Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Yatra
Shanka
Health
Pandit Ji

राधा दोहावली

  Views : 2033   Rating : 4.8   Voted : 5
Rate Article

 

 

बन्दौं पद नखचन्द्र किशोरी 

 

श्री ब्रिषभानु-भवन की भानु कीरति-कुलहि कलानिधि गोरी 

    

 वृन्दावन सुख-सम्पति श्यामा रसिकन-जीवनि प्रीतम-जोरी 

    

परम उदार सुह्रद करुणावली महाभाव-मूरति अति भोरी 

    

अबलौं भटक्यौ पथ-पाथर ज्यौं लागि रही मति मोरी ठगोरी 

    

 "श्याम" अपनपौ तुव पद हारयो स्वामिनी बांह गहो अब मोरी ||

 

 

 

 

 

नैन मिलाकर मोहन सौ,वृषभानु लली मन में मुस्कान

 

भौंह मरोर के दूसरी और,कछु वह घूंघट में शरमाई

 

देखि निहाल भई सजनी,व सूरतिया मम माँहि समानी

 

औरन की परवाह नही,अपनी ठकुराइन राधिका रानी

 

नवनीत गुलाब तैं कोमल हैं, हठी कुंज की मंजुलताइन में

 

गुललाला गुलाल प्रबाल जपा छबि ऐसी न देखी ललाइन में

 

मुनि मानस मन्दिर मध्य बसैं बस होत हैं सूधे सुभाइन में

 

बहु रे मन,तू चित चाइन सौं, वृषभानु कुमारि के पाइन में॥

 


DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
!! जय जय श्री राधे !!
Comments
2011-08-08 20:07:59 By Vipin Sharma

Achhha hai

2011-08-04 17:10:23 By Ashish Dikshit

shri radhe radhe. radha ji ki kripa hum sabhi bhakton pa hamesha rahe aur pal bhar ko bhi hamara mann bhi unse na hate,aisi hi kripa rakhe shri ji........

2011-07-12 03:27:05 By Devendra Singh Chauhan

radhey radhey

2011-06-27 18:49:59 By Birbal Prasad Singh

Excellent Web site, It is serving to get the whole purpose of the birth of Human beings

2011-06-10 13:23:32 By Deepak Bhardwaj

मेरा एक साथी है, बड़ा ही भोला भाला है... मिले ना उस जैसा, वो जग से निराला है... जब जब दिल ये, उदास होता है... मेरा मुरली वाला, मेरे पास होता है... जब तक रहा अकेला, बड़ा दुःख पाया मैं... जब जब दुःख ने घेरा, बड़ा घबराया मैं... इस सारी दुनिया में, कन्हैया का सहारा है... मिले ना उस जैसा, वो जग से निराला है... जब जब दिल ये, उदास होता है... मेरा मुरली वाला, मेरे पास होता है... नयी नयी पहचान, बदल गयी रिश्ते में... \'बनवारी\' मेरा सौदा, पट गया सस्ते में... गिरा में जब जब भी, उसी ने संभाला है... मिले ना उस जैसा, वो जग से निराला है... जब जब दिल ये, उदास होता है... मेरा मुरली वाला, मेरे पास होता है... मेरा एक साथी है, बड़ा ही भोला भाला है... मिले ना उस जैसा वो जग से निराला है... जब जब दिल ये उदास होता है... मेरा मुरली वाला मेरे पास होता है

2011-04-28 18:47:07 By deepak

gaurkishori kripamayi

2011-04-27 21:43:27 By deepak gupta

लाड़ लडै श्री राधिका, माँगू गोद पसार ! दीजो स्वामिनी चरण रज और वृन्दावन को वास !!

2011-04-25 19:29:02 By deepak gupta

sri radhe brishbhanuja bhaktan pranadhar jai jai sri radhe

2011-02-18 05:45:17 By Vasundhara

Very nice..a jewel to the collection..

Enter comments


 
स्त्रोत संग्रह
Last Viewed Articles
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
Copyright © radhakripa.in>, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here.