Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Yatra
Shanka
Health
Pandit Ji

ईश्वर से प्रेम होने का मतलब है ?

ईश्वर से प्रेम होने का क्या मतलब है. ईश्वर से प्रेम हो गया ये कैसे अहसास होगा.

  Views :1355  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :4
3851 days 22 hrs 54 mins ago By Gaurav Krishna Vats
 

iswar se prem hona yani ki dubti naiya mai par lg jana..... yh aisa ehsas jo btaya nhi jiya jata h...... duniya mai rehte hue duniya se mukti. vah pyare tum kmal ho...radhe radhe,

3868 days 17 hrs 42 mins ago By Nidhi Nema
 

राधे राधे,प्रेम एक समुद्र की तरह है,जैसे समुद्र के बाहर खड़ा व्यक्ति समुद्र की गहराई नहीं जन सकता और उतारने पर पार नहीं पा सकता उसी प्रकार प्रेम जब तक ईश्वर से नही होता तब तक व्यक्ति उसे बता ही नहीं सकता क्योकि जानता ही नहीं है और हो जाने पर उस अवस्था में पहुँच जाता है कि शब्दों में बयान ही नहीं कर सकता.और उस परमात्मा का प्रेम रोम रोम से बहता है. राधे राधे....

3868 days 18 hrs 38 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा...... प्रेम वह अनुभूति है जो प्रीतम की याद के रूप में प्रेमी के हृदय में आनन्द रूप में प्रकट होती है, आनन्द ही ईश्वर का पर्यायवाची रूप है, इस अनुभूति को न तो शब्दों के द्वारा बताया जा सकता है, न ही शब्दों से समझा जा सकता है।....... प्रेम कहता कुछ नहीं, मधुर स्मृति का गाम।.... मन मानस के पटलपर, अंकित पिय का नाम॥

3869 days 1 hrs 21 mins ago By Rakesh Sharma
 

जब मैं था तब हरी नहीं, अब हरि है मैं नाहीं । प्रेम गली अति सांकरी, जा में दो ना समाहीं ।।

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Popular Article
Popular Opinion
Latest Bhav



Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

Guru/Gyani/Artist
DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
Copyright © radhakripa.in>, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here.