्सर पता होता है की क्या अच्छा है और क्या बुरा है फिर भी क्योंकि हम अपनी कामनाओं की पूर्ती के लिए मन के वशीभूत होकर उस कार्य को करते हैं जो हमें नहीं करने होते |मन को बार रोकने का अभ्यास करने से और वैराग्य से ही हम अपने मन को साध सकते हैं और जब मन सध जाएगा तो हम सिर्फ वो करेंगे जो हमें करना चाहिए | वैराग्य के लिए सत्संग करना चाहिए सत्संग करने से मन पर अनूकुल प्रभाव पड़ता है | राधे राधे

3764 days 23 hrs 6 mins ago By Vipin Sharma
 

KYONKI JO HONA HOTA HAIN VO HOTA H. AAP APNE MAN KO EKAAGRA KARNE KI KOSISH KARE.

3764 days 23 hrs 18 mins ago By Ashish Anand
 

kyunki hume apne senses par control nahin hai, jab hum apni indriyon ke das ban jaten hai to fir kya accha kya bura hur vo kar jaten hai aur karne ki koshish karten hai, lekin jab wahi kabhi kisi dusre vyakti se kiya tha to humane usse nafrat hi kar dali thi... halaki baad mein hume pashchatap bhi hota hai, lekin kar diya to ab kya hoga... so sab kuch humari inn inperfect aur undevloped senses ko control na karne ke karan hota hai... insae bachane ka ek hi upay hai jo bhi kuchh karne chalo turant pehle uss parmeshwar kanha ko samrpit karke karo... fir buraiyan aur gande kam to apne-aap khatm ho jayenge, coz koi burai ya ganda kam to hum bhagwan ko samrpit karke nahin kar sakten hai na... radhe-krishna

3765 days 2 hrs 7 mins ago By Gulshan Piplani
 

जो हमको पता होता है कि यह करना अच्छा नहीं है वोह मात्र ज्ञान होता है| धारणायें होती हैं|धर्म होता है|सिद्धांत होते हैं जिनका ज्ञान हमें यह बताता है कि यह करना अच्छा है यह करना बुरा है| जो हम करते हैं वोह वर्तमान होता है| जो कि देश, काल,स्थिति और संग पर भी निर्भर करता है| जैसे कभी कर्मचारी (employee) छुट्टी लेने के लिए झूठ बोल रहे हैं| वोह मालिक (बॉस) की नज़र में गलत होता है पर हमारे वर्तमान हालातों का समाधान नहीं? इस लिए अपने ज्ञान का सम्पूर्ण प्रयोग कर के समाधान ढूँढना चाहिए| हाँ अगर बात गलत आदतों की हो, आलस की हो तो उसमें सुधार करने में किंचित भी देर नहीं करनी चाहिए|

3765 days 4 hrs 12 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... प्रारब्ध से कोई नहीं छूट सकता है।

3765 days 4 hrs 13 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... किसी भी कार्य को करने में दो कारण होते हैं, (१). वर्तमान स्वभाव के कारण, (२). प्रारब्ध के कारण।.... न चाहने पर भी जो कार्य होते हैं वह प्रारब्ध के कारण होते हैं।

3765 days 20 hrs 11 mins ago By Diwakar Kushwaha
 

Na Chahate hue Bhi Wahi Karya karna Ye Indriyo Ke Asantulan ka Natija hai,Keval Ishwar me Sachi Astha Sabhi prakar Ke Dosho Avam Galat Vicharo ka Naash kar Sakti hai. Ye jaan ligiye Jab Aap koi Galat kaam Kartey hain To Jo Is Kaam ko Karne se rokti hai Wo Hamari Aatma hai jo ishwar ka He Pratiroop hai,Aur Jiske karan Hum Galat kaam kartey hai Wo man hai,Jab Bhi Galat Karyo me aapka man lage to OM Ka Uccharan Kare Sabhi Prakaar Ke Vichar Shant Ho Jayenge.

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Popular Article
Popular Opinion
Latest Bhav



Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

Guru/Gyani/Artist
DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
Copyright © radhakripa.in>, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here.