Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Yatra
Shanka
Health
Pandit Ji

निकुंज लीलाएँ

  Views : 2676   Rating : 3.7   Voted : 3
Rate Article

यह वृन्दावन का रस है,इसको "कुञ्ज रस" कहते हैं. और वृन्दावन के श्यामसुंदर को "कुञ्ज बिहारी" कहते हैं. इसके आगे एक और रस होता है उसे "निकुंज रस" कहते हैं. यहाँ जीव नहीं जा सकता, ये ललिता, विशाखा आदि का स्थान है.उसके आगे "निभृत निकुंज" होता है, यहाँ ललिता, विशाखा आदि भी नहीं जा सकतीं, यहाँ केवल श्री राधा-कृष्ण ही रहते हैं. हम लोगों की जो अंतिम पहुँच है, वो "कुञ्ज रस" है.  इसलिए हम चाकर "कुञ्ज बिहारी" के हैं. 

 

अष्टयाम लीला के अंतर्गत अष्टसखियां श्यामा श्याम कौ राजभोग (दोपहर के भोजन) के लिए आमंत्रित करतीं हैं कि- 

                                                         
                                                      भोजन करत लाडि़ली लाल
                              रतन जटित कंचन चैकी पर, आनि धर्यौ सहचरि भरि थाल

छप्पन भोग दत्त छत्तसौं षटरस, लेहस चोष्य भखि भोज्य रसाल

                                        जेंवत जाहि सराहि रस अति परसत रंग रंगली बाल
                                               श्रीहरिप्रिया परस्पर दोउ, परम प्रवीन पाल
                                                     गोपालजू को पान खबावति भामिनी,
                                               भोजन कर गवने जुगल, ललित कुंज विश्राम
                                   चैपर खेल बढ्यौ मन मोदा, फूल्यौ पिय अति सुनत विनोदा
                                                         प्रे्रम की चैसर खेले पिया प्यारी

                                                              दोउ पौढ़े हैं अलसाइ कैं

                                       वृन्दावन हित रूप जाउं बलि, रह्यौ रति रस सुख छाइ कै
                                                               विहरत सुमन सेज पर दोऊ

 

इस तरह की और भी निकुंज लीलाएँ है.हमने जो भी संतो के मुख से सुना और समझा उसे ही प्रस्तुत करने कि हमारी छोटी सी कोशश है.राधा माधव कि इन लीलाओं को ऐसा कौन है जो अपनी जिव्हा से गा सकता है.इसमें त्रुटि तो अवश्य ही होगी, जिसके लिए हम क्षमा प्रार्थी है.

 

DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
!! जय जय श्री राधे !!
Comments
2021-03-03 19:02:54 By Nikki

Kisne kaha ki hum log sirf Kunj Ras tak hi ja sakte hai. sadguru sadhan agar jis kisi ko mil jaye wo gud nibhrat nikunj bhi ja sakte hai. lekin sadguru sadhan sabko milta nahi hai.

2012-01-02 16:12:48 By INDER KRISHAN

VIRAY NICE ARTICAL,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

2011-12-22 00:38:44 By Harihar Padhi

Jai Radhe Krishna

2011-12-21 21:54:52 By yuvaraaj madhav paralikar.

jai radheraman.

2011-12-21 21:54:52 By yuvaraaj madhav paralikar.

jai radheraman.

2011-12-21 20:38:43 By Sukhi Ram Pakhala

radhe radhe ji

2011-12-21 20:37:14 By Sukhi Ram Pakhala

Radhe karishna ji radhe ji.

Enter comments


 
निकुज लीलाएँ
Last Viewed Articles
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
Copyright © radhakripa.in>, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here.