Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Yatra
Shanka
Health
Pandit Ji

श्री जगन्नाथ पुरी मंदिर

  Views : 3020   Rating : 5.0   Voted : 6
Rate Article

स्थान - पुरी भारत के उडीसा प्रान्त का एक जिला है.भारत के चार पवित्रतम स्थानों में से एक है पुरी, जहां समुद्र इस शहर के पांव धोता है.कहा जाता है कि यदि कोई व्यक्ति यहां तीन दिन और तीन रात ठहर जाए तो वह जीवन-मरण के चक्कर से मुक्ति पा लेता है.

यहाँ विश्व का सबसे बड़ा समुद्री तट है.पुरी एक ऐसा स्थान है जिसे हजारों वर्षों से कई नामों - नीलगिरी, नीलाद्रि, नीलाचल, पुरुषोत्तम, शंखश्रेष्ठ, श्रीश्रेष्ठ, जगन्नाथ धाम, जगन्नाथ पुरी - से जाना जाता है.पुरी में दो महाशक्तियों का प्रभुत्व है, एक भगवान द्वारा सृजित है और दूसरी मनुष्य द्वारा सृजित है।

 

श्री विग्रह -  पुरी के महान मन्दिर में तीन मूर्तियाँ हैं -

  1. भगवान जगन्नाथ,
  2. बलभद्र 
  3. उनकी बहन सुभद्रा की।

ये सभी मूर्तियाँ काष्ठ की बनी हुई हैं।

जगन्नाथ भगवान मंदिर

 

यह 65 मी. ऊंचा मंदिर पुरी के सबसे शानदार स्मारकों में से एक है.इस मंदिर का निर्माण 12वीं शताब्दी में चोडागंगा ने अपना राजधानी को दक्षिणी उड़ीसा से मध्य उड़ीसा में स्थानांतररित करने की खुशी में करवाया था.यह मंदिर नीलगिरी पहाड़ी के आंगन में बना है.

चारों ओर से 20 मी. ऊंची दीवार से घिरे इस मंदिर में कई छोट-छोटे मंदिर बने हैं.मंदिर के शेष भाग में पारंपरिक तरीके से बना सहन, गुफा, पूजा-कक्ष और नृत्य के लिए बना खंबों वाला एक हॉल है.इस मंदिर के विषय में वास्तव में यह एक आश्चर्यजनक सत्य है कि यहां जाति को लेकर कभी भी मतभेद नहीं रहे हैं.

 

"जय जय श्री राधे"


DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
!! जय जय श्री राधे !!
Comments
2012-01-05 21:08:34 By Munna kumar Shaw

Mai Shri Jagarnath Ji Ka darsan Karna Chahata Hu Shri Jagarnath ji ka bulaba aae ga to darsan pa lu ga thank you

2011-11-14 01:21:17 By kali prasad pandey

SHRI JAGANNATH SWAMI KI AASHIM ANUKAMPA SE MAI SAPRIWAR DO BAR DARSHAN KAR CHUKA HOON AUR PARBHU JAGATPATI SE BENTI KARTA HOON KI SAB KO DARSHAN DEN.

2011-08-17 15:23:30 By Ashish Rai

jai sri jagannath ji

2011-08-09 20:38:25 By Vipin Sharma

Bhagwan ki kripa se main is temple ke darshan kar aaya hoon. (12 days)

2011-08-07 06:08:09 By Gulshan Piplani

जय जय जय बोलो जगन नाथ की|जय जय जय बोलो बलदेव हाथ की|संग डोले सुभद्रा रानी जय बोलो उनके साथ की

2011-07-03 17:42:41 By yogini thakur

itni adbhut jankari dene ke liye bahut bahut shukriya ...........jai jai shri radhye

2011-06-30 01:55:22 By Amit

jai jagannath,baldev,subhadra ji ki jai.

2011-06-27 22:28:08 By DreamOdisha

Jai Jagannath [-o<

2011-06-22 19:49:35 By Ujjwal Jagnanathji Priya

jay jagnnath jay jagadisha

Enter comments


 
श्री जगन्नाथ पुरी मंदिर
Last Viewed Articles
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
Copyright © radhakripa.in>, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here.