Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji
  2145 days 4 hrs 17 mins ago By Ravi Kant Sharma
 इच्छाऐ कहा से उत्पन होती है?
जय श्री कृष्णा.... इच्छायें ईश्वर के द्वारा प्रत्येक व्यक्ति के प्रारब्ध के अनुसार मन में उत्पन्न की जाती हैं।.... जो सदैव पूर्ण होती हैं।.... जो इच्छायें पूर्ण नहीं होती हैं वह कामनायें होती हैं।..... जो कामनायें पूर्ण होती हुई प्रतीत होती हैं वह पूर्व जन्मों की कामनायें होती हैं जो इच्छा के रूप में प्रकट होती हैं।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2145 days 4 hrs 24 mins ago By Ravi Kant Sharma
 इच्छाऐ कहा से उत्पन होती है?
जय श्री कृष्णा.... इच्छायें ईश्वर के द्वारा प्रत्येक व्यक्ति के प्रारब्ध के अनुसार मन में उत्पन्न की जाती हैं।.... जो सदैव पूर्ण होती हैं।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2151 days 13 hrs 25 mins ago By Ravi Kant Sharma
 Sapno ka hakikat se kitna sambandh hai?

जय श्री कृष्णा.... जितना संबंध पृथ्वी का आकाश से होता है।..... जितना संबंध जीव का जगत से होता है।..... उतना संबंध सपनों का हकीकत से होता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2151 days 13 hrs 35 mins ago By Ravi Kant Sharma
 Hum jeevan me bhatak kisliye jaate hai ?
जय श्री कृष्णा.... व्यक्ति श्रद्धा के अभाव के कारण ल्क्ष्य से भटक जाता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2159 days 18 hrs 20 mins ago By Kiran Kejriwal
 tulsi krishan priya kyun hai
tulsi ka nam vrinda tha vrinda sat per thee unhone apna sat nahi chura aur bhagwan ko shrap de diya phir bhagwan ne saligram roop ma shadi ki aur tulsi nam diya bole bina tulsi ka meri pooja adhori ha ma bina tulsi ka bhog nahi lagawga
radhey radhey
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2160 days 14 mins ago By Nidhi Nema
 Hum jeevan me bhatak kisliye jaate hai ?
राधे राधे,जीवन में भटकन तब आती है जब हमें अपने जीवन का उद्देश्य ही ना पता हो,यदि मंजिल पता है,और रास्ता नहीं पता तो भी हम कैसे भी करके आपनी मंजिल पर पहुँच सकते है,पर यदि मंजिल ही ना पता हो तो रास्तो में ही भटकते रहगे.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2160 days 17 mins ago By Nidhi Nema
 Sapno ka hakikat se kitna sambandh hai?
राधे राधे,वास्तव में सपना और हकीकत दोनों ही मिथ्या है,सपने भी हकीकत नहीं है और जिसे हम हकीकत मानते है वह भी संसार भी मिथ्या ही है, सपनो का हकीकत से कोई सम्बन्ध नहीं है,दिनभर हमारे मन में जो विचार चलते है,वही सपनो के रूप में हमें दिखायी देते है,सपने कई तरह के होते है,जिनमे से कुछ सपने ही हकीकत होते है,बांकी सब कल्पनाये ही है.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2160 days 20 mins ago By Nidhi Nema
 tulsi krishan priya kyun hai
राधे राधे,इसे आप राधा कृपा के \"व्रज की तुलसी\" में पढ़ सकते है.कैसे वृंदा तुलसी बनी,क्यों वृंदा ने भगवान विष्णु को श्राप दिया,और वे कैसे भगवान कि इतनी प्रिय बन गई.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2162 days 16 hrs 23 mins ago By Kiran Kejriwal
 जीवन की परिभाषा क्या है?
sirf aur sirf prabhu ki niskam bhakti hamko khushhal jiwan de sakti ha
radhey radhey
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2164 days 21 hrs 48 mins ago By Kiran Kejriwal
 Ekadashi
ekadasi ka fast dwadasi ko triodasi ane ke pahle end karna chahya raja ambrish na yahi kiya tha durwash risi bhojan per aane wale the wo time per nahi aye triyidasi ane ma kuch hi chn bace tab raja ambrish tulsi lane lage tabhi durwasha rishi aa gaye aur shrap dene lage tab bhagwan shree haree pratyaksh pragat ho gaya
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2166 days 14 hrs 55 mins ago By Kiran Kejriwal
 क्या क्रोध अहंकार के साथ जुड़ा होता है
ahankar to kisi bhi chese ka ho sakta ha krodh ahankar se alag ha krodh bina ahankar ke bhi aa sakta ha
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2166 days 14 hrs 56 mins ago By Kiran Kejriwal
 क्या क्रोध अहंकार के साथ जुड़ा होता है
ahankar to kisi bhi chese ka ho sakta ha krodh ahankar se alag ha krodh bina ahankar ke bhi aa sakta ha
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2166 days 14 hrs 56 mins ago By Kiran Kejriwal
 क्या क्रोध अहंकार के साथ जुड़ा होता है
ahankar to kisi bhi chese ka ho sakta ha krodh ahankar se alag ha krodh bina ahankar ke bhi aa sakta ha
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2166 days 14 hrs 57 mins ago By Kiran Kejriwal
 क्या क्रोध अहंकार के साथ जुड़ा होता है
ahankar to kisi bhi chese ka ho sakta ha krodh ahankar se alag ha krodh bina ahankar ke bhi aa sakta ha
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2166 days 14 hrs 57 mins ago By Kiran Kejriwal
 क्या क्रोध अहंकार के साथ जुड़ा होता है
ahankar to kisi bhi chese ka ho sakta ha krodh ahankar se alag ha krodh bina ahankar ke bhi aa sakta ha
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2166 days 14 hrs 57 mins ago By Kiran Kejriwal
 क्या क्रोध अहंकार के साथ जुड़ा होता है
ahankar to kisi bhi chese ka ho sakta ha krodh ahankar se alag ha krodh bina ahankar ke bhi aa sakta ha
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2166 days 14 hrs 57 mins ago By Kiran Kejriwal
 क्या क्रोध अहंकार के साथ जुड़ा होता है
ahankar to kisi bhi chese ka ho sakta ha krodh ahankar se alag ha krodh bina ahankar ke bhi aa sakta ha
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2166 days 14 hrs 57 mins ago By Kiran Kejriwal
 क्या क्रोध अहंकार के साथ जुड़ा होता है
ahankar to kisi bhi chese ka ho sakta ha krodh ahankar se alag ha krodh bina ahankar ke bhi aa sakta ha
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2171 days 17 hrs 47 mins ago By Reena Jhamb
 क्या अध्यात्म को विज्ञान के द्वारा समझाया जा सकता है?
mere vichar se adhatham ka rasta shardhya aur bhav se shuru hota hai...baki sabka apna apna nazariya..
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2171 days 18 hrs 2 mins ago By Reena Jhamb
 satya kya he?
satya Ishwar hai... dharm ka ek charn.
jo kalyug mai ishwar ki sattya kayam rakh raha hai..
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2173 days 2 hrs 33 mins ago By Ravi Kant Sharma
 जीवन की परिभाषा क्या है?
जय श्री कृष्णा.... प्रत्येक व्यक्ति का जीवन दो प्रकार का होता है। (१) भौतिक जीवन और दूसरा आध्यात्मिक जीवन।..... व्यक्ति का जीवन व्यक्ति के स्वभाव पर निर्भर करता है।...... भौतिक जीवन प्रारब्ध पर आधारित होता है, और आध्यात्मिक जीवन वर्तमान स्वभाव पर आधारित होता है।..... जो व्यक्ति आध्यात्मिक स्वभाव में स्थित रहते हैं वही सभी प्रकार की चिन्ताओं से मुक्त खुशहाल जीवन व्यतीत कर पाते हैं।.... भौतिक स्वभाव में स्थित व्यक्ति सदैव चिन्ताग्रस्त होकर दुखमय जीवन जीते हैं।..... संसार में अधिकांश व्यक्ति मिश्रित जीवन जीते हैं।..... जीवन की संक्षिप्त परिभाषा:---- जैसा स्वभाव वैसा कर्म और वैसा ही फल।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2174 days 8 mins ago By Ravi Kant Sharma
 इच्छाओं का क्या?
जय श्री कृष्णा.... जो इच्छायें पूर्ण नहीं होती हैं वह कामनायें होती हैं, जो अगले जीवन में इच्छा रूप में प्रकट होकर पूर्ण होती हैं।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2174 days 13 mins ago By Ravi Kant Sharma
 क्या मृत्यु के बाद भी जीवन होता है?
जय श्री कृष्णा.... जीवात्मा का न कभी जन्म होता है और न ही कभी मृत्यु होती है।...... जीवात्मा के पिण्ड रूप शरीर का जन्म होता है और शरीर की ही मृत्यु होती है।...... जिस शरीर का जन्म होता है उसकी मृत्यु भी निश्चित होती है और जिस शरीर की मृत्यु होती है उसका जन्म भी निश्चित होता है।..... जीवात्मा के पिण्ड रूप शरीर के जन्म से लेकर मृत्यु तक का सफर ही जीवन कहलाता है।.... जिस प्रकार प्रत्येक रात्रि के बाद नवीन दिन की शुरुआत होती है उसी प्रकार प्रत्येक शरीर की मृत्यु के बाद नवीन जीवन की शुरुआत होती है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2174 days 27 mins ago By Ravi Kant Sharma
 क्या क्रोध अहंकार के साथ जुड़ा होता है
जय श्री कृष्णा.... जीव का मिथ्या अहंकार ही क्रोध के रूप में प्रकट होता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2174 days 30 mins ago By Ravi Kant Sharma
 satya kya he?
जय श्री कृष्णा.... संसार में जीवात्मा का विश्वास ही एक मात्र सत्य है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2178 days 17 hrs 13 mins ago By Kiran Kejriwal
 satya kya he?
satya sirf ek bhagwan ha
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2178 days 17 hrs 13 mins ago By Kiran Kejriwal
 satya kya he?
satya sirf ek bhagwan ha
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2180 days 15 hrs 7 mins ago By Gaurav Raj Bansal
 pitre dosh kise kehte hai??
apko darne ki awashyakta nhi he, ho sakta he ki prabhu apko kuch ishara kar rha ho lekin ap chinta na kare, ap us ishwar pr vishwash kare, wo apki madad karenge. hare krishna mantra ka jap kare......
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2186 days 21 hrs 49 mins ago By Aartii Mehta
 क्या मृत्यु के बाद भी जीवन होता है?
yes indeed a life where god tells us when were we nice and when were we wrong and then he sends us back on the planet to check how much did we learnt
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2195 days 57 mins ago By Rajat Sinha
 इच्छाओं का क्या?
achha prashn hai...
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2199 days 23 hrs 18 mins ago By Balvinder Aggarwal
 पाप किसे कहते हैं विस्तार से बतायें?
हरी ओम तत्सत :जीवन में किया वो हर मन,वचन,कर्म से किया हुआ कर्म जिससे किसी भी प्राणी मात्र का बुरा होता हो वोह पाप है
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2202 days 16 hrs 38 mins ago By Ravi Kant Sharma
 समर्पण के बाद भी मन अटक जाता है| मुझे क्या करना चाहिए?
जय श्री कृष्णा.... समर्पण के बाद भी मन अटकता है तो अभी पूर्ण समर्पण नहीं हुआ है।..... प्रभु के प्रति पूर्ण श्रद्धा के साथ रखकर निरन्तर समर्पण भाव में स्थिर रहने का अभ्यास करते रहना चाहिये।..... मन में इस विश्वास के साथ कि एक दिन प्रभु की शरणागति अवश्य प्राप्त होगी।..... शरणागति प्राप्त होने पर मन का अटकना स्वतः ही समाप्त हो जायेगा।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2205 days 23 hrs 57 mins ago By Ravi Kant Sharma
 एक भक्त की श्रद्धा को धक्का लग जाये तो वो क्या करे?
जय श्री कृष्णा.... किसी भी भक्त की श्रद्धा कभी विचलित नहीं हो सकती है, क्योंकि भक्त तो अपना मन भगवान को सोंप चुका होता है।....... जिस व्यक्ति की श्रद्धा डगमगा जाये वह भक्त नहीं हो सकता है।..... यदि ऎसा व्यक्ति स्वयं को भक्त समझ रहा होता है तो वह स्वयं के द्वारा ही ठगा जा रहा होता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2208 days 7 mins ago By Ravi Kant Sharma
 इच्छाओ का समर्पण !
जय श्री कृष्णा.... इच्छा और कामना का भेद जाने बिना इच्छाओं का समर्पण असंभव है।...... जो इच्छायें वर्तमान जीवन में पूर्ण होती हैं, केवल वही इच्छायें होती हैं और जो इच्छायें वर्तमान जीवन में पूर्ण नहीं होती हैं, वह कामनायें होती हैं।...... इच्छायें प्रारब्धवश प्रकृति के द्वारा स्वतः पूर्ण की जाती हैं, और कामनायें वर्तमान जीवन में कभी पूर्ण नहीं होती हैं।........ इसलिये व्यक्ति को अपनी सभी कामनायें भगवान को समर्पित कर देनी चाहिये।....... वर्तमान जीवन में स्वयं के प्रयासों से न तो इच्छायें ही कभी पूर्ण होती हैं और न ही कभी कामनायें पूर्ण हो सकती हैं।_________ यदि यह भेद समझ में न आये तो चिन्ता नहीं करनी चाहिये, तब इसे सार रूप से समझने का प्रयास करना चाहिये।........... सार यह है कि जो इच्छायें पूर्ण हो जायें उसे भगवान का प्रसाद समझना चाहिये, और जो इच्छाये पूर्ण न हों उन्हे भगवान को समर्पित कर देनी चाहिये।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2210 days 14 hrs 9 mins ago By Ravi Kant Sharma
 जीवन की परिभाषा क्या है?
जय श्री कृष्णा.... प्रत्येक व्यक्ति के जीवन की दो परिभाषा होती हैं।....... बाहरी जीवन की परिभाषा और दूसरी आन्तरिक जीवन की परिभाषा।..... बाहरी जीवन की परिभाषा के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति शरीर के सुख की कामना करता है, और आन्तरिक जीवन की परिभाषा के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति मन की शान्ति की कामना करता है।..... शरीर का सुख प्रत्येक व्यक्ति के पिछले जीवन के कर्म (प्रारब्ध) पर निर्भर होता है, और मन की शान्ति प्रत्येक व्यक्ति के वर्तमान कर्म पर निर्भर होती है।...... वर्तमान कर्म प्रत्येक व्यक्ति के स्वभाव पर निर्भर करता है।..... अपने हित की भावना बुरा-कर्म यानि पाप-कर्म और दूसरों की हित की भावना अच्छा-कर्म यानि पुण्य-कर्म।....... पाप कर्म का फल वर्तमान में मन की अशान्ति यानि अगले जीवन का शारिरिक दुख।........ पुण्य कर्म का फल वर्तमान में मन की शान्ति और अगले जीवन का शारीरिक सुख।........ जीवन की संक्षिप्त परिभाषा____जैसा स्वभाव वैसा कर्म और वैसा ही फल।...... ॥हरि: ॐ तत् सत्॥
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2211 days 29 mins ago By Vijay Mishra
 जीवन की परिभाषा क्या है?
ईश्वर को प्राप्त करना ,इसके लिए प्रारब्ध को सुनियोजित करना एवं साधन -समिधा जोड़ना . धर्म , अर्थ,काम तथा मोक्ष ,ये चार पुरुषार्थ हैं जो जीवन को सुखमय बनाने के ध्येय हैं ,इनपर विजय प्राप्त करना और व्यस्तता में मस्त रहना .ये खुशहाली के लक्षण हैं .
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2211 days 18 hrs 8 mins ago By Meenakshi Goyal
 आध्यात्मिक गुरु
बंदउँ गुरु पद कंज कृपा सिंधु नररूप हरि।
महामोह तम पुंज जासु बचन रबि कर निकर॥...................


मैं उन गुरु महाराज के चरणकमल की वंदना करता हूँ, जो कृपा के समुद्र और नर रूप में श्री हरि ही हैं और जिनके वचन महामोह रूपी घने अन्धकार का नाश करने के लिए सूर्य किरणों के समूह हैं॥.......................................................


चौपाई :


बंदऊँ गुरु पद पदुम परागा। सुरुचि सुबास सरस अनुरागा॥
अमिअ मूरिमय चूरन चारू। समन सकल भव रुज परिवारू॥.............


मैं गुरु महाराज के चरण कमलों की रज की वन्दना करता हूँ, जो सुरुचि (सुंदर स्वाद), सुगंध तथा अनुराग रूपी रस से पूर्ण है। वह अमर मूल (संजीवनी जड़ी) का सुंदर चूर्ण है, जो सम्पूर्ण भव रोगों के परिवार को नाश करने वाला है॥............................................................................


सुकृति संभु तन बिमल बिभूती। मंजुल मंगल मोद प्रसूती॥
जन मन मंजु मुकुर मल हरनी। किएँ तिलक गुन गन बस करनी॥...................


वह रज सुकृति (पुण्यवान्‌ पुरुष) रूपी शिवजी के शरीर पर सुशोभित निर्मल विभूति है और सुंदर कल्याण और आनन्द की जननी है, भक्त के मन रूपी सुंदर दर्पण के मैल को दूर करने वाली और तिलक करने से गुणों के समूह को वश में करने वाली है॥.........................................................


श्री गुर पद नख मनि गन जोती। सुमिरत दिब्य दृष्टि हियँ होती॥
दलन मोह तम सो सप्रकासू। बड़े भाग उर आवइ जासू॥...................


श्री गुरु महाराज के चरण-नखों की ज्योति मणियों के प्रकाश के समान है, जिसके स्मरण करते ही हृदय में दिव्य दृष्टि उत्पन्न हो जाती है। वह प्रकाश अज्ञान रूपी अन्धकार का नाश करने वाला है, वह जिसके हृदय में आ जाता है, उसके बड़े भाग्य हैं॥.........................................................


उघरहिं बिमल बिलोचन ही के। मिटहिं दोष दुख भव रजनी के॥
सूझहिं राम चरित मनि मानिक। गुपुत प्रगट जहँ जो जेहि खानिक॥...................


उसके हृदय में आते ही हृदय के निर्मल नेत्र खुल जाते हैं और संसार रूपी रात्रि के दोष-दुःख मिट जाते हैं एवं श्री रामचरित्र रूपी मणि और माणिक्य, गुप्त और प्रकट जहाँ जो जिस खान में है, सब दिखाई पड़ने लगते हैं॥............................................................................


दोहा :


जथा सुअंजन अंजि दृग साधक सिद्ध सुजान।
कौतुक देखत सैल बन भूतल भूरि निधान॥...................


जैसे सिद्धांजन को नेत्रों में लगाकर साधक, सिद्ध और सुजान पर्वतों, वनों और पृथ्वी के अंदर कौतुक से ही बहुत सी खानें देखते हैं॥...............................................................................................


चौपाई :


गुरु पद रज मृदु मंजुल अंजन। नयन अमिअ दृग दोष बिभंजन॥
तेहिं करि बिमल बिबेक बिलोचन। बरनउँ राम चरित भव मोचन॥...................


श्री गुरु महाराज के चरणों की रज कोमल और सुंदर नयनामृत अंजन है, जो नेत्रों के दोषों का नाश करने वाला है। उस अंजन से विवेक रूपी नेत्रों को निर्मल करके मैं संसाररूपी बंधन से छुड़ाने वाले श्री रामचरित्र का वर्णन करता हूँ॥..................................................................................................................
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2211 days 18 hrs 44 mins ago By Meenakshi Goyal
  अनुशासन पालन ?
bhagwan ke charnon mei ankush ka chinh hai jiska dhyan karne se apne aap jeevan mei anshusan aa jata hai.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2211 days 18 hrs 44 mins ago By Meenakshi Goyal
  अनुशासन पालन ?
bhagwan ke charnon mei ankush ka chinh hai jiska dhyan karne se apne aap jeevan mei anshusan aa jata hai.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2211 days 18 hrs 45 mins ago By Meenakshi Goyal
  अनुशासन पालन ?
bhagwan ke charnon mei ankush ka chinh hai jiska dhyan karne se apne aap jeevan mei anshusan aa jata hai.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2212 days 18 hrs 16 mins ago By Meenakshi Goyal
  कोई संत है और कोई चोर - ऐसा क्यों?
bhagwat mei kapil bhagwaan maata devhuti se kehte hain aatma shuddh hai vah parmatma ka ansh hai agyat ke karan man ke sukh dukh ka aatma apne mei aarop kar leti hai. jagat bigda nahin hai, man bigda hai. aapke man ko kaun sudhar sakta hai? apne man ko aap swayam hi sudhar sakenge. mata! laukik vasna se hi man bigadta hai aur vahi man alaukik vasna se sudharta hai . kisi manav se milne ki ichchha ko vasna kehte hain, parmatamaa shri krishn se milne ki ichchha ko bhakti kehte hain. vasna ka vishy jab koi stri-purush ho to vah patan karati hai. vasna ka vishy jab parmatama hain to vah bhakti ho jaati hai. vasna ka vinash vasna se hi karna hai. lohe ko lohe se hi katna padta hai. any kisi dhatu se loha nahin kata jaa sakta. vasna lohe jaisi hai. vah kathin, hai bhayankar hai. atah vasna se hi vasna ka vinash karna hai............................................man paani jaisa hai vah hamesha uppar se neeche hi girta hai par parmatama uppar baithe hain. man bhagwaan ke charnon mei nahin jaata vah sada sansar mei hi lagta hai aur neechche aur neeche girta chala jata hai. par jis tarhan yantr ke dwara pani ko uppar panchvi manzil par bhi chadha sakte ho usi tarha aap man ko mantr ke dwara prabhu mei laga sakte ho. isiliye naam jap ki agya di hai.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2212 days 18 hrs 17 mins ago By Meenakshi Goyal
  कोई संत है और कोई चोर - ऐसा क्यों?
bhagwat mei kapil bhagwaan maata devhuti se kehte hain aatma shuddh hai vah parmatma ka ansh hai agyat ke karan man ke sukh dukh ka aatma apne mei aarop kar leti hai. jagat bigda nahin hai, man bigda hai. aapke man ko kaun sudhar sakta hai? apne man ko aap swayam hi sudhar sakenge. mata! laukik vasna se hi man bigadta hai aur vahi man alaukik vasna se sudharta hai . kisi manav se milne ki ichchha ko vasna kehte hain, parmatamaa shri krishn se milne ki ichchha ko bhakti kehte hain. vasna ka vishy jab koi stri-purush ho to vah patan karati hai. vasna ka vishy jab parmatama hain to vah bhakti ho jaati hai. vasna ka vinash vasna se hi karna hai. lohe ko lohe se hi katna padta hai. any kisi dhatu se loha nahin kata jaa sakta. vasna lohe jaisi hai. vah kathin, hai bhayankar hai. atah vasna se hi vasna ka vinash karna hai............................................man paani jaisa hai vah hamesha uppar se neeche hi girta hai par parmatama uppar baithe hain. man bhagwaan ke charnon mei nahin jaata vah sada sansar mei hi lagta hai aur neechche aur neeche girta chala jata hai. par jis tarhan yantr ke dwara pani ko uppar panchvi manzil par bhi chadha sakte ho usi tarha aap man ko mantr ke dwara prabhu mei laga sakte ho. isiliye naam jap ki agya di hai.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2212 days 19 hrs 58 mins ago By Ravi Kant Sharma
  कोई संत है और कोई चोर - ऐसा क्यों?
जय श्री कृष्णा.... यदि प्रश्न करने वाले ने और उत्तर देने वाले ने यह मान ही लिया है कि सब कुछ भगवान है।.......... जो प्रश्न करने वाला हुआ वही तो उत्तर देने वाला हुआ यानि जो संत है वही चोर है और जो चोर है वही तो संत है।.......मैं ही तो आप हूँ प्रभु जी, आप ही तो मैं हूँ।........ इस ज्ञान अग्नि में तो सत, रज और तम गुण भस्म हो गये।......अब तो आनन्द ही आनन्द है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2214 days 1 hrs 8 mins ago By Meenakshi Goyal
 भगवान के अवतारों की कुल कितनी संख्या है ?
parmatma ke prati prem badhane ke liye vyaasji 24 avtaron ki katha kehte hain. Parmatma ke pradhan avtaar 24 mane gaye hain. In 24 avtaron ki katha bhagwat shastr mei varnit hai.-------
Pratham avtaar (1)sanatkumaron ka hai. Sanatkumar brahmachary ka pratik hain. Brahmchary ke palan se antahkaran shudh hota hai.......
Dusra avtar (2)varah ka hai. Varah arthat shreshth divas. Jis din satkarm hota hai, vah shreshth din hai. Satkarm mei vighn lata hai lobh. Lobh ko santosh se mariye. Varah avtaar santosh ka hai. Prabhu jis sthiti mei rakhte hain, us sthiti mei santosh rakhna is avtaar ka yahi rehasya hai......
Teesra avtaar (3)naradji ka hai. Naaradji bhakti ke avtaar hain. Brahmchary ke palan se aur prapt sthiti mei santosh rakhne se bhakti milti hai......
Chautha avtaar (4)nar-narayan ka hai. Bhakti dwara bhagwan milte hain par bina gyan-vairagy ke bhakti drid nahin ho sakti. Bhakti mei gyan-vairagy ki avashyakta hai......
Panchva avtar (5)kapil dev ka hai. Kapildev arthat murtimaan gyan-vairagy. Gyan aur vairagya ke sath bhakti hogi to bhakti sadaiv ke liye sthir hogi.........
Chhatha avtar hai (6)datatraiy ka. Brahmchary, santosh, bhakti, gyan aur vairagy hoga to aap atri banenge. Atri arthat gunaatit. Gunaatit honge, atri honge to aapke ghar aatraiye-datatraiy aayenge......
Satva avtar (7)yagy ka hai.....
Aanthva (8)rishabhdev ka.......
Naunva (9)prithuraj ka........
Dasva (10)matsynarayan ka......
Gyarvanhva avtaar (11)kurma ka.....
Barvanh (12)dhanvatri ka........
Terahva avtaar (13)mohini narayan ka.....
Chaudvanh avtaar (14)narsinh swami ka hai. Ve pushti avtaar hai. Is avtaar mei bhagwan ne prahladji par kripa ki hai. prahladji jaisi drishti rakhenge to sarvaatr khambe mei bhi aapko bhagwan ke darshan honge. Ishvar sarvvyapak hain aisa bolne se nahin par anubhuti se paap rukta hai. Aap paap chhodna chahte hain to sarvatr ishvar ke darshan kijiye.....
Pandrahva avtaar (15)vamandev ka. Jo purn nishkaam hai. jo ishvar ki nirantar bhakti karta hai aur dharm ka acharan karta hai use bhagwan bhi nahin maar sakte. Parmatma bade hain fir bhi baliraja ke dwaar par vaman bane hain.......
Solhva avtaar (16)parshuraamji ka aavesh avtar hai......
Satrahva Avtaar (17)vyaasnarayan ka gyanavtar hai......
Atharvan avtaar (18)ramji ka hai. Ramji maryada purshottam hain . Ramji ki maryada ka palan karenge to kanhaiya aayenge......
Unnisva avtaar (19)shri balramji ka hai......
Bisva avtar (20)shri krishn ka hai.....
Ikisva (21)buddh avtaar hai aur baisvan (22)kalki avtar hai jo ki abhi aane wale hain.... Ismei (23) dharm aur (24) manu ke do avtaar aur ginne se bhagwaan ke kul milakar chaubis avtaar hain....
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2214 days 1 hrs 9 mins ago By Meenakshi Goyal
 भगवान के अवतारों की कुल कितनी संख्या है ?
parmatma ke prati prem badhane ke liye vyaasji 24 avtaron ki katha kehte hain. Parmatma ke pradhan avtaar 24 mane gaye hain. In 24 avtaron ki katha bhagwat shastr mei varnit hai.-------
Pratham avtaar (1)sanatkumaron ka hai. Sanatkumar brahmachary ka pratik hain. Brahmchary ke palan se antahkaran shudh hota hai.......
Dusra avtar (2)varah ka hai. Varah arthat shreshth divas. Jis din satkarm hota hai, vah shreshth din hai. Satkarm mei vighn lata hai lobh. Lobh ko santosh se mariye. Varah avtaar santosh ka hai. Prabhu jis sthiti mei rakhte hain, us sthiti mei santosh rakhna is avtaar ka yahi rehasya hai......
Teesra avtaar (3)naradji ka hai. Naaradji bhakti ke avtaar hain. Brahmchary ke palan se aur prapt sthiti mei santosh rakhne se bhakti milti hai......
Chautha avtaar (4)nar-narayan ka hai. Bhakti dwara bhagwan milte hain par bina gyan-vairagy ke bhakti drid nahin ho sakti. Bhakti mei gyan-vairagy ki avashyakta hai......
Panchva avtar (5)kapil dev ka hai. Kapildev arthat murtimaan gyan-vairagy. Gyan aur vairagya ke sath bhakti hogi to bhakti sadaiv ke liye sthir hogi.........
Chhatha avtar hai (6)datatraiy ka. Brahmchary, santosh, bhakti, gyan aur vairagy hoga to aap atri banenge. Atri arthat gunaatit. Gunaatit honge, atri honge to aapke ghar aatraiye-datatraiy aayenge......
Satva avtar (7)yagy ka hai.....
Aanthva (8)rishabhdev ka.......
Naunva (9)prithuraj ka........
Dasva (10)matsynarayan ka......
Gyarvanhva avtaar (11)kurma ka.....
Barvanh (12)dhanvatri ka........
Terahva avtaar (13)mohini narayan ka.....
Chaudvanh avtaar (14)narsinh swami ka hai. Ve pushti avtaar hai. Is avtaar mei bhagwan ne prahladji par kripa ki hai. prahladji jaisi drishti rakhenge to sarvaatr khambe mei bhi aapko bhagwan ke darshan honge. Ishvar sarvvyapak hain aisa bolne se nahin par anubhuti se paap rukta hai. Aap paap chhodna chahte hain to sarvatr ishvar ke darshan kijiye.....
Pandrahva avtaar (15)vamandev ka. Jo purn nishkaam hai. jo ishvar ki nirantar bhakti karta hai aur dharm ka acharan karta hai use bhagwan bhi nahin maar sakte. Parmatma bade hain fir bhi baliraja ke dwaar par vaman bane hain.......
Solhva avtaar (16)parshuraamji ka aavesh avtar hai......
Satrahva Avtaar (17)vyaasnarayan ka gyanavtar hai......
Atharvan avtaar (18)ramji ka hai. Ramji maryada purshottam hain . Ramji ki maryada ka palan karenge to kanhaiya aayenge......
Unnisva avtaar (19)shri balramji ka hai......
Bisva avtar (20)shri krishn ka hai.....
Ikisva (21)buddh avtaar hai aur baisvan (22)kalki avtar hai jo ki abhi aane wale hain.... Ismei (23) dharm aur (24) manu ke do avtaar aur ginne se bhagwaan ke kul milakar chaubis avtaar hain....
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2214 days 17 hrs 14 mins ago By Meenakshi Goyal
 ham rishiyon ki santan hain ya bandar ki santan hain?
Aasmaan mei sapt rishi darshan dete hain. Bharat rishiyon ka desh hai. Aap sab rishiyon ki santan hain. Aap sabhi ka vansh kisi rishi ke vansh mei hua hai. Aajkal logon ko apne gautr tak ka pata nahin hota hai. Ek bhai se hamne puchha aapka gautr kaunsa hai? Unhone kaha ki maharaj ! England ka sara itihas janta hun par gautr ke vishay mei kuchh pata nahin hai. Pratyek satkarm ke prarambh mei gautrochar karna padta hai. \" Vashishth- gautrutpannoham\'....shandilye gautrutpannoham\" Log pardes ka itihas jante hain par bharat ka itihaas nahin jante hain. Bharat rishi-muniyon ka desh hai.
Kai log aisa samajh rahe hain ki jo brahman hota hai, vahi rishi ki santan ke rup mei sammanniye hai par vastutah aisa nahi hai. Jinka janam bharat mei hua hAi, ve brahman, shatriye, vaishy, shudr koi bhi kyun na hon, sabhi rishiyon ki santan hain. Ye sabhi parmatma ke ang hain. Rishiyon ka smaran rakhiye. Rishiyon ke smaran se man shuddh hota hai. Aap kahin bhi jaiye, paise ke liye koi bhi pravriti kariye par itna yaad rakhiye ki main rishi ki santan hun. Mere purvaj mahan rishi the. Apne purvajon ke marg par-rishiyon ke marg par mujhe chalna hai. Ye sapt rishi hamare purvaj hain. Aaj bhi ve tap karte hain, jisse bharat ki praja sukhi ho. Aakaash mei saat rishi darshan dete hain. Sapt rishi ke sat taare saari rat dhruvmandal ki pradakshina karte hain. Subha chaar baje uttar disha mei ast hote hain fir ye sandhya karne baithte hain. kai logon ko sapt rishiyon ke naam ka bhi pata nahin hai. ----(1) vishvamitr, (2) jamadgni, (3) bharat, (4) atri, (5)vashishth, (6) kashyap aur (7) gautam. Ye saaton rishi vivahit hain. Par saat rishiyon mei matr vashishthji ki dharmpatni arundhati ko hi rishiyon ke saath baithne ka adhikar hai. Anya koyi stri rishiyon ke saath nahi baith sakti. Arundhati mahan tapaswini hain, brahmvadini hain. Puranon mei ma arundhati ki katha aati hai. Ma arundhati jab sabha mei padharti thin tab bade-bade rishi khade hokar unka samman karte the. Ve sabha mei arundhati maa ko sashtang vandan karte the. Sant samaj mei, rishi samaj mei maa arundhati ko bahut samman mila hai. Aasmaan mei arundhati ka tara hai. Jo aasmaan mei arundhati ke taare ko nahi dekh sakta. Use samajhna chahiye ki ab ek varsh mei vah marne wala hai. Ghabraiye nahin sabhal jaiye aur seva aur jap kijiye.----- ye prasang maine shri dongrey ji maharj ke shrimadbhagwat rasamrit se liya hai. Padhkar Mujhe achchha laga tha mujhe laga aap sabke saath share karna chahiye. Jai jai shri radhe.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2215 days 17 hrs 28 mins ago By Ravi Kant Sharma
 ham rishiyon ki santan hain ya bandar ki santan hain?
जय श्री कृष्णा.... गीता में भगवान श्री कृष्ण कहते हैं........ मेरी यह जड़ प्रकृति ही गर्भ धारण करने वाली माता है और मैं ही ब्रह्म रूप में चेतन-रूपी बीज को स्थापित करने वाला पिता हूँ।.....सृष्टि में न तो कोई माता है और न ही कोई पिता है।....... इस जड़-चेतन के संयोग से ही सभी चर-अचर प्राणीयों का जन्म सम्भव होता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2215 days 21 hrs 14 mins ago By Meenakshi Goyal
 क्या महत्वपूर्ण हैं: वेदांत, ज्ञान या प्रेम ?
Vedant kehta hai, parmatma ke darshan aankh se nahin hote hain. Dekhne ki shakti aankh ke pass hai aur is shakti ko dene wale ishvar hain. Jin prabhu ne aankhon ko dekhne ki shakti di hai, ve aankhen bhagwaan ko dekh nahin saktin. Vedant ka siddhant hai - ishvar drishy nahin hai, ishvar drishta hai. Vedant darshan drishta ka dArshan hai. Vedant kehta hai jo dikhayi deta hai, jo drishy hai vah shan-shan mei parivartit hota hai. Jo dikhayi deta hai vah drishyrup hai. Parmatma dikhayi nahin dete hain. Charm chakshu se koi bhi parmatma ke darshan nahin kar sakta.
Vaishnav siddhant hai; ki parmatma ki baat satya hai, prantu bhakti-prem jab atyadhik badhta hai tab bhakt drishta banta hai aur bhagwaan drishy ban jaate hain. Gopiyon ka prem itna badh gaya ki parmatma ko drishy hona pada. Bhakti bhagwan ko drishy banati hai, bhakti mei aisi shakti hai.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2215 days 21 hrs 14 mins ago By Meenakshi Goyal
 क्या महत्वपूर्ण हैं: वेदांत, ज्ञान या प्रेम ?
Vedant kehta hai, parmatma ke darshan aankh se nahin hote hain. Dekhne ki shakti aankh ke pass hai aur is shakti ko dene wale ishvar hain. Jin prabhu ne aankhon ko dekhne ki shakti di hai, ve aankhen bhagwaan ko dekh nahin saktin. Vedant ka siddhant hai - ishvar drishy nahin hai, ishvar drishta hai. Vedant darshan drishta ka dArshan hai. Vedant kehta hai jo dikhayi deta hai, jo drishy hai vah shan-shan mei parivartit hota hai. Jo dikhayi deta hai vah drishyrup hai. Parmatma dikhayi nahin dete hain. Charm chakshu se koi bhi parmatma ke darshan nahin kar sakta.
Vaishnav siddhant hai; ki parmatma ki baat satya hai, prantu bhakti-prem jab atyadhik badhta hai tab bhakt drishta banta hai aur bhagwaan drishy ban jaate hain. Gopiyon ka prem itna badh gaya ki parmatma ko drishy hona pada. Bhakti bhagwan ko drishy banati hai, bhakti mei aisi shakti hai.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2216 days 39 mins ago By Ravi Kant Sharma
  अनुशासन पालन ?
जय श्री कृष्णा.... भगवान के विधान के अनुसार यानि शास्त्र विधि के अनुसार बुद्धि के द्वारा मन को वश में करके इन्द्रियों पर शासन करना ही \"अनुशासन पालन\" कहलाता है।......... प्रत्येक जीव अपनी इन्द्रियों का स्वामी स्वयं होता है।...... संसार में प्रत्येक व्यक्ति शरीर के सुख और मन की शान्ति के लिये ही कर्म करता है।........ जीवन में अनुशासन पालन करने पर ही व्यक्ति को शारीरिक सुख और मानसिक शान्ति प्राप्त हो सकती है।....... अनुशासन पालन न करने से शारिरिक दुख और मानसिक अशान्ति ही प्राप्त होती है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2217 days 21 hrs 37 mins ago By Ravi Kant Sharma
 pitre dosh kise kehte hai??
जय श्री कृष्णा.... भगवान श्री कृष्ण गीता में कहते हैं.... सर्वधर्मान्परित्यज्य मामेकं शरणं व्रज। अहं त्वा सर्वपापेभ्यो मोक्षयिष्यामि मा शुचः॥....... अपने सभी कर्तव्य-कर्मों को मन से त्याग करके मेरी शरण में आ जाओ, मैं तुम्हें सभी दोषों से मुक्त कर दूँगा, चिन्ता न करो।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2219 days 20 hrs 5 mins ago By Meenakshi Goyal
 क्या महत्वपूर्ण हैं: वेदांत, ज्ञान या प्रेम ?
केवल प्रेम..........................................

एहिं कलिकाल न साधन दूजा। जोग जग्य जप तप ब्रत पूजा॥
रामहि सुमिरिअ गाइअ रामहि। संतत सुनिअ राम गुन ग्रामहि॥3॥

भावार्थ:- इस कलिकाल में योग, यज्ञ, जप, तप, व्रत और पूजन आदि कोई दूसरा साधन नहीं है। बस, श्री रामजी का ही स्मरण करना, श्री रामजी का ही गुण गाना और निरंतर श्री रामजी के ही गुणसमूहों को सुनना चाहिए॥3॥

..................................................
सब जानत प्रभु प्रभुता सोई। तदपि कहें बिनु रहा न कोई॥
तहाँ बेद अस कारन राखा। भजन प्रभाउ भाँति बहु भाषा॥1॥

भावार्थ:-यद्यपि प्रभु श्री रामचन्द्रजी की प्रभुता को सब ऐसी (अकथनीय) ही जानते हैं, तथापि कहे बिना कोई नहीं रहा। इसमें वेद ने ऐसा कारण बताया है कि भजन का प्रभाव बहुत तरह से कहा गया है। (अर्थात भगवान की महिमा का पूरा वर्णन तो कोई कर नहीं सकता, परन्तु जिससे जितना बन पड़े उतना भगवान का गुणगान करना चाहिए, क्योंकि भगवान के गुणगान रूपी भजन का प्रभाव बहुत ही अनोखा है, उसका नाना प्रकार से शास्त्रों में वर्णन है। थोड़ा सा भी भगवान का भजन मनुष्य को सहज ही भवसागर से तार देता है)॥1॥
.................................................
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2219 days 20 hrs 12 mins ago By Meenakshi Goyal
 क्या महत्वपूर्ण हैं: वेदांत, ज्ञान या प्रेम ?
shrimadbhagwat mei gyan aur vairagya ko bhakti maharani ke putr bataya gaya hai
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2219 days 20 hrs 14 mins ago By Meenakshi Goyal
 क्या महत्वपूर्ण हैं: वेदांत, ज्ञान या प्रेम ?
तुम किसी को जाने बिना उसे पसन्द नहीं कर सकते। अहर तुम्हे गुलाब जामुन पसन्द है,तो उसके बारे में जानना ज्ञान योग है। उसे खरीद कर खाना कर्म योग है, और उसे पसन्द करना भक्ति योग है। भक्ति मतलब पसन्द करना। जब तुम किसी चीज़ को पसन्द करते हो तो उसके बारे में जानने की इच्छा स्वाभाविक ही उठती है। तीनो एकसाथ चलते हैं।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2219 days 22 hrs 27 mins ago By Meenakshi Goyal
 mann itna chanchal kyon hai???
bhagwat mei shaunak muni ne sutji se sundar prashan puchha hai- \'bhagwaan ki bhakti karte hain par anand kyun nahin milta?\' bhakti kar rahe hain aur anand nahin mil raha hai to samajhana chahiye ki bhakti mei kuchh bhul ho rahi hai. jo samuchit rup se bhakti karta hai, use anand milta hi hai, anand milna hi chahiye. barf ka sparsh karne wale ko thand lagni hi chahiye. parmatma anandmay hain. anandmay parmatama ki bhakti karne wale ko anand milta hi hai. kai jan tan se bhakti karte hain, kai dhan se bhakti karte hain, par man se bhakti karne wale bahut kam hain. isse bhakti mei anand nahin milta hai. bhakti mei tan aur dhan gaun hain or man mukhya hai. manushy prayah kriyatmak bhakti karta hai. jab bhaavaatmak bhakti hoti hai tab anand milta hai. man se bhakti karne wale ko aanand milna hi chahiye. par manav man se bhakti nahin karta hai. uska man vasna dor ke saath sansar ke vishyon se bandha hua hai. yah vasna ki dor chhod de to man parmatma ka sparsh kar sakta hai.
man ghar mei or tan mandir mei hai. aisi bhakti kis kaam ki? vasna ki dor chodni hi padegi . sansar ke vishay meethe lagte hain. isi se man vishyon se prem karta hai. jise sansar priye lagta hai vah sansar ki bhakti karta hai. sansaar saral lagta hai isse man sansar mei fasa hai parantu sansar to jhutha hai or sansar ka sukh bhi jhutha hai. sansar ka koi bhi sukh teen chaar minute se adheek tikta hi nahin hai. sansar ka sukh dukh hi hai aisi pratiti hone par man sansar se hat jata hai. aur sansari sukh ko dukh manne wale ka man parmatama ke shri charnon mei jata hai. man ko bar bar samjhaiye. sachcha sukh sansar mei nahin hai. sansar jhutha hai or sansar ka sukh bhi jhutha hai. sansar ke sabhi sukh jise tuchchh lagte hain vahi bhagwaan ki bhakti karta hai.
dheere dheere sanyam ko badhaiye. kisi bhi sukh ko bhogne se pehle dukh bhogna padta hai aur sukh bhogne ke bad bhi dukh sehna padta hai. sansar ka sukh sachcha sukh nahin hai. sukh bhogne se pehle aur bad mei bhi dukh hai, aisa sochne se vishwas hoga ki sansar saras nahin hai. sansar jisne banaya hai vah saras hai. rasmay to wahi sansar ka srijak parmatma hai dheere dheere sanyam badhaiye. vairagya ka abhyaas kijiye to bhakti mei anand milega. prabhu mei prem jagrat karne ke liye katha suniye. prem se nirantar jap kijiye to anand milega. parmatma ke nirantar jap se prabhu ke prati prem badhega. parmatma ke prati prem badhane ke liye chaubis avtaron ki katha kehte hain. parmatma ke pradhan avtaar chaubis mane gaye hain. in chaubis avtaron ki katha bhagwat mei varnit hai.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2220 days 18 hrs 10 mins ago By Meenakshi Goyal
 आध्यात्मिक गुरु
jab jeev yogya banta hai, sad-shishy banta hai, tab parmatma use sadguru ke darshan karwate hain. jise parmatma se milne ki tivr ichchha hai, use sant milte hi hain. jise sansar meetha lagta hai, use sant ke darshan nahin hote hain- aur sant ka milna ho to bhi uske man mei sant ke prati sadbhaav nahin jagte hain.
maaya manushy ko do tarha se maarti hai. ghar mei sab tarhan ki anukulta hoti hai, tab maya bhakti nahin karne deti hai. tab manushy mei adhik ikattha karne ki ichchha hoti hai jiska kaam kaaj achchha chalta hai, use bhakti karne ka samay nahin milta hai. jise ghar mei anukulta milti hai vah bhakti nahin karta hai. vah to adhik sukh bhogta hai. ghar mei pratikulta rehne par manushy pidit hota hai. kaam mei nuksan ho aur koi kahe ki aap parmatma ki bhakti kariye, tab vah kehta hai ki mera man ashant ho gaya hai. is prakar sab tarhan ki anukulta milne par vaasnaa badhti hai, lobh badhta hai aur jeev adhik sukh bhogta hai tatha pratikul paristhiti mei manav haay haay karta hai . is tarhan maya jeev ko shanti se bhakti karne nahin deti. Kisi se aap kahen ki aap katha sunne chaliye to vah kahega ki is ritu mei in logon ne katha kyun rakhi hai? Yah to hamare kmaane ki ritu hai. Garmi ke dinon mei katha rakhi hoti to achchha tha. Manav ki aisi hi prakarti hai uska yah swabhav hai. Ise jo kuchh mila hai, vah use pasand nahin aata aur jo nahin mila hai vah use pasand hai. Manushy ko apni prapt paristhiti se santosh nahin hai, atah vah shanti se bhakti nahin kar sakta hai.
bhagwaan se bhi sadguru shreshth hain, aisa kehne se bhagwaan ko bura nahin lagta. Santon ki prashansa sunkar bhagwaan atyant khush hote hain. Parmatma ne is sansar ki rachna hi aisi ki hai ki prayah sab ka man sansar mei fasa rehta hai. Sansar ki rachna aisi hai tatha sansar ke vishyon mei maya ne aisa aakarshan bhar diya hai ki sansar jeev ko meetha lagta hai, sundar lagta hai. Nav-yuvakon ko nakhon mei, balon mei, saundary dikhta hai. Ve sochte hain baal bahot sundar hain. Are ! baalon mei kya saundarya ? nakh aur baal to sharir ka mail hain. Hamare shastron mei likha hai ki bhojan karte huye ann mei baal aa jaye to ann nahin khana chahiye. Baal ke sparsh se bhojan ashudh ho jata hai. Maya manav ko moh grahst karke aisa samjha deti hai ki nakhon aur baalon mei saundarya hai. Vah purush ke man aur aankhon mei aisa moh jagrat kar deti hai ki use stri ke sharir mei saundarya dikhayi deta hai. Stri ki aankhon aur man mei bhi aisa hi moh jagrat kar deti hai ki use purush mei saundarya dikhayi deta hai. Parantu sundar to keval parmatma shri krishn hi hain.
Shant man se dhyan karenge to is sharir mei kya achchha hai? Aankhon se , kanon se , mukh se mal hi to nikalta hai. Durgandh se bhara yah sharir hai ! fir bhi manav yah samajhta hai ki yah sharir bahot sundar hai. Prabhu ne manav mei aisa moh na rakha hota to sab bhagwaan ki bhakti karte hote. Prabhu ne aisa moh tattv kyun banaya hai? Yahi samajh mei nahin aata hai. Prabhu aisa soch rahe honge ki sab bhakti karenge to mere vaikunth mei bheed ho jayegi. Sab vaikunth mei na aa saken aur sansar mei fase rahen- isliye shayad prabhu ne manav mei aisa moh rakha hoga. Jeev sansar mei fasa rehta hai. Use sansar meetha lagta hai, saras lagata hai aur uski prabhu ke darshan ki ichchha hi nahin hoti hai. Prabhu ne jeev ko sansaar mei fasa kar rakha hai.

…………………………………………………..guru brahma guru vishnu guru devo maheshvara !
guru sakshat para brahma tasmay shri guruve namah !!!!!!.....................................................

sadguru sadshishy ko samjhate hain – are ! bahut sundar nahin hai par sansaar jisne banaya hai, vahi bahut sundar hai. Maya ne tumhe mohit kar rakha hai . tumhari buddhi bhrasht kar di gayi hai, isse tumhe sansar mei saundary dikhayi deta hai. Sansar ek bageecha hai. Log is bageeche ko dekhte hain. Jab bageecha itna sundar hai tab bageeche ko banane wala kitna sundar hona chahiye, karan ke gun karya mei aate hi hain. Sansar karya hai, parmatma karan hain. Parmatma atyant sundar hain.
Prabhu ne sansar ke vishyon mei aisa akarshan bhara hai ki sansar rulata hai, trast karta hai fir bhi vah meetha hi lagta hai. Manav ke man mei se moh jaata hi nahin hai. Sadguru sadshishy ke moh ko nikalte hain. Sadguru sadshishy ko prabhu ki or le jate hain. Parmatma jeev ko sansar mei fansa kar rakhte hain. Sadgurudev jeev ko prabhu ki or le jaate hain. Ham swayam sochen ki sadguru shreshth hain ki parmatma shreshth hain?
Gurudev brahma ji ka swarup hain. Jinhen sadguru mile hain, unhen naya janam hi mila hai. Mata-pita dwara jo janam milta hai use itna pavitr nahin mana gaya hai. Sadguru jab shiksha dete hain tab naya janam milta hai. Diksha se manav mei manavta aa jati hai parantu jab sadguru diksha dete hain, tab manav dev ban jata hai. Diksha naya janam hai. Sadguru sadshishy ko naya janam dete hain. Jise sant ka milna nahin hua hai, jo parmatma ke liye sadhan nahin karta hai, vah manav pashu ke jaisa hai. Sansar ka vyavahar to pashu pakshi bhi karte hain. Pakshi bhi ghonsla banata hai. Tab fir manav ki vishesta kya hai? Sant aisa varnan karte hain ki jo bhagwaan ki bhakti nahin karte hain, parmatma ke liye sadhan nahin karte hain vah pashu se bhi tuchchh hain. Kutte ko jis ghar se roti ka tukada milta hai vah us ghar ki rat bhar rakhwali karta hai. Ghar ke malik ki seva karta hai. Kutta bahut dekhbhal karta hai. Jiska khaata hai uski chakari karta hai. Jis prabhu ne yah sharir diya hai, aankhen di hain, manav ko sukhi banane ke liye sansar ki rachna ki hai, ann utpann kiya hai, manav un parmatma ki sadhna na kare aur seva na kare to manav kutte se bhi adhik patit hai. Jab Kisi sant ka milna hota hai, sant ki kripa hoti hai aur jab manav parmatma ke liye sadhan karta hai, tab manav, manav banta hai. Sadguru naya janam dete hain. Sadguru brahma ke swarup hain.
Gurudev Vishnu bhagwaan ka bhi swarup hain. Vishnu bhagwaan sab ka rakshan karte hain . sadguru aisa mante hain ki jab tak main apne shishy ko parmatama ke darshan nahin karwata tab tak main iska karjdar hun. Shishy ne to mujh par vishwas rakha hai. Hamare shastron mei aisa varnan aata hai ki shishy ko jab paap ki saja milti hai tab bhagwaan guru ko bhi bulate hain aur guru ko ulhana dete hain ki aisa yah tumhara chela hai. Guru purnima ke din uski aap puja prapt karte the. Aapne iske paap kyun nahi chudva diye? Shishy ke pap ki thodi saja guru ko bhi milti hai. Isse kayi sadhu guru banna bhi pasand nahin karte hain. Jo guru hota hai uske upar bahut zimedari aati hai. Kisi sant ko guru maniye par kisi ke guru banne ki ichchha mat rakhiye.
Sadguru sadshishy ki sadaiv raksha karte hain. Sarvkaal mei rakshan karte hain . sadgurudev ko shishy ki koi vastu lene ki ichchha hi nahin hoti hai. Sadguru swayam shishy ko sarvasv de dete hain. Jis guru ko shishy ka kuchh lene ki ichchha hoti hai, vah guru shishy ka kalayan nahin kar sakte. Guru nirpeksh hona chahiye aur shishy nishkaam hona chahiye. Jise parmatma mile hain vah hi nishkam ho sakta hai, vahi nirpeksh hota hai. Lakh, do lakh aur das lakh pane se kahin nirpekshta nahin aati hai. Lobh se lobh badhta hai. Lakshmi pane se jeev nirpeksh nahin hota hai. Jisko lakshmipati parmatma ki anubhuti hoti hai, vahi nirpeksh ho sakta hai. Guru nirpeksh hona chahiye.
Shishy nishkaam hona chahiye. Hamare upanishadon ne kaha hai- shishy jab guru ke paas jata hai, tab vah hath mei sameedha lekar jaata hai-
…………………Samitpaanim shrotriyam brahmnishtham……………………………

Hath mei sameedha lekar jana hai. Sameedha se hom hota hai. Santon ke pass sameedha lekar jane ka arth hai ki sansar ke sabhi sukhon ko maine hom kiya hai. Laukik sukhon ke liye guru ke charnon mei jana nahin hai. Guru ke pass nishkaam hokar ke hi jana hai.
Kitne log santon ke peechhe pad jate hain. Ve laukik bhav se santon ki seva karte hain. Ve sochte hain ki maharaj kripa Karen aur ladke ka janam ho to achcha hai. Koi dhan ke liye, koi putr ke liye, tatha koi anya kisi anya laukik sukh ke liye santon ki seva karte hain. Yah uchchit nahin hai. Sachche sant adhik laukik sukh dete bhi nahin hai. Laukik sukh jeev anek varshon se bhog raha hai. Laukik sukh se ise aaj tak shanti nahin mili hai. Sant vishyanand nahin dete hain . sant bhajanand tatha brahmanand dete hain. Sant vasna ko nasht karne ki kripa karte hain. Jiske sang se vasna ka vinash hota hai, man shuddh hota hai, bhakti ka rang lagta hai- vahi sachcha sant hai. Santon ke sang se alaukik anand milta hai.
Shishy nishkaam ho aur guru nirpeksh ho, to guru-shishy samaj ko sukhi kar sakte hain. Dusre ko kritarth kar sakte hain. Guru ke man mei kuchh lobh ho, shishy ko sansar ka sukh bhogne ki ichchha ho to guru-shishy ka kalyaan nahin hota hai.

……………………….. lobhi guru lalchi chela !!!!!!! hoye narak mei helam hela !!!!!!!!!!!!!!!!.....................................

sadguru to shishy ko sarvasv de dene ki ichchha rakhte hain. ve sochte hain ki mujhe jo kuchh mila hai, vah mujhe apne shishy ko dena hai. sadguru, sadshishy ko sachchi rah dikhate hain. sadguru sadshishy ki buddhi ko sudharte hain. sadguru sadshishy ko parmatma ka daan dete hain –
………………………………………………………………sachcha updesh det, bhali-bhali mati det,
samta-sambuddhi det, kumati ko harat hain.
marg ko dikhaye det, bhaav det bhakti det,
prem ki prapti det, agyan ko harat hain!.....
gyan det, dhyan det, atma ko vichar det,
brahm ko bataye det, brahmmay karat hain ……………………………………………………………………
sadguru sadshishy ko sarvasv dete hain. Aatmswarup ka bodh karate hain. Sadguru sarvkaal shishy ka rakshan karte hain. Pita putr ke prem mei swaarth rehta hai par guru shishy ka prem nihswaath hota hai. Putr se kuchh na kuchh lene ki ichchha pita ke man mei hoti hai. Vah sochta hai ki putr vridhaavastha mei meri seva karega. Mujhe kuchh dega. Guru shishy ka prem nihswaarth hota hai. Sadguru sadshishy ko praan tak de dete hain.
Ek guru tatha uska shishy jangal se nikalkar jaa rahe the. Shaam ho gayi. Andhakaar ho gaya isse ek vriksh ke neeche unhone vishram kiya . satsang karke dono so gaye. Santon ko nidra kam aati hai. Aisa bhagwat mei likha hai. Santon mei satvgun adhik hote hain. Satvgun badhta hai tab neend kam aati hai. Neend tamogun ka dharm hai. Sant teen chaar ghante se adheek nahin sote hain. Ratri mei ek baje ke baad gurudev jag gaye par shishy soya hi raha.
Madhyaratri ka samay hai. Gurudev aasan par baithe hain. Dhyaan ki taiyaari mei hain-usi samay vahan ek bada sarp daudta hua aa pahuncha aur shishy ki or jane laga. Guruji ne sarp se puchha- bhai ! tum kahan jaa rahe ho ? tumhen kya kaam hai? Sarp ne kaha- maharaja! Yah aapka shishy jo soya hua hai, mera purvjanam ka bairi hai. Purvjanam mei isne mujhe mar dala tha. Main uska pratishodh lene aaya hun.
Gurudev sarp ko samjhane lage- mere shishy se bhul hui hai. Usne tumhen mara hai. Main shama mang raha hun. Tum use kaat kar kya paoge? Mere shishy ko shama kar do. Bair se bair badhta hai. Bair ki shanti prem se hoti hai. Sarp ne kaha- Maharaj ! apna gyan apne pass rakhiye. Main aapka shishy nahin hun. Main to sarp hun. Aapke gyan se mujhe shanti nahin mil rahi hai. Main aapke shishy ko katunga aur vah jab tadap tadap kar mar jayega, tab mujhe shanti milegi.
Sarp ka krodh bhayankar hota hai. Apni santan se sabhi prem karte hain, par sarpon ko bhukh lagti hai, tab vah apni santan ko bhi kha jaate hain. Dusrun ko rulakar sarp ko shanti milti hai.
Hamare shastron mei likha hai ki manav ka janam rote huye ke aansun ponchne ke liye hua hai. Anya ko rote huye dekhkar jo prasann hota hai, vah agle janam mei sarp hota hai.
Gurudev sarp ko mana rahen hain- mere shishy ko abhi tak bhagwaan ke darshan nahin huye hain. Uski mrityu ho jayegi to uska maran bigdega.-
….aatmaanm viditva asmaanllokaat pryaati sah kripnah…..
Jisko atmswarup ka gyan nahi hai, jise parmatma ke darshan ka anubhav nahin hua, use antkaal mei bahut pachhtava hota hai. Mere shishy ko abhi bhagwaan ke darshan nahin huye hain. Vah sadhna karta hai mujhe parmatma ke darshan huye hain. Main siddh hun. Mera koi kaam shesh nahin hai. Mere man mei vikar vasana nahin hai. Meri mrityu hogi to main parmatma ke charnon mei jaunga.
Jiske man mei vasna hai, vah mrityu se darta hai, par jiske man mei koi vikar nahin hai, vasna nahin hai, vah maran se darta nahin hai. Main marunga to prabhu ke charnon mei jaunga. Mrityu prabhu ke charnon mei le jati hai. Mrityu prabhu ka Milan karane wali hai. Santon ko maran ka dar nahin hai. Gurudev sarp se kehte hain- mere shishy ke badle mei tum mujhe das lo.
Gurudev apne shishy ke badle mei praan ka balidaan dete hain parantu putr ko sarp dasne jaa raha ho to kya pita aisa kahenge ki tum mujhe das lo. Nahin pita to daudkar bhag jayenge. Gurudev Vishnu bhagwaan ka swarup hain. Ve shishy ka rakshan karte hain.


…………………………………………………..guru brahma guru vishnu guru devo maheshvara !
guru sakshat para brahma tasmay shri guruve namah !!!!!!.....................................................

brahma,Vishnu or Mahesh teenon ek ek kaam karte hain. Brahma utpati karte hain Vishnu bhagwaan rakshan karte hain. Aur maheshwar pralay karte hain parantu sadgurudev teenon kary karte hain. Gurudev shiv swarup bhi hain. Jab shivji pralay karte hain tab sabka vinash ho jata hai. Abhi shiv ati shant hain, mangalmay hain. Pralaykaal mei ve rudr rup dharan karte hain-
……………..rodnaat rudrah-rodyati, draavyati iti rudrah !...........................................................
Sarv ka vinash hota hai tab pralay hota hai. Shivji maharaj sarv ka vinash karke pralay karte hain, par sadgurudev ki balihaari hai ki ve shishy ke mastak par prem se haath rakhkar usi shan parmatma ke darshan karwaate hain. Jagat hai par dikhayi nahin deta. Parmatma dikh padte hain. Shivji jagat ka pralay karte hain, par sadgurudev shishy ko pralay dikhate hain. Gurudev ke mahatamy ka kaun varnan kar sakta hai? Sadgurudev parmatma se bhi shreshth hain.
Shabd-gyan ka updesh karne wala guru hai. Jagat mei guru bahut milte hain, par sadguru bahut durlabh hain. Sat shabd ka arth hai parmatma. Sarvkaal, sarvavastha par jinhen parmatma ke darshan hote hain ve sadguru hain.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2220 days 18 hrs 11 mins ago By Meenakshi Goyal
 आध्यात्मिक गुरु
jab jeev yogya banta hai, sad-shishy banta hai, tab parmatma use sadguru ke darshan karwate hain. jise parmatma se milne ki tivr ichchha hai, use sant milte hi hain. jise sansar meetha lagta hai, use sant ke darshan nahin hote hain- aur sant ka milna ho to bhi uske man mei sant ke prati sadbhaav nahin jagte hain.
maaya manushy ko do tarha se maarti hai. ghar mei sab tarhan ki anukulta hoti hai, tab maya bhakti nahin karne deti hai. tab manushy mei adhik ikattha karne ki ichchha hoti hai jiska kaam kaaj achchha chalta hai, use bhakti karne ka samay nahin milta hai. jise ghar mei anukulta milti hai vah bhakti nahin karta hai. vah to adhik sukh bhogta hai. ghar mei pratikulta rehne par manushy pidit hota hai. kaam mei nuksan ho aur koi kahe ki aap parmatma ki bhakti kariye, tab vah kehta hai ki mera man ashant ho gaya hai. is prakar sab tarhan ki anukulta milne par vaasnaa badhti hai, lobh badhta hai aur jeev adhik sukh bhogta hai tatha pratikul paristhiti mei manav haay haay karta hai . is tarhan maya jeev ko shanti se bhakti karne nahin deti. Kisi se aap kahen ki aap katha sunne chaliye to vah kahega ki is ritu mei in logon ne katha kyun rakhi hai? Yah to hamare kmaane ki ritu hai. Garmi ke dinon mei katha rakhi hoti to achchha tha. Manav ki aisi hi prakarti hai uska yah swabhav hai. Ise jo kuchh mila hai, vah use pasand nahin aata aur jo nahin mila hai vah use pasand hai. Manushy ko apni prapt paristhiti se santosh nahin hai, atah vah shanti se bhakti nahin kar sakta hai.
bhagwaan se bhi sadguru shreshth hain, aisa kehne se bhagwaan ko bura nahin lagta. Santon ki prashansa sunkar bhagwaan atyant khush hote hain. Parmatma ne is sansar ki rachna hi aisi ki hai ki prayah sab ka man sansar mei fasa rehta hai. Sansar ki rachna aisi hai tatha sansar ke vishyon mei maya ne aisa aakarshan bhar diya hai ki sansar jeev ko meetha lagta hai, sundar lagta hai. Nav-yuvakon ko nakhon mei, balon mei, saundary dikhta hai. Ve sochte hain baal bahot sundar hain. Are ! baalon mei kya saundarya ? nakh aur baal to sharir ka mail hain. Hamare shastron mei likha hai ki bhojan karte huye ann mei baal aa jaye to ann nahin khana chahiye. Baal ke sparsh se bhojan ashudh ho jata hai. Maya manav ko moh grahst karke aisa samjha deti hai ki nakhon aur baalon mei saundarya hai. Vah purush ke man aur aankhon mei aisa moh jagrat kar deti hai ki use stri ke sharir mei saundarya dikhayi deta hai. Stri ki aankhon aur man mei bhi aisa hi moh jagrat kar deti hai ki use purush mei saundarya dikhayi deta hai. Parantu sundar to keval parmatma shri krishn hi hain.
Shant man se dhyan karenge to is sharir mei kya achchha hai? Aankhon se , kanon se , mukh se mal hi to nikalta hai. Durgandh se bhara yah sharir hai ! fir bhi manav yah samajhta hai ki yah sharir bahot sundar hai. Prabhu ne manav mei aisa moh na rakha hota to sab bhagwaan ki bhakti karte hote. Prabhu ne aisa moh tattv kyun banaya hai? Yahi samajh mei nahin aata hai. Prabhu aisa soch rahe honge ki sab bhakti karenge to mere vaikunth mei bheed ho jayegi. Sab vaikunth mei na aa saken aur sansar mei fase rahen- isliye shayad prabhu ne manav mei aisa moh rakha hoga. Jeev sansar mei fasa rehta hai. Use sansar meetha lagta hai, saras lagata hai aur uski prabhu ke darshan ki ichchha hi nahin hoti hai. Prabhu ne jeev ko sansaar mei fasa kar rakha hai.

…………………………………………………..guru brahma guru vishnu guru devo maheshvara !
guru sakshat para brahma tasmay shri guruve namah !!!!!!.....................................................

sadguru sadshishy ko samjhate hain – are ! bahut sundar nahin hai par sansaar jisne banaya hai, vahi bahut sundar hai. Maya ne tumhe mohit kar rakha hai . tumhari buddhi bhrasht kar di gayi hai, isse tumhe sansar mei saundary dikhayi deta hai. Sansar ek bageecha hai. Log is bageeche ko dekhte hain. Jab bageecha itna sundar hai tab bageeche ko banane wala kitna sundar hona chahiye, karan ke gun karya mei aate hi hain. Sansar karya hai, parmatma karan hain. Parmatma atyant sundar hain.
Prabhu ne sansar ke vishyon mei aisa akarshan bhara hai ki sansar rulata hai, trast karta hai fir bhi vah meetha hi lagta hai. Manav ke man mei se moh jaata hi nahin hai. Sadguru sadshishy ke moh ko nikalte hain. Sadguru sadshishy ko prabhu ki or le jate hain. Parmatma jeev ko sansar mei fansa kar rakhte hain. Sadgurudev jeev ko prabhu ki or le jaate hain. Ham swayam sochen ki sadguru shreshth hain ki parmatma shreshth hain?
Gurudev brahma ji ka swarup hain. Jinhen sadguru mile hain, unhen naya janam hi mila hai. Mata-pita dwara jo janam milta hai use itna pavitr nahin mana gaya hai. Sadguru jab shiksha dete hain tab naya janam milta hai. Diksha se manav mei manavta aa jati hai parantu jab sadguru diksha dete hain, tab manav dev ban jata hai. Diksha naya janam hai. Sadguru sadshishy ko naya janam dete hain. Jise sant ka milna nahin hua hai, jo parmatma ke liye sadhan nahin karta hai, vah manav pashu ke jaisa hai. Sansar ka vyavahar to pashu pakshi bhi karte hain. Pakshi bhi ghonsla banata hai. Tab fir manav ki vishesta kya hai? Sant aisa varnan karte hain ki jo bhagwaan ki bhakti nahin karte hain, parmatma ke liye sadhan nahin karte hain vah pashu se bhi tuchchh hain. Kutte ko jis ghar se roti ka tukada milta hai vah us ghar ki rat bhar rakhwali karta hai. Ghar ke malik ki seva karta hai. Kutta bahut dekhbhal karta hai. Jiska khaata hai uski chakari karta hai. Jis prabhu ne yah sharir diya hai, aankhen di hain, manav ko sukhi banane ke liye sansar ki rachna ki hai, ann utpann kiya hai, manav un parmatma ki sadhna na kare aur seva na kare to manav kutte se bhi adhik patit hai. Jab Kisi sant ka milna hota hai, sant ki kripa hoti hai aur jab manav parmatma ke liye sadhan karta hai, tab manav, manav banta hai. Sadguru naya janam dete hain. Sadguru brahma ke swarup hain.
Gurudev Vishnu bhagwaan ka bhi swarup hain. Vishnu bhagwaan sab ka rakshan karte hain . sadguru aisa mante hain ki jab tak main apne shishy ko parmatama ke darshan nahin karwata tab tak main iska karjdar hun. Shishy ne to mujh par vishwas rakha hai. Hamare shastron mei aisa varnan aata hai ki shishy ko jab paap ki saja milti hai tab bhagwaan guru ko bhi bulate hain aur guru ko ulhana dete hain ki aisa yah tumhara chela hai. Guru purnima ke din uski aap puja prapt karte the. Aapne iske paap kyun nahi chudva diye? Shishy ke pap ki thodi saja guru ko bhi milti hai. Isse kayi sadhu guru banna bhi pasand nahin karte hain. Jo guru hota hai uske upar bahut zimedari aati hai. Kisi sant ko guru maniye par kisi ke guru banne ki ichchha mat rakhiye.
Sadguru sadshishy ki sadaiv raksha karte hain. Sarvkaal mei rakshan karte hain . sadgurudev ko shishy ki koi vastu lene ki ichchha hi nahin hoti hai. Sadguru swayam shishy ko sarvasv de dete hain. Jis guru ko shishy ka kuchh lene ki ichchha hoti hai, vah guru shishy ka kalayan nahin kar sakte. Guru nirpeksh hona chahiye aur shishy nishkaam hona chahiye. Jise parmatma mile hain vah hi nishkam ho sakta hai, vahi nirpeksh hota hai. Lakh, do lakh aur das lakh pane se kahin nirpekshta nahin aati hai. Lobh se lobh badhta hai. Lakshmi pane se jeev nirpeksh nahin hota hai. Jisko lakshmipati parmatma ki anubhuti hoti hai, vahi nirpeksh ho sakta hai. Guru nirpeksh hona chahiye.
Shishy nishkaam hona chahiye. Hamare upanishadon ne kaha hai- shishy jab guru ke paas jata hai, tab vah hath mei sameedha lekar jaata hai-
…………………Samitpaanim shrotriyam brahmnishtham……………………………

Hath mei sameedha lekar jana hai. Sameedha se hom hota hai. Santon ke pass sameedha lekar jane ka arth hai ki sansar ke sabhi sukhon ko maine hom kiya hai. Laukik sukhon ke liye guru ke charnon mei jana nahin hai. Guru ke pass nishkaam hokar ke hi jana hai.
Kitne log santon ke peechhe pad jate hain. Ve laukik bhav se santon ki seva karte hain. Ve sochte hain ki maharaj kripa Karen aur ladke ka janam ho to achcha hai. Koi dhan ke liye, koi putr ke liye, tatha koi anya kisi anya laukik sukh ke liye santon ki seva karte hain. Yah uchchit nahin hai. Sachche sant adhik laukik sukh dete bhi nahin hai. Laukik sukh jeev anek varshon se bhog raha hai. Laukik sukh se ise aaj tak shanti nahin mili hai. Sant vishyanand nahin dete hain . sant bhajanand tatha brahmanand dete hain. Sant vasna ko nasht karne ki kripa karte hain. Jiske sang se vasna ka vinash hota hai, man shuddh hota hai, bhakti ka rang lagta hai- vahi sachcha sant hai. Santon ke sang se alaukik anand milta hai.
Shishy nishkaam ho aur guru nirpeksh ho, to guru-shishy samaj ko sukhi kar sakte hain. Dusre ko kritarth kar sakte hain. Guru ke man mei kuchh lobh ho, shishy ko sansar ka sukh bhogne ki ichchha ho to guru-shishy ka kalyaan nahin hota hai.

……………………….. lobhi guru lalchi chela !!!!!!! hoye narak mei helam hela !!!!!!!!!!!!!!!!.....................................

sadguru to shishy ko sarvasv de dene ki ichchha rakhte hain. ve sochte hain ki mujhe jo kuchh mila hai, vah mujhe apne shishy ko dena hai. sadguru, sadshishy ko sachchi rah dikhate hain. sadguru sadshishy ki buddhi ko sudharte hain. sadguru sadshishy ko parmatma ka daan dete hain –
………………………………………………………………sachcha updesh det, bhali-bhali mati det,
samta-sambuddhi det, kumati ko harat hain.
marg ko dikhaye det, bhaav det bhakti det,
prem ki prapti det, agyan ko harat hain!.....
gyan det, dhyan det, atma ko vichar det,
brahm ko bataye det, brahmmay karat hain ……………………………………………………………………
sadguru sadshishy ko sarvasv dete hain. Aatmswarup ka bodh karate hain. Sadguru sarvkaal shishy ka rakshan karte hain. Pita putr ke prem mei swaarth rehta hai par guru shishy ka prem nihswaath hota hai. Putr se kuchh na kuchh lene ki ichchha pita ke man mei hoti hai. Vah sochta hai ki putr vridhaavastha mei meri seva karega. Mujhe kuchh dega. Guru shishy ka prem nihswaarth hota hai. Sadguru sadshishy ko praan tak de dete hain.
Ek guru tatha uska shishy jangal se nikalkar jaa rahe the. Shaam ho gayi. Andhakaar ho gaya isse ek vriksh ke neeche unhone vishram kiya . satsang karke dono so gaye. Santon ko nidra kam aati hai. Aisa bhagwat mei likha hai. Santon mei satvgun adhik hote hain. Satvgun badhta hai tab neend kam aati hai. Neend tamogun ka dharm hai. Sant teen chaar ghante se adheek nahin sote hain. Ratri mei ek baje ke baad gurudev jag gaye par shishy soya hi raha.
Madhyaratri ka samay hai. Gurudev aasan par baithe hain. Dhyaan ki taiyaari mei hain-usi samay vahan ek bada sarp daudta hua aa pahuncha aur shishy ki or jane laga. Guruji ne sarp se puchha- bhai ! tum kahan jaa rahe ho ? tumhen kya kaam hai? Sarp ne kaha- maharaja! Yah aapka shishy jo soya hua hai, mera purvjanam ka bairi hai. Purvjanam mei isne mujhe mar dala tha. Main uska pratishodh lene aaya hun.
Gurudev sarp ko samjhane lage- mere shishy se bhul hui hai. Usne tumhen mara hai. Main shama mang raha hun. Tum use kaat kar kya paoge? Mere shishy ko shama kar do. Bair se bair badhta hai. Bair ki shanti prem se hoti hai. Sarp ne kaha- Maharaj ! apna gyan apne pass rakhiye. Main aapka shishy nahin hun. Main to sarp hun. Aapke gyan se mujhe shanti nahin mil rahi hai. Main aapke shishy ko katunga aur vah jab tadap tadap kar mar jayega, tab mujhe shanti milegi.
Sarp ka krodh bhayankar hota hai. Apni santan se sabhi prem karte hain, par sarpon ko bhukh lagti hai, tab vah apni santan ko bhi kha jaate hain. Dusrun ko rulakar sarp ko shanti milti hai.
Hamare shastron mei likha hai ki manav ka janam rote huye ke aansun ponchne ke liye hua hai. Anya ko rote huye dekhkar jo prasann hota hai, vah agle janam mei sarp hota hai.
Gurudev sarp ko mana rahen hain- mere shishy ko abhi tak bhagwaan ke darshan nahin huye hain. Uski mrityu ho jayegi to uska maran bigdega.-
….aatmaanm viditva asmaanllokaat pryaati sah kripnah…..
Jisko atmswarup ka gyan nahi hai, jise parmatma ke darshan ka anubhav nahin hua, use antkaal mei bahut pachhtava hota hai. Mere shishy ko abhi bhagwaan ke darshan nahin huye hain. Vah sadhna karta hai mujhe parmatma ke darshan huye hain. Main siddh hun. Mera koi kaam shesh nahin hai. Mere man mei vikar vasana nahin hai. Meri mrityu hogi to main parmatma ke charnon mei jaunga.
Jiske man mei vasna hai, vah mrityu se darta hai, par jiske man mei koi vikar nahin hai, vasna nahin hai, vah maran se darta nahin hai. Main marunga to prabhu ke charnon mei jaunga. Mrityu prabhu ke charnon mei le jati hai. Mrityu prabhu ka Milan karane wali hai. Santon ko maran ka dar nahin hai. Gurudev sarp se kehte hain- mere shishy ke badle mei tum mujhe das lo.
Gurudev apne shishy ke badle mei praan ka balidaan dete hain parantu putr ko sarp dasne jaa raha ho to kya pita aisa kahenge ki tum mujhe das lo. Nahin pita to daudkar bhag jayenge. Gurudev Vishnu bhagwaan ka swarup hain. Ve shishy ka rakshan karte hain.


…………………………………………………..guru brahma guru vishnu guru devo maheshvara !
guru sakshat para brahma tasmay shri guruve namah !!!!!!.....................................................

brahma,Vishnu or Mahesh teenon ek ek kaam karte hain. Brahma utpati karte hain Vishnu bhagwaan rakshan karte hain. Aur maheshwar pralay karte hain parantu sadgurudev teenon kary karte hain. Gurudev shiv swarup bhi hain. Jab shivji pralay karte hain tab sabka vinash ho jata hai. Abhi shiv ati shant hain, mangalmay hain. Pralaykaal mei ve rudr rup dharan karte hain-
……………..rodnaat rudrah-rodyati, draavyati iti rudrah !...........................................................
Sarv ka vinash hota hai tab pralay hota hai. Shivji maharaj sarv ka vinash karke pralay karte hain, par sadgurudev ki balihaari hai ki ve shishy ke mastak par prem se haath rakhkar usi shan parmatma ke darshan karwaate hain. Jagat hai par dikhayi nahin deta. Parmatma dikh padte hain. Shivji jagat ka pralay karte hain, par sadgurudev shishy ko pralay dikhate hain. Gurudev ke mahatamy ka kaun varnan kar sakta hai? Sadgurudev parmatma se bhi shreshth hain.
Shabd-gyan ka updesh karne wala guru hai. Jagat mei guru bahut milte hain, par sadguru bahut durlabh hain. Sat shabd ka arth hai parmatma. Sarvkaal, sarvavastha par jinhen parmatma ke darshan hote hain ve sadguru hain.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2220 days 19 hrs 19 mins ago By Ravi Kant Sharma
 क्या अध्यात्म को विज्ञान के द्वारा समझाया जा सकता है?
जय श्री कृष्णा.... समझाने की शक्ति ईश्वर ने किसी को नहीं दी है, समझने की शक्ति ईश्वर ने सभी को दी है।........ अध्यात्मिक हो या भौतिक हो, समझाया तो किसी को नहीं जा सकता है, केवल विज्ञान के द्वारा समझा ही जा सकता है।...... किसी भी प्रकार का ज्ञान जब तक विज्ञान में परिवर्तित नहीं हो जाता है तब तक उस ज्ञान का कोई महत्व नहीं होता है।........ चाहे वह भौतिक ज्ञान हो या आध्यात्मिक ज्ञान हो।..... जिस प्रकार भौतिक सैद्धांतिक ज्ञान (Physical Theoratical knowledge) को भौतिक विज्ञान (Physical Practical knowledge) में परिवर्तित करके संसार के अंश मात्र को समझा जाता है, उसी प्रकार आध्यात्मिक सैद्धांतिक ज्ञान (Spiritual Theoratical knowledge) को आध्यात्मिक विज्ञान (Spiritual Practical knowledge) में परिवर्तित करके अंश रूप से ही समझा जा सकता है।........... यदि कोई शिष्य समझ जाता है तो सामने वाला व्यक्ति (गुरु) उसे अपने द्वारा समझाया हुआ मान लेता है तो यह तो सामने वाले व्यक्ति (गुरु) की अज्ञानता का ही परिचायक होता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2220 days 19 hrs 19 mins ago By Ravi Kant Sharma
 क्या अध्यात्म को विज्ञान के द्वारा समझाया जा सकता है?
जय श्री कृष्णा.... समझाने की शक्ति ईश्वर ने किसी को नहीं दी है, समझने की शक्ति ईश्वर ने सभी को दी है।........ अध्यात्मिक हो या भौतिक हो, समझाया तो किसी को नहीं जा सकता है, केवल विज्ञान के द्वारा समझा ही जा सकता है।...... किसी भी प्रकार का ज्ञान जब तक विज्ञान में परिवर्तित नहीं हो जाता है तब तक उस ज्ञान का कोई महत्व नहीं होता है।........ चाहे वह भौतिक ज्ञान हो या आध्यात्मिक ज्ञान हो।..... जिस प्रकार भौतिक सैद्धांतिक ज्ञान (Physical Theoratical knowledge) को भौतिक विज्ञान (Physical Practical knowledge) में परिवर्तित करके संसार के अंश मात्र को समझा जाता है, उसी प्रकार आध्यात्मिक सैद्धांतिक ज्ञान (Spiritual Theoratical knowledge) को आध्यात्मिक विज्ञान (Spiritual Practical knowledge) में परिवर्तित करके अंश रूप से ही समझा जा सकता है।........... यदि कोई शिष्य समझ जाता है तो सामने वाला व्यक्ति (गुरु) उसे अपने द्वारा समझाया हुआ मान लेता है तो यह तो सामने वाले व्यक्ति (गुरु) की अज्ञानता का ही परिचायक होता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2222 days 23 hrs 36 mins ago By Meenakshi Goyal
 राधारानी जी का कृष्ण प्रेम कैसा था ?
ek bar raniyon ke man mei bhi yahi prashan utha ki aisa kyun hai tab bhagwaan leeladhari ne ek leela rachi aaj prabhu ke pet mei bahot dard hai sabhi vaidh haar man chuke hain ki is dard ka ilaj hamse nahi hota tab sabne bhagwaan se kaha ki pyaare aap hi bata do ki iski kya dawayi hai ham turant la denge tab prabhu ne kaha ki kisi vaishnav ka charnamrit la do is bat se sab dur bhagne lage ki prabhu ko charnamrit diya to hame to ghor se ghor narak bhogna padega hamari bahot durdasha hogi us samay ye bat kisi tarhan shri radhe ko bhi pata chali tab shri radhe bina kuchh soche vichare aapne charnon ka charnamrit bhejti hain jisse prabhu thik ho jate hain raniya prem to karti thi lekin unmei abhi mei or merepan ka bhav tha wahin dusri or shri radhe ke jeevan jeene ka ek matr udeshy yahi tha ki unke preeytam sukhi rahe isiliye wo itni pida mei bhi jeevit reh sakin

aise hi dusra prasang tab milta hai jab kurukshetra mei rukmaniji shri radhe ko garam dudh pila deti hain or bhagwaan ke shri charnon mei chhale pad jate hain kyunki us dudh ke peene se shri radhe ke hriday mei jalan hoti hai lekin wahan par to sakshat prabhu ke charan sthapit hain jo us jalan se jhulas jaate hain

aisa hi teesra prasang ek or hai jab rohini ji bhgwaan ki raniyon ko brij leela or shri radhe ka charitr suna rahi hoti hain or jise sunkar bhagwaan shri krishn, shri balramji or shri subhadraji ka sharir pighalne lagta hai jiska aaj bhi sakshat swarup shri jagannath bhagwaan puri mei virajmaan hain

brijwasiyon ka pyaar itna gehra tha ki koi bhi prabhu se dwarika mei brij ki bat nahi karta tha kyunki sab darte the ki prabhu brij ka naam sunte hi yahan nahi rukenge wo to wahin chale jayenge
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2223 days 27 mins ago By Meenakshi Goyal
 मन की यह कैसी विडम्बना है?
shri durgasaptshati ke pratham adhyaye mei raja surath ko medha rishi batate hain - hey mahabhag ! vishay marg ka gyan samast jeev jantuon ko hai. isi prakar vishay bhi uske prathak prathak hote hain . koi prani din mei nahin dekhte, koi ratri mei nahin dekhte aur koi jeev din rat mei samaan drishti se dekhte hain. sabhi manushy gyan yukt hain yeh sataya hai ismei sandeh nahin. keval inmei hi nahin sabhi pashu pakshi mrigaadi mei bhi manushyon ki bhaanti gyan hota hai. yah sthool gyan hai. jaise manushy mei aahaar aadi ki ichchha utpann hoti hai vaise hi pashu, pakshi aadi mei bhi aahaar, vihaar, nidra tatha maithun ki ichchha utpann hoti hai. gyan hone par bhi pakshiyon ko to dekho ye swayam bhukhe hone par bhi moh vash apne bachchhon ki chonch mei sneh se dana dal kar prasan hote hain. manushy bhi apne putr, pautron ke saath isi prakar ka vyavahaar karte hain kintu vah paalan poshan ka badla lene ki ichchha se, ki jab hamari vridhavastha avegi tab hamara palan ve karenge . hey nar shresth ! kya ham tum nahin dekhte putraadi unka bharan poshan na bhi karen to bhi maata-pita to karte hi hain, kyonki vishv ki sthiti ko rakhne wali mahamaya ke prabhav se moh ke gaddhe mei dal diye gaye hain . ismei koi ashcharya ki baat nahin hai kyonki yeh bhagwaan vishnu ki yog nidra hai jisse sansar mohit ho jaata hai. yahi bhagwaan ki mahamaaya hain. yah bhagwati devi bade bade gyaniyon ke bhi chitt ko jabardasti kheenchkar moh mei dal deti hain. is devi ne hi charachar vishv utpann kiya hai aur yahi devi prasann hokar bhakton ko vardan deti hain jisse mukti ki prapti hoti hai. yahi mukti ka param hetu aur sanatani brahmgyan swarupi vidhya hain. yah bhagwaati hi sansarik bandhon ki hetu tatha sarveshwari hain.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2223 days 28 mins ago By Meenakshi Goyal
 मन की यह कैसी विडम्बना है?
shri durgasaptshati ke pratham adhyaye mei raja surath ko medha rishi batate hain - hey mahabhag ! vishay marg ka gyan samast jeev jantuon ko hai. isi prakar vishay bhi uske prathak prathak hote hain . koi prani din mei nahin dekhte, koi ratri mei nahin dekhte aur koi jeev din rat mei samaan drishti se dekhte hain. sabhi manushy gyan yukt hain yeh sataya hai ismei sandeh nahin. keval inmei hi nahin sabhi pashu pakshi mrigaadi mei bhi manushyon ki bhaanti gyan hota hai. yah sthool gyan hai. jaise manushy mei aahaar aadi ki ichchha utpann hoti hai vaise hi pashu, pakshi aadi mei bhi aahaar, vihaar, nidra tatha maithun ki ichchha utpann hoti hai. gyan hone par bhi pakshiyon ko to dekho ye swayam bhukhe hone par bhi moh vash apne bachchhon ki chonch mei sneh se dana dal kar prasan hote hain. manushy bhi apne putr, pautron ke saath isi prakar ka vyavahaar karte hain kintu vah paalan poshan ka badla lene ki ichchha se, ki jab hamari vridhavastha avegi tab hamara palan ve karenge . hey nar shresth ! kya ham tum nahin dekhte putraadi unka bharan poshan na bhi karen to bhi maata-pita to karte hi hain, kyonki vishv ki sthiti ko rakhne wali mahamaya ke prabhav se moh ke gaddhe mei dal diye gaye hain . ismei koi ashcharya ki baat nahin hai kyonki yeh bhagwaan vishnu ki yog nidra hai jisse sansar mohit ho jaata hai. yahi bhagwaan ki mahamaaya hain. yah bhagwati devi bade bade gyaniyon ke bhi chitt ko jabardasti kheenchkar moh mei dal deti hain. is devi ne hi charachar vishv utpann kiya hai aur yahi devi prasann hokar bhakton ko vardan deti hain jisse mukti ki prapti hoti hai. yahi mukti ka param hetu aur sanatani brahmgyan swarupi vidhya hain. yah bhagwaati hi sansarik bandhon ki hetu tatha sarveshwari hain.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2223 days 54 mins ago By Meenakshi Goyal
 aarti shiv ji ki
shiv ji hi ek aise dev hain jinki aarti karne se teenon devon ki aarti ho jati hai arthat brahma vishnu or mahesh
ekaanan chaturaanan panchaana ka arth hai
ek aanan arthat ek sir wale shri vishnu ji
chaturaanan arthat char sir wale shri brahma ji
or panchaanan arthat panch sir wale shri shiv ji
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2223 days 55 mins ago By Meenakshi Goyal
 aarti shiv ji ki
shiv ji hi ek aise dev hain jinki aarti karne se teenon devon ki aarti ho jati hai arthat brahma vishnu or mahesh
ekaanan chaturaanan panchaana ka arth hai
ek aanan arthat ek sir wale shri vishnu ji
chaturaanan arthat char sir wale shri brahma ji
or panchaanan arthat panch sir wale shri shiv ji
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2223 days 2 hrs 53 mins ago By Ravi Kant Sharma
 क्या महत्वपूर्ण हैं: वेदांत, ज्ञान या प्रेम ?
जय श्री कृष्णा.... जीवात्मा का परमात्मा से मिलन के लिये तीनों ही महत्वपूर्ण हैं।.......... इन तीनों के बिना किसी भी जीवात्मा का परमात्मा से मिलन असंभव होता है।..... परमात्मा से मिलन की दो ही विधियाँ हैं।............... पहली विधि के अनुसार जब व्यक्ति निरन्तर वेदों के अध्यन द्वारा उस ज्ञान में स्थित रहकर वेदों की आज्ञा के अनुसार आचरण करता है तो परमात्मा की कृपा से एक दिन परमात्मा का प्रेम (भक्ति) स्वतः ही प्राप्त हो जाता है तब उस जीवात्मा का परमात्मा से मिलन का मार्ग प्रशस्त होता है। गीता में इस विधि को \"सांख्य-योग\" कहा गया हैं.................... दूसरी विधि के अनुसार जब व्यक्ति भगवान के किसी भी एक रूप के प्रति शरणागत भाव में स्थित रहकर निरन्तर प्रेम (भक्ति) का आचरण करता है तो भगवान की कृपा से एक दिन वेदों का ज्ञान स्वतः ही प्राप्त हो जाता है, तब परमात्मा की कृपा से परमात्मा से मिलन का मार्ग प्रशस्त होता है। गीता में इस विधि को \"निष्काम कर्म-योग\" कहा गया है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2223 days 15 hrs 24 mins ago By Meenakshi Goyal
 हम कैसे जानें कि सच्चा प्यार क्या है?
prem aur parmatama mei koi antar nahin hai, jis prakar vaani se brahma ka varnan asambhav hai, ved \' neti-neti\' kehkar chup ho jate hain, usi prakar premka varnan bhi vaani dwara nahin ho sakta. sansaar mei bhi ham dekhte hain ki priy vastu ke milne par uska smaachaar pane par, uske sparsh, alingan aur prem aalaap ka suavsar milne par hridy mei jis aanand ka anubhav hota hai, uska varnan vaani kabhi nahin kar sakti. jis prem ka vaani ke dwaara ho sakta hai, vah to premka sarvatha baahari rup hai. prem to anubhav ki vastu hai.

premka anubhav hota hai man mei aur man rehta hai sada apne premaaspad ke paas. fir bhala, man ke abhaav mei vaani ko yatikinchit bhi varnan karneka asli masala kahan se mile? ataiv premka jo kuchh bhi varnan milta hai, vah keval sanketik maatr hai- baahy hai. premki prapti huye bina to prem ko koi janta nahin aur prapti honepar vah apne man se haath dho baithta hai .jal mei mukh se shabd ka uchcharan tabhi tak hota hai, jab tak mukh jal se bahar rehta hai, jab manushy ataltal mei dub jaata hai, tab to dubne vale ki lash ka pata lagna bhi kathin hota hai. isi prakar jo prem-samudr dub chuka hai, vah kuchh keh hi nahin sakta, aur upar-upar dubakiyan maarne aur dubne-utraanewale jo kuchh kehte hain, vah keval upar-upar ki hi baat hoti hai.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2225 days 4 hrs 6 mins ago By Versha Sahni
 आध्यात्मिक गुरु
Diya, Baati ghee, sab kuchh ikattha pda hota hai pr use jlane ke liye machis v hath chahiye, aise hi guru humare ander ki jyot ko prajvlit krte hai....
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2226 days 21 hrs 26 mins ago By Ravi Kant Sharma
 आध्यात्मिक गुरु
जय श्री कृष्णा.... जी हाँ, चिर स्थाई खुशी का स्रोत हमारे अन्दर ही है, उसे खोजने की विधि जानने के लिये हमें आध्यात्मिक गुरु की आवश्यकता होती है।....... जाने बिनु न होइ परतीती। बिनु परतीती होय नहिं प्रीती॥
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2227 days 12 hrs 55 mins ago By Nidhi Nema
 Ekadashi
radhe radhe,ekadashi ka time dekhana chahiye,ki ekadashi kis time pr khatam kuyi hae,aur dwadashi shuru huyi ki nahi yadi dwadashi shuru ho gayi hae to fast break kar sakte hai.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2227 days 22 hrs 44 mins ago By Jaswinder Jassi
 आध्यात्मिक गुरु
“अगर खुशी का स्रोत हमारे भीतर है तो आध्यात्मिक गुरु की हमें क्या आवश्यकता है?”............
ख़ुशी मन्न की अव्श्था है , जब्ब मन्न की कामना पूरी होती है तो मन्न को ख़ुशी होती है , मगर एक कामना पूरी होने के बाद मन्न में और कामनाये जाग परती हैं ...अगर वो पूरी नही होती तो मन्न दुखी होता है .. इस लिए कोई ख़ुशी सदीवी नही होती ...सदीवी ख़ुशी के लिए इस के मूल स्रोत को खोजना जरुरी है . , ख़ुशी का मूल स्रोत केवल एक परमात्मा ही है जिस का ज्ञान केवल अधिअत्मिक सतगुरु के ही पास है .. इस लिए सदीवी ख़ुशी ( आनंद ) पाने के लिए अधिअत्मिक गुरु की आवश्कता है ...जस्सी
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2227 days 22 hrs 46 mins ago By Jaswinder Jassi
 आध्यात्मिक गुरु
“अगर खुशी का स्रोत हमारे भीतर है तो आध्यात्मिक गुरु की हमें क्या आवश्यकता है?”
Khushi mnn ki avsha hai, jbb mnn ki KAMNA puri hoti hai to mnn ko khushi hoti hai, mgar ek KAMNA puri hone ke bad mnn me aur kamnaye jag prti hain...agar vo puri nhi hoti to mnn dukhi hota hai.. iss liye koyi khushi sdeevi nhi hoti...sdeevi khushi ke liye iss ke mool srot ko khojna jaruree hai . , Khushi ka mool srot kewal Ek PRMATMA hi haijiss ka GIYAN kewal ADHIATMIC SATGURU ke hi pass hai.. iss liye Sadeevi khush ( ANAND) pane ke liye ADHIATMIC GURU ki avshkta hai...Jassi
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2233 days 12 hrs 39 mins ago By Seema Sharma
 तिलक का क्या महत्व है ?
tilak lagane se sada man main sewa bhav rahta hai jaise ki shadi ke bad jab ladki tilak lagane lagti hai tab khud se hi sab sasural walon ke liye or khas ker apne pati ki aau ke liye uske jivan main tilak ka mahatva bad jata hai usi tarah se tilak lagate hi aabhas hota hai ki mera priytam dirghau ho or sare sansar main sabse pyara bhi vahi hota hai
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2235 days 12 hrs ago By Ravi Kant Sharma
 मन की यह कैसी विडम्बना है?
जय श्री कृष्णा.... यह विडम्बना नहीं है यह अज्ञान है।..... भगवान श्री कृष्ण (गीता १५/१५) में कहते हैं.....सर्वस्य चाहं हृदि सन्निविष्टोमत्तः स्मृतिर्ज्ञानमपोहनं च।.... वेदैश्च सर्वैरहमेव वेद्योवेदान्तकृद्वेदविदेव चाहम्‌॥................... मैं ही समस्त जीवों के हृदय में आत्मा रूप में स्थित हूँ, मेरे द्वारा ही जीव को स्मृति, विस्मृति और ज्ञान होता है, मैं ही समस्त वेदों के द्वारा जानने योग्य हूँ, मुझसे ही समस्त वेद उत्पन्न होते हैं और मैं ही समस्त वेदों को जानने वाला हूँ।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2241 days 13 hrs ago By Nidhi Nema
 यम द्वितीया को यमुना स्नान क्यों करते है?
राधे राधे , यमुना जी के भाई यमराज जी थे वे यम द्वितीय के दिन यमुना जी यहाँ भोजन करने आये.तब यमुना जी से प्रसन्न होकर यमुना जी को वरदान मांगने को कहा तब यमुना जी ने कहा - इस दिन जो बहन अपने भाई को टीका करके भोजन खिलाये, और यमुना जी में साथ-साथ डूबकी लगायेगा उसे आपका भय न रहे। यमराज तथास्तु कहकर यमुना को अमूल्य वस्त्राभूषण देकर यमपुरी चले गये। ऐसी मान्यता है कि जो भाई आज के दिन यमुना में स्नान करके पूरी श्रद्धा से बहनों के आतिथ्य को स्वीकार करते हैं, उन्हें यम का भय नहीं रहता।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2244 days 22 mins ago By Dasi Radhika
 दीपावली का पर्व?
दीपावली का अर्थ है दीपों की पंक्ति। दीपावली शब्द ‘दीप’ एवं ‘आवली’ की संधिसे बना है। आवली अर्थात पंक्ति, इस प्रकार दीपावली शब्दका अर्थ है, दीपोंकी पंक्ति । दीपावली का सामाजिक और धार्मिक दोनों दृष्टि से अत्यधिक महत्त्व है। इसे दीपोत्सव भी कहते हैं। ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ अर्थात् ‘अंधेरे से ज्योति अर्थात प्रकाश की ओर जाइए’ यह उपनिषदोंकी आज्ञा है। इसे सिख, बौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं।[1] माना जाता है कि दीपावली के दिनअयोध्या के राजा श्री रामचंद्र अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे।[2] अयोध्यावासियों का ह्रदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से उल्लसित था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीए जलाए । कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से आज तक प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। दीपावली दीपों का त्योहार है। इसे दीवाली या दीपावली भी कहते हैं। दीवाली अँधेरे से रोशनी में जाने का प्रतीक है,सभी का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है। दीवाली यही चरितार्थ करती है, दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती है। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं। घरों में मरम्मत, रंग-रोगन,सफ़ेदी आदि का कार्य होने लगता हैं। लोग दुकानों को भी साफ़ सुथरा का सजाते हैं। बाज़ारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है। दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2245 days 15 hrs 33 mins ago By Ravi Kant Sharma
 दीपावली किसका संकेत है ?
जय श्री कृष्णा.... आध्यात्मिक दृष्टिकोण से दीपावली हमें मोह रूपी अंधकार से निकलकर ज्ञान और भक्ति रूपी प्रकाश की ओर जाने का सकेंत करती है।..... दीपावली पर घर की सफ़ाई हमें मन की सफाई करने का संकेत करती है।.... दीपक का जलना हमें ज्ञान और भक्ति रूपी प्रकाश का संकेत करता है।..... आतिशबाजी हमारे मन में आनन्द के प्रकट होने का संकेत करती है।..... जब मन की सफाई होती है तभी मन में भक्ति का प्रकाश होता है।.... जब मन में ज्ञान और भक्ति का प्रकाश होता है तभी भगवान आनद रूप में प्रकट होते हैं।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2249 days 2 hrs 42 mins ago By Ravi Kant Sharma
 वर्तमान क्षण मे और प्रभावकारी रूप से रहने के लिए मुझे क्या करना चाहिए ?
जय श्री कृष्णा.... बीते हुए समय का पश्चाताप और भविष्य की चिन्ता का त्याग कर अपने मन को वर्तमान में स्थिर करने का प्रयत्न करना चाहिये।.... जो व्यक्ति वर्तमान क्षण में स्थित होकर जो भी कार्य करता है तो उस व्यक्ति का वह कर्म भगवान की आराधना बन जाता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2249 days 2 hrs 48 mins ago By Ravi Kant Sharma
 वर्तमान क्षण मे और प्रभावकारी रूप से रहने के लिए मुझे क्या करना चाहिए ?
जय श्री कृष्णा.... बीते हुए समय का पश्चाताप और भविष्य की चिन्ता का त्याग कर अपने मन को वर्तमान में स्थिर करने का प्रयत्न करना चाहिये।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2250 days 16 hrs 15 mins ago By Ravi Kant Sharma
 मेरी भूमिका क्या होगी ?
जय श्री कृष्णा.... संसार में जब व्यक्ति पुण्य कर्म नहीं करता है तो उससे पाप कर्म स्वतः ही हो रहे होते हैं।..... संसार में कोई भी व्यक्ति न तो किसी का मित्र होता है और न ही किसी का शत्रु होता है।...... इसलिये प्रत्येक व्यक्ति अपने अच्छे या बुरे कर्मों का स्वयं ही जिम्मेदार होता है।.... सांसारिक रंगमंच पर प्रत्येक व्यक्ति की भूमिका शरीर रूप में एक कलाकार की होती है, और जीवात्मा रूप में एक दर्शक की होती है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2250 days 16 hrs 20 mins ago By Mohan Lal Agarwal
 मेरी भूमिका क्या होगी ?
मेरी भूमिका क्या है?
मेरी मान्यता है कि मैने पाप व पुन्य कर्म कीये। मैंने मान रखा है कि सब कर्मोंमें मेरी भूमिका है। यथार्त में शरीर व मन ने जो चाहा वो सब कर्म किये। मैं तो सोता ही रहा,मूर्छित रहा, असंवेदनशील रहा, अचेतन रहा, बेहॊश रहा और मान लिया कि सब कर्म मैंने ही कीये। अर्थात मैं तो भूल ही गया, मेरी स्मृति खो गई कि मैं तो अकर्ता हूँ- क्रिया-शून्य हूँ
आश्चर्य है कि मैं स्वयं अपने आप को ही भूल गया। मेरे को केवल स्मृति होनी है, बोध होना है, जाग्रत होना है कि-मैं अकर्ता हूँ। यह अकर्ता के बोध का भाव- ग्यान, अनुभूति होगी- साधना से। साधना- श्री राधाकृष्ण-नाम, स्वरूप व लीला का ध्यान-सुमरिन। साधना से ही मैं अपनी ही गहरी निद्रा से, मूर्छा से जागूँगा। तब भान होगा कि-मेरी भूमिका तो कुछ भी नहीं। मैं तो केवल साक्षी हूँ।
राधे राधे!
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2250 days 23 hrs 13 mins ago By Reena Jhamb
 MANUSHYA JANM KA MUKHYA UDDESHYA KYA HAI? KYA HUM USE PRAPT
ishwar icha mai apni icha mila kar karam karne se sab manorath aur udheshe khudh hi puran ho jate hai
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2251 days 18 mins ago By Reena Jhamb
 किस आईने का उपयोग करूं?
apne antermann se, vahi sabhi samadhan hai..
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2251 days 16 hrs 25 mins ago By Nidhi Nema
 करवा का क्या अर्थ होता है ?
राधे राधे,करवा चौथ को जिस मिट्टी के पात्र में गेहूँ भरकर पूजा की जाती है ,उसे करवा कहते है.और करवा चौथ की कथा में जिस लडकी की कथा आती है उसका नाम भी करवा था.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2253 days 13 hrs 34 mins ago By Ravi Kant Sharma
 MANUSHYA JANM KA MUKHYA UDDESHYA KYA HAI? KYA HUM USE PRAPT
जय श्री कृष्णा.... मनुष्य जीवन का एक मात्र उद्देश्य कर्म के द्वारा भगवान की कृपा प्राप्त करके कर्म के बन्धन से मुक्त होना होता है।..... जो जीवात्मा अपनी अवस्था के अनुरूप शास्त्र विधि से कामना रहित होकर कर्म करती है वह शीघ्र ही भगवान की कृपा का अधिकारी बन जाती है।..... वर्तमान कर्म तो केवल मन के द्वारा ही होते हैं, तन के द्वारा जो भी कर्म होते दिखलाई देते है वह सभी प्रारब्ध के कारण स्वतः ही हो रहे होते हैं।.... आज्ञानता के कारण प्रत्येक जीवात्मा शरीर के द्वारा होने वाले कर्म को ही वास्तविक कर्म समझ लेता है इस कारण कर्म के बन्धन में ही फँसा रहता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2254 days 21 hrs 28 mins ago By Dasi Radhika
 चाँद को देखने का क्या महत्व है
वामन पुराण मे करवा चौथ व्रत का वर्णन आता है, इस दिन भालचन्द्र गणेश जी की अर्चना की जाती है। करवाचौथ में भी संकष्टीगणेश चतुर्थी की तरह दिन भर उपवास रखकर रात में चन्द्रमा को अर्घ्य देने के उपरांत ही भोजन करने का विधान है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2255 days 21 hrs 45 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 mann itna chanchal kyon hai???
मन सकल इन्द्रीओं का केंद्र है या कहें मन इन्द्रीओं का राजा है और सभी इन्द्रियां मन को प्रसन्न करने में रहती है और मन से परे बुद्धि है पर हमारी बुद्धि मन पर राज ना करके उसके साथ बह जाती है इसलिए मन निरंकुश होता है और चंचल रहता है | बुद्धि इसलिए मन के साथ बहती है क्योंकि बुद्धि का राजा विवेक है और विवेक हमारा जागृत नहीं है सुप्त है | असल में जो कंट्रोल विवेक का होना चाहिए वो कंट्रोल इन्द्रीओं का है बस यही मन कि चंचलता का कारण है | अभ्यास करें विवेक को जागृत करने का कुछ भी करने से पहले थोड़ा मनन करें फिर करें | पूजा करते समय मन अगर भागता है तो उसे दोबारा पढ़ें जब तक ठीक से ना पढ़ा जाए उसे पढ़ते रहें ऐसा अभ्यास करने से मन पर बुद्धि का अधिकार हो जाएगा और बुद्धि पर विवेक का |
जय श्री राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2255 days 22 hrs 7 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 किस आईने का उपयोग करूं?
अपने को जानने के लिए मन से बड़ा दर्पण कोई नहीं है आत्म विश्लेषण करने से ही हमें अपनी अध्यात्मिक उन्नति का पता चलता है रोज विश्लेषण करें और देखें कि आज कहाँ कहाँ लोभ आया कब हम मोह में बहे कब क्रोध किया कब हमने अहंकार में होकर अपने को श्रेष्ठ समझा और इन सबको देखने के लिए दर्पण अपना मन ही है |
जय श्री राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2256 days 13 hrs 54 mins ago By Ravi Kant Sharma
 mann itna chanchal kyon hai???
जय श्री कृष्णा.... मन चंचल नहीं होता है, चंचल बुद्धि होती है।.... मन सदैव बुद्धि का ही अनुसरण करता है, बुद्धि की चंचलता के कारण मन चंचल प्रतीत होता है।..... जब बुद्धि स्वयं मन के आधीन हो जाती है तो बुद्धि की चंचलता शान्त हो जाती है तब मन भी स्थिर हो जाता है।......

श्रीमद भगवत गीता और श्रीमद भागवत पुराण को केवल पढने के लिये ही पढना चाहिये, समझने के भाव से कभी नहीं पढना चाहिये, समझने के भाव से पढने पर स्वतः समझाने का भाव उत्पन्न हो जाता है जिससे समझने के भाव में बाधा उत्पन्न हो जाती है जिसके कारण पढा हुआ कुछ भी याद नहीं रहता है।.... आध्यात्म मन बुद्दि से परे होता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2257 days 19 mins ago By Vandana Goel
 परिग्रह क्या है और साधना में ये कितना बाधक है ?
Parigrah means to accumalate material things for future use indirectly it cud mean not to have complete faith on paramtma as super soul and care taker of living entity.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2257 days 22 mins ago By Vandana Goel
 मन आखिर है क्या?
the mind is a part of subtle body, which is also composed of intelligence and ego. mind resides near the heart of living entity.From mind arises all type of emotions and desires.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2257 days 21 hrs 23 mins ago By Ravi Kant Sharma
 किस आईने का उपयोग करूं?
जय श्री कृष्णा.... जब तक व्यक्ति में कुछ भी देखने की या कुछ भी जानने की चाहत बनी रहती है तब तक व्यक्ति की आध्यात्मिक उन्नति असंभव होती है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2258 days 2 hrs 29 mins ago By Ravi Kant Sharma
 तनाव का अनुभव क्यों होता है?
जय श्री कृष्णा.... प्रत्येक व्यक्ति में स्वार्थ की भावना के कारण ही कामनाओं की उत्पाति होती है।.... कामनाओं की पूर्ति में व्यवधान उत्पन्न होने पर क्रोध की उत्पत्ति होती है, क्रोध की उत्पत्ति के कारण ही मानसिक तनाव का अनुभव होता है।.... स्वार्थ की भावना के त्याग होने पर ही मन की स्थिरता संभव होती है।.... मन के स्थिर होने पर ही चिर स्थाई मानसिक शान्ति की प्राप्ति संभव होती है।.... इसलिये प्रत्येक व्यक्ति को स्वार्थ की भावना का त्याग करने का प्रयत्न करना चाहिये।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2258 days 16 hrs 23 mins ago By Radharani Dasi
 तनाव का अनुभव क्यों होता है?
kamnayon ki poorti me badha padne par hi tanav hota hai
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2259 days 1 hrs 14 mins ago By Vandana Goel
 तनाव का अनुभव क्यों होता है?
I think stress and tensions are the result of our life styles that we unnecessarily live leaving only little QUALITY time for our Dhayan or sadhana.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2259 days 14 hrs 12 mins ago By Vandana Goel
 Radha kaun Hai?
Shrimati Radha rani is the internal potency of krishna. She is eternal consort of Shri Krishna. She is synonymus to eternal bliss and love.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2260 days 2 hrs 14 mins ago By Ravi Kant Sharma
 ईश्वर उत्तम है !
जय श्री कृष्णा.... संसार में कोई भी कार्य न तो उत्तम होता है और न ही निकृष्ट होता है, केवल व्यक्ति की भावना ही उत्तम और निकृष्ट होती हैं।.... जिस व्यक्ति की जैसी भावना जिस किसी भी कार्य से जुड़ती हैं तो वही कार्य उस व्यक्ति के लिये वैसा हो जाता है।........ कल्पना करो..... जिसकी रचना इतनी सुन्दर वो कितना सुन्दर होगा।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2260 days 2 hrs 15 mins ago By Ravi Kant Sharma
 ईश्वर उत्तम है !
जय श्री कृष्णा.... संसार में कोई भी कार्य न तो उत्तम होता है और न ही निकृष्ट होता है, केवल व्यक्ति की भावना ही उत्तम और निकृष्ट होती हैं।.... जिस व्यक्ति की जैसी भावना जिस किसी भी कार्य से जुड़ती हैं तो वही कार्य उस व्यक्ति के लिये वैसा हो जाता है।........ कल्पना करो..... जिसकी रचना इतनी सुन्दर वो कितना सुन्दर होगा।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2261 days 2 hrs 50 mins ago By Ravi Kant Sharma
 मन आखिर है क्या?
जय श्री कृष्णा.... मन, बुद्धि और अहंकार प्राकृतिक दिव्य तत्व हैं जिससे प्रत्येक व्यक्ति के वास्तविक स्वरूप का निर्माण होता है.... मन का वास स्थान हृदय और बुद्दि का वास स्थान दिमाग (मस्तिष्क) होता है।..... मन में ही भाव की उत्पत्ति होती है, कर्तापन का भाव ही अहंकार होता है, इसलिये अहंकार का वास स्थान मन होता है।.... यह सभी तत्व जगत में सभी प्राणीयों में एक समान रूप में विद्यमान रहते हैं।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2261 days 19 hrs 39 mins ago By Jaswinder Jassi
 पाप किसे कहते हैं विस्तार से बतायें?
PAAP... vo kirya hai jo smajj ko asshi nhi lggti aur smajj chahta hai ke ye koyi na krre....
PUUN... vo kirya hai jo smajj ko asshi lggti hai aur smajj chahta hai ke ye sbbi krre...
**JASSI**
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2261 days 19 hrs 49 mins ago By Jaswinder Jassi
 पाप किसे कहते हैं विस्तार से बतायें?
PAP kya HAI...?
ये दुनिया भगवान ने अपनी प्रकिती से बनवाई और प्रकीर्ति ही इससे चला रही है ] और
प्रकीर्ति ने जीवों की रचना अपनी प्रकीर्ति को चलाने के लिए की है न के किस्सी धर्मकर्म के कारेओ के लिए जीव(मानुष) पैदा किये हैं ] प्रकिरती के नौ मूल स्रोत हैं (सूरज, चाँद ,तारे, मिटी ,अग्नि ,पानी, वायु{हवा }, जी{मनं }, और आकाश{आवाज़ } मिटी-अग्नि - पानी वायु और आकाश के मुख स्रोत से कण निकल कर आपस में जुर्ते हैं और एक बॉडी (सरीर) की रचना होती है ] जे रचना जब से प्रकीर्ति होन्द में आई तब्ब से लगातार हो रही है ] जिस के कारण मुख स्रोतों में कम्मी आना लाजमी है अगर प्रकीर्ति उस कमी को पूरा नही करेगी तो एक सम्मे ऐसा आयेगा जब प्रकीर्ति में बॉडी ही बॉडी होंगी ]
इस लिए प्रकीर्ति ने बॉडी( तन्न ) के साथ मनं लग्गा कर जीवों की रचना कर दी , जीव क्या करते हैं ,सबबी प्रकार के जीव वस्तू (बॉडी/तन्न ) खुराक के रूप अपने सरीर के अंदर ले जाते हैं जीवों के सरीर के अंदर रर्सैनिक किर्या होती है जिस से वस्तु अपने मूल तत्व में टूट जाती है ,मल के रूप में जीव उस को सृष्टी बखेर देता है जो अपने मूल तत्व (पानी पानी में हवा हवा में मिटी मिटी में अग्नि अग्नि में और आकाश आकाश में मिल कर उन स्रोतों आई कम्मी को पूरा कर देते हैं ] मानुष का तिआगा मल पशु खा जाते हैं , पशुओं का तिआगा मल पक्षी खा जाते हैं और पक्षिओं की बीठ बनस्पति खाती है ]ये किर्या चारोँ प्रकार के जीव मिल कर लगातार करते रहते हैं ]
प्रकीर्ति ने जीवों की रचना केवल इस्सी लिए की हुई है , ये धर्म कर्म पाप पुन स्वर्ग नरक मानुष की अपनी रचना है और कुश नही ]
अब्ब विचारण की बात ये है के जीव निर्जीव की रचना में परमात्मा का रोल है ] किओके परमात्मा कोई वस्तु नही केवल ख़ाली स्थान जो के हर समय हर जगह मजूद रहता है , इस को कोई वस्तु नही कहा जा सकता मगर सभी वस्तुए इस के कारण इस के भीतर से ही दिखाई देती एक कण से ले कर ग्रेह तक इस के घेरे में हैं ] सबी इस में ही चल रहे हैं ] ये वस्तु से पहले बी होता है , वस्तू नज़र आते सम्मे ये वस्तु के चोगिर्द रहता है और जब वस्तु नही होती ये फिर बी व्ही पर होता है ] ये कही से नही आता और न ही कही जाता ] जीव निर्जीव वस्तुओं के कण इस में चल कर ही आपस में jur कर पंज तत्व वस्तुओं की रचना करते हैं ] सारी प्रकीर्ति सभी वस्तुए इस में टिकी हुई हैं और चल रही हैं >>>>>>>>> जस्सी
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2261 days 20 hrs 9 mins ago By Jaswinder Jassi
 मन आखिर है क्या?
मनं क्या है और ये सरीर में कहाँ निवास करता है...?
तन्न + मनं = जीव
(body + mind = LIVING BODY)....EGG + sprem
पंज तत्व तन्न =स्थूल सरीर
एक तत्व मनं =सुख्शम सरीर ....
पर्किर्ती सभी जीवों की रचना करती है ]
सभी जीवों में male -female होते हैं , जिन के मिलन से जीवों का जन्म होता है कोई भी जीव इन दोनों के मिल्न के बिना नही जन्म लेता , इन के मिलन में क्या होया है ? इन के मिलन में अंडज और सुक्राणु का मिलम होता है , अंडज female body में होता है और सुक्राणु male body से आता है दोनों का मिलन ही एक जीव को जन्म देता है ] पशु पक्षी और मानुष सभी इस्सी पर्कार से जन्म लेते हैं....एकला तन्न जीव नही होता और न ही एकला मनं जीव होता है...
जीवों का स्थूल सरीर सैलों का बनना होता है और हर सैल पे दो electric chrage होते हैं जिनकी आपस में एक दुसरे के प्रति कशिश होती है जिस की वजह से ये आपस में जुर्ते जाते हैं और एक सरीर ( body ) का रूप ले लेते हैं , इन सैलों के दोनों terminals ( -ve aur +ve) जब तक आपस में नही जुरते तब तक सरीर में current की धरा नही चलती ये बिजली के धारा का बहना ही जीव का जीवन है ....सुक्राणु इन दोनों terminals को जोर्ता है और जीव में जीवन धारा बहने लुगती है और जीव का जीवन आरभ होता है ...
ये मनं सुक्राणु मनं ही है जो किस्सी सरीर को जीवन देता है....
ये मनं इक तत्व होने के कारण कब्बी नही मरता भाव कभी नही बिखरता ....ब्हु तत्व स्थूल सरीर बिखर जाता है..
. जैसे बिजली का करंट ही बिजली के ज्न्त्रों को चलता है इस्सी तरा ये मनं ही सरीरों को गतिशील रखता है...ये जीव के दिमाग में निवास करता है और जहाँ से ही पुरे सरीर को चलाता है...
**जस्सी**
[email protected]
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2261 days 20 hrs 23 mins ago By Jaswinder Jassi
 मन आखिर है क्या?
मनं क्या है और ये सरीर में कहाँ निवास करता है...?
तन्न + मनं = जीव
(body + mind = LIVING BODY)....EGG + sprem
पंज तत्व तन्न =स्थूल सरीर
एक तत्व मनं =सुख्शम सरीर ....
पर्किर्ती सभी जीवों की रचना करती है ]
सभी जीवों में male -female होते हैं , जिन के मिलन से जीवों का जन्म होता है कोई भी जीव इन दोनों के मिल्न के बिना नही जन्म लेता , इन के मिलन में क्या होया है ? इन के मिलन में अंडज और सुक्राणु का मिलम होता है , अंडज female body में होता है और सुक्राणु male body से आता है दोनों का मिलन ही एक जीव को जन्म देता है ] पशु पक्षी और मानुष सभी इस्सी पर्कार से जन्म लेते हैं....एकला तन्न जीव नही होता और न ही एकला मनं जीव होता है...
जीवों का स्थूल सरीर सैलों का बनना होता है और हर सैल पे दो electric chrage होते हैं जिनकी आपस में एक दुसरे के प्रति कशिश होती है जिस की वजह से ये आपस में जुर्ते जाते हैं और एक सरीर ( body ) का रूप ले लेते हैं , इन सैलों के दोनों terminals ( -ve aur +ve) जब तक आपस में नही जुरते तब तक सरीर में current की धरा नही चलती ये बिजली के धारा का बहना ही जीव का जीवन है ....सुक्राणु इन दोनों terminals को जोर्ता है और जीव में जीवन धारा बहने लुगती है और जीव का जीवन आरभ होता है ...
ये मनं सुक्राणु मनं ही है जो किस्सी सरीर को जीवन देता है....
ये मनं इक तत्व होने के कारण कब्बी नही मरता भाव कभी नही बिखरता ....ब्हु तत्व स्थूल सरीर बिखर जाता है..
. जैसे बिजली का करंट ही बिजली के ज्न्त्रों को चलता है इस्सी तरा ये मनं ही सरीरों को गतिशील रखता है...ये जीव के दिमाग में निवास करता है और जहाँ से ही पुरे सरीर को चलाता है...
**जस्सी**
[email protected]
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2265 days 2 hrs 38 mins ago By Diwakar Kushwaha
 पाप किसे कहते हैं विस्तार से बतायें?
पाप और पुण्य ये वह पहलु है जीवन के जिनपर सभी प्राणियो का जीवन निर्भर करता है , सभी प्राणी कर्म करते हैं और ये कर्म दो प्रकार के होते हैं पुण्य कम और पाप कर्म और उन्ही कर्मो के अनुसार योनी प्रदान होती है अब प्रश्न यह है की पाप कर्म क्या हैं
मेरे विचार से किसी भी जीव को बिना किसी अनुपयुक्त चेष्टा(किसी को हानि) के दण्डित करना चाहे वह शब्दों के माध्यम से हो , चाहे धन के माध्यम से या फिर शरीर के माध्यम से वह पाप है और यदि हम किसी ऐसे के प्रति शक्ति अपनाते हो जिसने अनुपयुक्त चेष्टा की हो तो वह धर्म को समर्पित हमारा कर्म होगा जो हमे पाप का नहीं पुण्य का भागी बनाता है ----हरी ॐ तत्सत
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2265 days 12 hrs 54 mins ago By Lakshmi Radha Somasu
 Beautiful
i can work and am living with my parents along with my dau i am educated and was working on marriage, i can work, help me find job so i can support my family
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2265 days 12 hrs 54 mins ago By Lakshmi Radha Somasu
 Beautiful
i can work and am living with my parents along with my dau i am educated and was working on marriage, i can work, help me find job so i can support my family
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2266 days 11 hrs 47 mins ago By Gulshan Piplani
 मानव कौन है ? उसे क्या करना है ?
मानव परम पिता परमेश्वर की वोह सुंदर कृति है जिसमें परमात्मा ने वोह सब गुण प्रदान किये हैं जो स्वयं परमात्मा मैं विद्यमान थे परन्तु क्योंकि उस अंशी का अंश ही मानव है इस लिए वोह सब एक से अनेकता को प्राप्त हुए| इस प्रकार अगर हम अनेकता को मानव अर्थात अंश कहते हैं परन्तु एक को अंशी| प्रभु ने अपनी बनायीं सृष्टि के सञ्चालन हेतु ही अंश को माध्यम बना इस संसार में भेजा है| परन्तु जब कोई मानव अनेकता को अपने भीतर समाहित कर लेता है तो स्वयं प्रभु में समाहित हो जाता है फिर उसे कुछ करने की आवश्यकता ही नहीं रह जाती| - हरिओम तत्सत -
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2267 days 10 hrs 50 mins ago By Gulshan Piplani
 गीता की महिमा का रहस्य ?
- हरिओम तत्सत - जब तक ज्ञान का विस्तार नहीं बढेगा अर्थात ज्यादा से ज्यादा लोग नहीं जानेगे तब तक ज्यादा प्रशन भी नहीं उठेंगे| जब जब ज्ञान का विस्तार होता है दृष्टिकोण भी बढ़ते हैं अर्थात यूं भी समझ सकते हैं कि अलग अलग सव्भावों का समावेश होने के कारण वश ज्ञान के विभिन्न और अभिन्न रूप दृष्टिगत होते हैं और जितने अधिक दृष्टिकोण लोगों के समक्ष प्रस्तुत होते चले जाते हैं उतनी ही रहस्यताम्कता बदती चली जाती है - बाकि तो बस राधे राधे जपता जा - दायें बायें तकता जा - हरिओम तत्सत
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2268 days 52 mins ago By Pt Chandra Sagar
 माँ दुर्गा की उपासना क्यों की जाती है?
maa shakti swaroopa hoti hain , shakti ke vina koyi bhi kary sambhav nahi .sharir me shakti na ho to ek kadam bhi chalna mushkil hai|
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2269 days 15 hrs 57 mins ago By Mahavirsinh N Gohil
 हम कैसे जानें कि सच्चा प्यार क्या है?
ha bhakti ji jaha koi aas nahi hoti wahi to sachha pyar he
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2273 days 12 hrs 49 mins ago By Sudarshan Dhungel
 भगवान के अवतारों की कुल कितनी संख्या है ?
श्री मदभागवत महापुराण में भगवान के २४ अबतार का वर्डन किया गया है .....जय जय श्री राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2273 days 18 hrs 28 mins ago By Gulshan Piplani
 संतुलन कैसे लाऊँ?
जब तक हम बंधन ग्रस्त रहते हैं हम सम्पन्नता का भाव नहीं समझ पाते| इसके लिए सम्पन्नता को समझना बहुत जरूरी है| असम्पन्न व्यक्ति उसे कहते हैं जिसके पास कितना भी हो जाये पर वह आभावग्रस्त हो| करोड़ों, अरबों, खरबों, पर फिर भी अभाव| इसके विपरीत सम्पन्न उसे कहा जाता है जिसके पास जो कुछ भी हो वह उसमें संतुष्ट रहे| इसका सम्बन्ध मात्र धन से ही नहीं जीवन के हर पहलू से है| जैसे घर वालों से प्रेम मिलता है पर और चाहिए| घर में बना बनाया खाना मिलता है पर फिर भी अच्छा बुरा लगता है| बच्चे हमारे जतन से और अपने भाग्य से अच्छी जॉब कर रहे हैं पर फिर भी संतोष नहीं| ऐसे हजारों कारण असम्म्पनता के विद्धमान रहते हैं जीवन में| बस जीवन में संतोष का प्रादुर्भाव हो जाये और सम्पन्नता का भाव जागृत होने लगे तो संतुष्टता आने लगेगी और जीवन संतुलित होने लगेगा| प्रयास बिना नहीं कुछ मिलता - जीवन इसी वजह से हिलता|| - हरि ॐ तत्सत -
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2273 days 19 hrs 22 mins ago By Gulshan Piplani
 महत्व
"मेरे पितर जो प्रेतरुप हैं, तिलयुक्त जौं के पिण्डों से वह तृप्त हों. साथ ही सृष्टि में हर वस्तु ब्रह्मा से लेकर तिनके तक, चाहे वह चर हो या अचर हो, मेरे द्वारा दिए जल से तृप्त हों".वायू पुराण से उद्धृत
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2274 days 12 hrs 4 mins ago By Dasi Radhika
 श्राद्ध का अधिकारी कौन है ?
मरणोपरांत संस्कारों को पूरा करने के लिए पुत्र का प्रमुख स्थान माना गया है। शास्त्रों में लिखा है कि नरक से मुक्ति पुत्र द्वारा ही मिलती है। इसलिए पुत्र को ही श्राद्ध, पिंडदान का अधिकारी माना गया है और नरक से रक्षा करने वाले पुत्र की कामना हर मनुष्य करता है। इसलिए यहां जानते हैं कि शास्त्रों के अनुसार पुत्र न होने पर कौन-कौन श्राद्ध का अधिकारी हो सकता है - - पिता का श्राद्ध पुत्र को ही करना चाहिए। - पुत्र के न होने पर पत्नी श्राद्ध कर सकती है। - पत्नी न होने पर सगा भाई और उसके भी अभाव में संपिंडों को श्राद्ध करना चाहिए। - एक से अधिक पुत्र होने पर सबसे बड़ा पुत्र श्राद्ध करता है। - पुत्री का पति एवं पुत्री का पुत्र भी श्राद्ध के अधिकारी हैं। - पुत्र के न होने पर पौत्र या प्रपौत्र भी श्राद्ध कर सकते हैं। - पुत्र, पौत्र या प्रपौत्र के न होने पर विधवा स्त्री श्राद्ध कर सकती है। - पत्नी का श्राद्ध तभी कर सकता है, जब कोई पुत्र न हो। - पुत्र, पौत्र या पुत्री का पुत्र न होने पर भतीजा भी श्राद्ध कर सकता है। - गोद में लिया पुत्र भी श्राद्ध का अधिकारी है। - कोई न होने पर राजा को उसके धन से श्राद्ध करने का विधान है। - पुरुष के ना होने पर महिलाये भी श्राद्ध कर सकती है .
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2275 days 22 hrs 7 mins ago By Vipin Sharma
 संतुलन कैसे लाऊँ?
jab tak bura nahi hota to achha bhi nahi ho sakta. jivan me dono jaruri h. Sukh or dukh hi jivan ka santulan hota h aise hi achha or bura balance hi h.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2276 days 18 hrs 54 mins ago By Nidhi Nema
 Ekadasi
राधे राधे,एकादशी तिथि का समय ब्राहमण जन इस प्रकार बताते है - कि यदि दशमी तिथि रात को २ बजे के बाद तक रहे तो एकादशी में भेद हो जाता है.अर्थात पहले दिन की एकादशी नहीं करनी चाहिये.दूसरे दिन की एकादशी करनी चाहिये.और पंचाग में देखना चाहिये कि एकादशी कब समाप्त हुई क्योकि ये जरुरी नहीं कि सूर्य अस्त के बाद ना हो,ये समय पर निर्भर करता है कि कब तक एकादशी थी.और जैसे ही पंचाग में द्वादशी लगे.उसी समय भगवान को भोग लगाकर स्वयं पारण करना चाहिये.एकादशी शुरू तो ब्रह्म मुहूर्त में होती है पर समाप्त ब्रह्म मुहर्त में हो ये जरुरी नहीं है.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2278 days 18 hrs 46 mins ago By Diwakar Kushwaha
 संतुलन कैसे लाऊँ?
जब सभी इश्वर के बनाये हुए है तो उनमे भेद कैसा और अगर उनमे भेद करेंगे तो इश्वर को कैसे प्राप्त कर सकेंगे बस इस बात पर सोचते रहिये सभी अछे लगने लगेंगे , भगवान् के बच्चे लगने लगेंगे-----हरी ॐ तत्सत
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2279 days 2 hrs 40 mins ago By Ravi Kant Sharma
 संतुलन कैसे लाऊँ?
जय श्री कृष्णा.... बुरा लगने का कारण मूल कारण अच्छा लगना होता है।.... यदि जीवन को संतुलित करना है तो संसार में किसी भी वस्तु को अच्छा नहीं समझना होगा।.... जब हम किसी भी वस्तु को अच्छा नहीं समझेंगे तो हमें कोई भी वस्तु बुरी भी नहीं लगेगी।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2279 days 11 hrs 48 mins ago By Gulshan Piplani
 गीता की महिमा का रहस्य ?
वेदों को समझने वाले बहुत कम लोग थे| फिर भगवान् वेद व्यास जी ने पुराणों की रचना की तो वेदों से ज्यादा लोगों ने उन्हें पढ़ा, समझा और जाना| और गीता जी तो एक अनूपम ज्ञान-विज्ञान का तोहफा लोगों को मिला| और गीता प्रेस और कई प्रकाशनों ने डट कर गीता का प्रचार भी किया| काल और परिस्थियों के बदलने के कारणवश लोगों के पास समय का अभाव होता गया और लोग दीर्घ से लघु ग्रंथों की और आकर्षित होते चले गए| आजकल गीताजी के गुटके निकल पढे हैं जिन्हें बहुत कम समय में पढ़ा जा सकता है| यहाँ तक की गीता जी का दोहों में भी अनुवाद हो जाने से उसके सार को कम समय में समझा जा सकता है| मूल कारण समय का आभाव ही रहा| - हरिओम तत्सत -
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2281 days 11 hrs 25 mins ago By Gulshan Piplani
 प्राकृतिक प्रकोपों को कैसे रोक सकते हैं
मनुष्य ने अपने ज्ञान-विज्ञान से कुछ सीखा है जैसे पेड़ पोधे मनुष्य को प्रेम देते हैं हमें आक्सीजन प्रदान करते हैं और बिना आज्ञा अपेक्षा के हमें अपने फल प्रदान करते हैं वह इस प्रकृति का हिस्सा हैं ठीक वैसे ही जैसे नदियाँ, झरने, पहाड़ इत्यादि भी प्रकृति का हिस्सा हैं| जिस तरह मनुष्य प्रदूषण फेला प्रकृति को तहस नहस कर रहा है उससे प्रकृति असंतुलित होती है और अणु bombs गोला-बारूद की पचुरता ही प्राकृतिक असंतुलन का कारण है| अगर मानव पुन: आपस में प्रेम भाव बनाये रखे, प्रदूषण से प्रकृति को बचाकर, स्वयं को प्राकृतिक प्रकोपों से बचा सकता है| इसलिए राधा नाम जो प्रेम का स्वरूप है उसका जप कर सम्पूर्ण विश्व में प्रेम का संचार करें और प्रकोपों से राहत पाने का प्रयास करें - बाकि तो बस राधे राधे जपता जा - प्रकृति प्रोकोपों से बचता जा| -गुलशन हर भगवान् पिपलानी -
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2281 days 20 hrs 24 mins ago By Gulshan Piplani
 संसार गुणों का खेल है
..........दृष्टा समझे प्रकृति तीन गुणों, बिन नहीं कोई कर्ता व्याप्त|.......... ..........तीन गुणों से पर पा .मुझको, हो .दिव्य स्वभाव को .प्राप्त||.......... -हरिओम तत्सत -
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2281 days 23 hrs 6 mins ago By Gulshan Piplani
 संसार गुणों का खेल है
दृष्टा समझे प्रकृति तीन गुणों, बिन नहीं कोई कर्ता व्याप्त| तीन गुणों से पर पा .मुझको, हो .दिव्य स्वभाव को .प्राप्त|| -हरिओम तत्सत -
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2282 days 12 hrs 46 mins ago By Ravi Kant Sharma
 संसार गुणों का खेल है
जय श्री कृष्णा.... संसार प्रकृति के सत, रज और तम गुणों का खेल है।.... जब तक व्यक्ति में सतोगुणी, रजोगुणी या तमोगुणी कामनायें उत्पन्न होती रहती हैं तब तक व्यक्ति प्रकृति के गुणों के अधीन (माया के अधीन) ही रहकर बार-बार जन्म-मृत्यु को प्राप्त होता रहता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2283 days 38 mins ago By Diwakar Kushwaha
 संसार गुणों का खेल है
जब भी कही पर भी किसी कथन के पीछे क्या उद्देश्य है इसकी बात आती है तो जितने लोग होते है उतने विचार भी उत्पन्न होते है इसमें से मेरा विचार यह है की यह संसार जो इश्वर की बनाई हुई अनुपम रचना है इसमें उन्होंने हर प्राणी चाहे वह समजाति का हो या विशाम्जाती का , सम्योनी का हो अथवा विषम योनी का , समलिंगी हो या विषमलिंगी सभी के विचार और गुण प्रथक प्रथक होते है , उनमे कही कही एकरूपता तो दिखाई दे सकती है परन्तु सभी गुण और विचार एक हो ऐसा नहीं हो सकता देखा जाए तो सभी प्राणियों में अगर सामान रूप से है तो वह है स्वयं इश्वर लकिन यहाँ भी बात वही आ जाती है की कोई उनको ढूंढ पाता है और कोई नहीं और कोई तो उनके होने पर ही प्रश्न चिन्ह लगा देता है , इन्ही सब भिन्न भिन्न गुणों के कारन ही संघर्ष,वाद विवाद का जन्म होता है , जीवन चलता है और समाप्त होता है , लकिन इन सभी क्रियाओ प्रतिक्रियाव के मूल में इश्वर हीे रहते है और ये खेल ऐसे ही चलता रहता है ---हरी ॐ तत्सत
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2283 days 15 hrs 31 mins ago By Gulshan Piplani
 चीटी मनुष्य से क्यों नहीं डरती ?
जो जीव सम्पूर्ण जीवन उद्धम में व्यतीत करता है और अहंकार शून्य हो स्वयं को सूक्ष्म समझता है उसे भय नहीं सताता| डर का मुख्य कारण हमारा अस्तित्व है जब हम सम्पूर्ण दिवस बिना फल की कामना किये कार्यरत्त हो उद्धम में लगे रहते हैं तो भय जैसे नकारात्मक विचार हमें नहीं सताते| - बाकि तो बस राधे राधे जपता जा आगे आगे बढ़ता जा - राधे राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2283 days 15 hrs 44 mins ago By Gulshan Piplani
  चेतना की दृष्टा अवस्था क्या होती है? कोई व्यक्ति इस अवस्था पर कब पहुँचता है?
जब मनुष्य यह जान लेता है कि वह मात्र निमित है कारन नहीं इसे चेतना कि दृष्टा अवस्था कहा जाता है अर्थात आत्म को जब परमात्म का ज्ञान हो जाता है और वह अपने कर्मों को दायित्व समझ कर करता है और फल प्रभु पर छोड़ देता है और फलों को दृष्टा भाव से मात्र देखता है - अशुभ का प्रतिकार न होए, दुःख में भी सुख पाये| कठिन तितिक्षा अंदर बेठे ब्रह्म से तुझे मिलाये| बाकि तो बस राधे राधे करता जा| दृष्टा बन कर तरता जा| - राधे राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2283 days 16 hrs 43 mins ago By Gulshan Piplani
 महत्वपूर्ण गुण
विचारों के संकल्प बन जाने के पश्चात ही मनुष्य लक्ष्य को निर्धारित करता है और उसके पश्चात उसकी १)समय सीमा निर्धारित कर उसके २)अनूकुल और प्रतिकूल नतीजों पर विचार करने के पश्चात अपनी ३)योग्यता को परख कर अपने ४)साधनों पर विचार कर, अपनी ५)सम्पूर्ण निष्ठां और ६)सम्पूर्ण शक्ति दोनों को लगा अपने ७)कर्म करने चाहिए और फल की चिंता छोड़ अपने ८)कर्तव्य का पालन करते करते लक्ष्य की तरफ उन्मुख होना चाहिए - बाकि तो बस राधे राधे जपता जा लक्ष्य प्राप्त करता जा - राधे राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2283 days 17 hrs 53 mins ago By Gulshan Piplani
 How spirituality helps to balance the life ?
हम आध्यात्म की लगन को कैसे जागृत करें?इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण है? (प्रशन राधाक्रिपा.कॉम से उद्धृत) पहले तो यह समझना आवश्यक है कि अध्यातम क्या है| १. क्या अध्यातम धर्म है? नहीं अध्यातम धरम नहीं है धर्म मात्र एक दिशा है| धर्म अलग अलग हो सकते हैं| २. अध्यातम क्या एक विचार है? नहीं विचार भी भिन्न भिन्न होते हैं ३.अध्यात्म क्या सत्य का ज्ञान है? तो हर व्यक्ति की अपनी प्रकृति और ज्ञान के अनुसार सत्य की परिभाषा अलग अलग हो सकती है| लोगों का देवताओं को लेकर ही मत-भेद देखने को मिलता है| वेद व्यास जी की वेदांत दर्शन ब्रह्म सूत्र में पृष्ठ - ७४ में शाकल्य ने ३३ बताया है अन्य लोग ३३ करोड़ बताते हैं , कितना बड़ा मतभेद है ३३ से ३३,००,००,००० तक का मतभेद| हर कोई ज्ञान प्राप्त करने के लिए जिस सत्संग से जुड़ा होता है उसकी आसक्ति अपने गुरु और सत्संग से हो जाती है और अपने गुरु द्वारा प्रेषित विचार ही उसके लिए सत्य होते हैं| हम विचारें तो यहाँ भी मतभेद हो सकते हैं| और होना कोई बुरी बात भी नहीं| तो फिर अध्यात्म क्या है?
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2283 days 21 hrs 2 mins ago By Gulshan Piplani
 How spirituality helps to balance the life ?
सम्पूर्ण विश्व की नज़रे आजकल अध्यात्म में रचे बसे भारत की ओर हैं| तो क्या अध्यात्म अपने से भिन्न अर्थात किसी अन्य की कृति से प्रेम का नाम है| पर + कृति = प्रकृति से प्रेम का नाम है अध्यात्म| इसको यूं भी समझ सकते हैं कि मात्र स्वयं से प्रेम न करने का नाम अध्यात्म है| या दूसरे शब्दों में कहें तो सम्पूर्ण जीवों से प्रेम करना ही अध्यात्म की परिभाषा है| जब हम हर मनुष्य से ही नहीं हर जीव से प्रेम करने लगते हैं| उस अदृश्य सत्ता कि बनायीं हुई हर वस्तु (कृति) से प्रेम करने लगते हैं तो हम अध्यात्मिक कहलाने के हकदार हो जाते हैं| तो इसका तात्पर्य तो यही हुआ कि उस अदृश्य सत्ता को स्वीकारना ही अध्यातम है|
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2283 days 21 hrs 3 mins ago By Gulshan Piplani
 How spirituality helps to balance the life ?
सम्पूर्ण विश्व की नज़रे आजकल अध्यात्म में रचे बसे भारत की ओर हैं| तो क्या अध्यात्म अपने से भिन्न अर्थात किसी अन्य की कृति से प्रेम का नाम है| पर + कृति = प्रकृति से प्रेम का नाम है अध्यात्म| इसको यूं भी समझ सकते हैं कि मात्र स्वयं से प्रेम न करने का नाम अध्यात्म है| या दूसरे शब्दों में कहें तो सम्पूर्ण जीवों से प्रेम करना ही अध्यात्म की परिभाषा है| जब हम हर मनुष्य से ही नहीं हर जीव से प्रेम करने लगते हैं| उस अदृश्य सत्ता कि बनायीं हुई हर वस्तु (कृति) से प्रेम करने लगते हैं तो हम अध्यात्मिक कहलाने के हकदार हो जाते हैं| तो इसका तात्पर्य तो यही हुआ कि उस अदृश्य सत्ता को स्वीकारना ही अध्यातम है|
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2283 days 21 hrs 3 mins ago By Gulshan Piplani
 How spirituality helps to balance the life ?
उस अदृश्य सत्ता ने हमें जल, पृथ्वी , वायु, आकाश, अग्नि बिना किसी शर्त के प्रदान की भिन्न भिन्न विचारों के लोगों को भी उस अदृश्य सत्ता ने बिना किसी शर्त के अपनी कृति प्रदान कर दी अपना प्रेम बिना किसी शर्त के प्रदान कर दिया| तो जब हम उस अदृश्य सत्ता से प्रेम करने लगते हैं तो हम अध्यात्मिक कहलाते हैं| और ऐसा होते ही अध्यातम में स्वत: संतुलन आने लगता है - हरि ॐ तत्सत् -
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2284 days 4 hrs 3 mins ago By Ravi Kant Sharma
 How spirituality helps to balance the life ?
जय श्री कृष्णा.... (आध्यात्म ज्ञान = सत्कर्म का ज्ञान)..... सत्कर्म के ज्ञान बिना जीवन का संतुलन असंभव है।.... सत्कर्म का ज्ञान प्रत्येक व्यक्ति को अपनी अवस्था (वर्ण और वर्णाश्रम) के अनुसार ही ग्रहण करना होता है।.... जो व्यक्ति अपनी अवस्था के अनुरूप निरन्तर सत्कर्म करता है तो उस व्यक्ति का जीवन सन्तुलित होने लगता है।.... पूर्ण रूप से तो सत्कर्म का ज्ञान ब्रह्म-साक्षात्कार के बाद ही प्रकट होता है।..... जब सत्कर्म का ज्ञान स्वयं में प्रकट हो जाता है तभी आध्यात्मिक यात्रा प्रारम्भ होती है।..... इससे पहले तो सभी भौतिक यात्रा ही करते रहते हैं।.....यही आध्यात्मिक ज्ञान का सार है।..... सत्कर्म का ज्ञान "श्रीमद भगवत गीता" में वर्णित है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2284 days 15 hrs 58 mins ago By Ravi Kant Sharma
 महत्वपूर्ण गुण
जय श्री कृष्णा.... संकल्प की दृड़ता के बिना लक्ष्य की प्राप्ति असंभव होती है।.... लक्ष्य दो प्रकार के होते हैं।... (१). भौतिक लक्ष्य, (२). आध्यात्मिक लक्ष्य।..... भौतिक लक्ष्य की प्राप्ति प्रारब्ध पर आधारित होती है और आध्यात्मिक लक्ष्य की प्राप्ति वर्तमान संकल्प पर आधारित होती है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2284 days 18 hrs 31 mins ago By Diwakar Kushwaha
 How spirituality helps to balance the life ?
इश्वर में जब आस्था होगी तभी तो समर्पण भाव आएगा जल्दी नहीं तो देर में ही सही लेकिन आएगा जरूर और जब उनमे कर्मो का समर्पण करते हुए अपने सांसारिक पुरुषार्थो को पूरा करेंगे तो जीवन अपने आप संतुलित हो जायेगा ---हरी ॐ तत्सत
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2284 days 18 hrs 35 mins ago By Diwakar Kushwaha
 महत्वपूर्ण गुण
लक्ष्य प्राप्त होना न होना प्रभु इक्षा पर है लेिकन हमको चाहिए की इश्वर को अपने कर्मो को समर्पित करते हुए अपने लक्ष्य की प्राप्ति हेतु अथक परिश्रम करे बाकी गुण अवगुण तो इश्वर के हाथ है
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2285 days 16 hrs 39 mins ago By Ashish Anand
 mata -pita aur bhagwan me kya antar hai.......?
antar sirf itna hai ki humare mata-pita sirf humare ma-bap hai lekin vo to sabka mata-pita hain.humare mata-pita bhi iss sansar mein maya ke adhin hain aur kabhi bhi path se bhatak sakten hai lekin vo supreme pita na to kabhi bhatakta hai aur na hi humare liye nirnay dene mein koi chuk karta hai... nahin kabhi nahin sansar mein sabse zyada rini hum apne parents ke hin hain, iss duniya mein sirf do hi pyar saccha hota hai, ek maa ka aur ek bhagwan ka... so hume dono ki seva utane hi bhav aur shraddha ke sath karni chahiye... yahan ek baat visheshj hai ki acche parents humesha apni pooja na karake bhagwan ki hi pooja karne ko bolten hai...
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2285 days 16 hrs 48 mins ago By Ashish Anand
 प्राकृतिक प्रकोपों को कैसे रोक सकते हैं
hum prakritik prakopon ko rok nahin sakten kyun ki vo to swyam god ke parikar dwara kiya jata hai, lekin hum bhagwan ki seva aur dharma ka palan karke inn sabhi prakopon se bach sakten hain... wastav mein sabhi shaktiyon ka apna ek vishesh sthan hota hai so yahaan prem ka utna mahtva nahin hai jitana ki bhagwan ki shraddha purvak seva aur apne dharma-aacharan ka satyata purvak palan karna... hare krishna
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2285 days 16 hrs 54 mins ago By Ashish Anand
 Ganpati Visarjan
wastav mein dekha jaye to sabhi ke ghar mein ganpati ji rehaten hai. lekin yeh gyat ho ki sabhi devataon ka ek-vishesh din ya mahina hota hai jisamein ve iss dhara par apni vishesh chhaya ya avataran karten hain so ganpati bhi iss vishehs parv par dharti par vishesh- avatarit hoten hain...rahi baat visharjan ki to har kisi ke paas itna samrthya aur time nahin hai ki vo din-rat unki seva aur dhyan rakh sake iss liye ganpati aur durga ji dono hi ke parve mein unaki idol ko visarjit kiya jata hai... kyun ki ye na ki unake ghar mein hoten hai balki har society aur nagar mein group mein bithaye jaten hain... hare krishna
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2285 days 18 hrs 4 mins ago By Yogesh Verma
  radha kripa
swaeg ka ANAND................Jiski mai byakhya nahi kar sakta
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2285 days 19 hrs 17 mins ago By Dheeraj Agarwal
 प्राकृतिक प्रकोपों को कैसे रोक सकते हैं
jis tarah ek mor ka pankh bhagwan ji apne sir per dharan kerte hai q ki wo hi aisa premi hai jo prem me kewal apne premi ke aansu pi ker garbh dharan ker sakta hai isse wadi prem ki koi para kashtha nhi ho sakti.............aap swam soche.........
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2286 days 21 hrs 7 mins ago By Yogesh Verma
 mata -pita aur bhagwan me kya antar hai.......?
maata pita sakshaat ISHWER hai. humne to is duniya mai bhagwaan ki shirf murat dekhi hai,sakshaat to nahi dekha, lekin MATA PITA ko hum apne saath har samay paate hai. humaare to wahi bhagwaan hai, unhi ne humein ishwer k baare mai bataaya hai. isliye wo humaare GURU or GOVIND ono hi hai. jai shree RADHEY
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2287 days 4 hrs 41 mins ago By Ravi Kant Sharma
 Ganpati Visarjan
जय श्री कृष्णा.... जिस प्रकार किसी ब्राह्मण को भोजन पर आमंत्रित किया जाता हैं और भोजन कराने के पश्चात विधि-विधान से पूजा करके विदा किया जाता है, उसी प्रकार से गणपति जी को विदा किया जाता है।..... मूर्ति का विसर्जन तो प्रतीकात्मक होता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2287 days 4 hrs 52 mins ago By Ravi Kant Sharma
 प्राकृतिक प्रकोपों को कैसे रोक सकते हैं
जय श्री कृष्णा.... प्रकृति के नियमों के पालन करके।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2287 days 20 hrs 22 mins ago By Nidhi Nema
 Ganpati Visarjan
पृथ्वी के प्रमुख पांच तत्वों में गणपति को जल का अधिपति माना गया है। राधे राधे, गणपति को बुद्धि का देवता भी कहा गया है जल में विसर्जन का एक वैज्ञानिक तथ्य है कि मनुष्य के मस्तिष्क में अधिकांश तरल भाग ही है। इसलिए गणपति को गणेशोत्सव के बाद जल में विसर्जित किया जाता है। क्योंकि जल को उनका निवास भी माना गया है। मनुष्य की उत्पत्ति जल से ही मानी गई है। भगवान का पहला अवतार (मत्स्य अवतार) भी जल में ही अवतरित हुआ था। इसलिए जल को भी मानव संस्कृति में प्रथम पूज्य माना गया है। भगवान गणपति जल तत्व के अधिपति देवता हैं इसलिए भी इन्हें प्रथम पूज्य माना गया है। और गणेश विसर्जन ही नहीं हम कोई भी यज्ञ अनुष्ठान करे पाठ करे,तो कथा का विसर्जन करना जरुरी होता है.इसका अर्थ होता है हमने देवताओ को बुलाया वे आये भी इसके बाद हम उन्हें बांध कर नहीं रख सकते.इसलिए हर पूजा पाठ के बाद हम विसर्जन करते है.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2288 days 18 mins ago By Diwakar Kushwaha
 प्राकृतिक प्रकोपों को कैसे रोक सकते हैं
मेरे अनुसार इस संसार में हर जीव और वस्तु की नियंत्रित संख्या और कार्य होते है और जब इनमे व्यवधान उपस्थित होता है और प्रकृति असंतुलन का अनुभव करती है तो असंतुलन को संतुलन में बदलने के लिए प्रकृति द्वारा उठाया गया कदम ही " प्राकृतिक प्रकोप " कहलाता है देखा जाए तो ये हमारी सोच मात्र है की हम इस घटना को प्रकोप का नाम देते है वास्तव में ये प्रकोप नहीं बल्की मात्र संतुलन की एक प्रक्रिया है. उदाहरण स्वरूप हम देखे यदि किसी क्षेत्र में किसी भी जीव जाती की अधिकता हो रही है और वह जीव असंतुलन का कारण बन रहा है उस स्थिति में संतुलन का कार्य प्रकृति अपने हाथ में लेती है इस स्थिति में प्रेम की भला क्या भूमिका हो सकती है ये प्रकृति द्वारा प्रदत्त न्याय है जिसमे कोई अपना पराया नहीं होता सभी को इसका पालन करना पड़ता है -------हरी ॐ तत्सत
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2288 days 13 hrs 23 mins ago By Pt Chandra Sagar
 mata -pita aur bhagwan me kya antar hai.......?
दोनों ही जन्म दाता हैं , एक लौकिक और दुसरे अलौकिक | लौकिक से ही अलौकिक को जाना जाता है ,जैसे सगुण के बिना निर्गुण का कोई प्रमाण नहीं होता ,अर्थात जैसे शरीर सगुण है और आत्मा निर्गुण है किन्तु यदि शरीर नहीं तब आत्मा का क्या परिचय ? ठीक इसीप्रकार लौकिक माता-पिता न हो तब ईश्वर को जानेंगे कैसे ? अतः माता -पिता का सम्मान अति आवश्यक है | "प्रातः काल उठिके रघुनाथा |मात-पिता गुरु नावहिं माथा ||"
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2288 days 17 hrs 6 mins ago By Neha Kalra
 mata -pita aur bhagwan me kya antar hai.......?
mata pita ka jageh bhagwan se ucchi ha,,,,, iss liye aapne mata pita ke seva pehle karni chahiye..ager mata pita ki sewa nehi karoge or bhagwan ki karoge to koi faida ne ha iss se bhwan kush nehi honge..wo bhi chahte ha pehle mata pita ki sewa karo or baad mai meri... radhe radhe...
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2288 days 18 hrs 12 mins ago By Diwakar Kushwaha
 vraj yatra samadhan
अपने सिद्धांत के अनुसार कह रहा हूँु की यदि मुघे व्रज यात्रा करनी हो तो मै इस अछे कार्य के लिए यह कहकर छुट्टी ले लूँगा की बीमार हूँ क्योंकी संसार में फसे रहकर स्वार्थ सिद्धि के लिए बैल की तरह कार्य करते रहना किसी बीमारी की तरह ही है और छुट्टी लेकर ब्रिज पहुच जाऊँगा इस बीमारी के इलाज के लिए -----------हरी ॐ तत्सत
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2288 days 18 hrs 24 mins ago By Diwakar Kushwaha
 mata -pita aur bhagwan me kya antar hai.......?
माता पिता का स्थान इश्वर के ही समान है माता पिता वो भगवान् है जो दिखाई देते है हमारे विकास के लिए उत्तरदाई होते है ऐसे साक्षात भगवान की सेवा जो नहीं कर सकता वो भला उन भगवान् की सेवा क्या करेगा जो कण कण में व्याप्त है ----------- हरी ॐ तत्सत
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2288 days 18 hrs 33 mins ago By Diwakar Kushwaha
 महत्व
पंडित और ज्योतिषाचार्य तो भविष्य कथन कर सकतेे है लकिन मनोवैज्ञानिक का भविष्य कथन से कोई लेना देना नहीं है मनोवैज्ञानिक का कार्य मनोविकारो का अध्ययन करना है तो मनोवैज्ञानिक तो इस शंका से मुक्त है और रही बात पंडित और ज्योतिषाचार्य की तो वे भविष्यकथन कुंडली में स्थित ग्रहों की स्थितियों के आधार पर करते हैं जो संभावित होती है परन्तु भगवान् ने कलयुग में कर्मो को सर्वोपरी माना है अतः कर्मो की भी अपनी महत्ता है और किया हुए कर्म भविष्य को भी बदलने की शक्ती रखते है ------------- हरी ॐ तत्सत
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2288 days 19 hrs 27 mins ago By Gulshan Piplani
 mata -pita aur bhagwan me kya antar hai.......?
मात-पिता मनुष्य के पहले गुरु होते हैं और गुरु और गोबिंद दोनों खड़े हों तो पहले गुरु की सेवा ही करके भगवान् की प्राप्ति संभव है| कबीर जी का एक दोहा गुरु. गोबिंद. दोनों .खड़े .काके .लागूं ..पाए| बलिहारी गुरु आपने, गोबिंद दियो बताय||
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2288 days 20 hrs 53 mins ago By Ravi Kant Sharma
 mata -pita aur bhagwan me kya antar hai.......?
जय श्री कृष्णा.... माता पिता पहली सीढ़ी हैं और भगवान मंज़िल हैं।.... कोई भी व्यक्ति सीढ़ी चढे बिना मंज़िल पर नहीं पहुँच सकता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2288 days 21 hrs 51 mins ago By Laxmi Narayan Yadav
 mata -pita aur bhagwan me kya antar hai.......?
kya mata -pita ki seva na karke kya bhagwan ki seva karni chahiye.....?sri radhe
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2288 days 21 hrs 51 mins ago By Laxmi Narayan Yadav
 mata -pita aur bhagwan me kya antar hai.......?
mata -pita aur bhagwan me kya antar hai.......? kya mata -pita ki seva na karke kya bhagwan ki seva karni chahiye.....?sri radhe
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2288 days 23 hrs 47 mins ago By Gulshan Piplani
 vraj yatra samadhan
गीता जी में भगवान् श्री कृष्ण ने अपने अध्याय - १८ के सातवें शलोक में कहा है कि नित्य कर्म का त्याग तामसी होता है मोहवश नित्य कर्म का त्याग करना अनुचित है| एक दोहा मेरी पुस्तक गीताजी-कविता जी से उद्धृत है|.................................................निषिद्ध कर्म, काम्य कर्म का करो स्वरूप से त्याग| नित्य कर्म का त्याग तामसी, मोहवश न इससे भाग|| १८.७ || बाकि तो बस राधे राधे करता जा आगे आगे बढता जा| राधे राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2289 days 15 hrs 4 mins ago By Ravi Kant Sharma
 vraj yatra samadhan
जय श्री कृष्णा.... यह व्यक्ति की अवस्था पर निर्भर करता है।.......जिस व्यक्ति के कर्तव्य-कर्म शेष हैं तो उस व्यक्ति को नौकरी करनी चाहिये.... जिस व्यक्ति के कर्तव्य-कर्म पूर्ण हो चुके हैं तो उस व्यक्ति को ब्रज यात्रा करनी चाहिये।..... क्योंकि यात्रा करना भावात्मक होता है लेकिन नौकरी करना कर्तव्य के अंतर्गत आता है।..... गीता के अनुसार भावना से कर्तव्य श्रेष्ठ होता है।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2289 days 15 hrs 14 mins ago By Ravi Kant Sharma
 महत्व
जय श्री कृष्णा.... भौतिक उन्नति चाहने वाले व्यक्ति को अवश्य महत्व देना चाहिये, लेकिन आध्यात्मिक उन्नति चाहने वाले को कभी महत्व नहीं देना चाहिये।
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2289 days 18 hrs 19 mins ago By Bhakti Rathore
 महत्व
राधे राधे जितना जरुरी हो उतना जायदा नहीं जब जो होना सो तो होगा हे फेले से उस क ले चिंता उर बड़ा लो अपने जीवन मेंराधे राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2289 days 18 hrs 22 mins ago By Bhakti Rathore
  radha kripa
रधे रधे यदि मुझे दो दिन का वास मिलता हे तो २4 घंटे में से में उनको २३ घंटे को उनको नेहारुंगी , उसका टाइम होगा , २ घंटे उनके चरण नेहारुगी फिर १ घंटा उनका कटी भाग फिर उनका सीना जहा पर राधा रानी का वास हे 2 घंटा ! उसके बाद उनके गले का सिंगार1 घंटा ,१ घंटा उनके गुगराले बालो क लटो को फिर उनके कपोलो को १ घंटा , फिर उनके सर पर बिराजे हुए मुकुट को १ घंटा , उसके बाद १४ घंटे में में उनके नैनो से नेना मिलुनगी की में आज की मेरे धन्य भाग्य हे जो आप से में मिल पाए, और उसके बाद फिर जो टाइम बचेगा १ घनता में उनका मंत्र जाप करूंगी ! राधे राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2289 days 18 hrs 23 mins ago By Bhakti Rathore
  radha kripa
रधे रधे यदि मुझे दो दिन का वास मिलता हे तो २4 घंटे में से में उनको २३ घंटे को उनको नेहारुंगी , उसका टाइम होगा , २ घंटे उनके चरण नेहारुगी फिर १ घंटा उनका कटी भाग फिर उनका सीना जहा पर राधा रानी का वास हे 2 घंटा ! उसके बाद उनके गले का सिंगार1 घंटा ,१ घंटा उनके गुगराले बालो क लटो को फिर उनके कपोलो को १ घंटा , फिर उनके सर पर बिराजे हुए मुकुट को १ घंटा , उसके बाद १४ घंटे में में उनके नैनो से नेना मिलुनगी की में आज की मेरे धन्य भाग्य हे जो आप से में मिल पाए, और उसके बाद फिर जो टाइम बचेगा १ घनता में उनका मंत्र जाप करूंगी ! राधे राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2289 days 18 hrs 56 mins ago By Gulshan Piplani
 महत्व
पंडित,ज्योतिषाचार्य और मनोवैज्ञानिक अगर हजारों वर्ष से समाज का हिस्सा हैं तो बिना प्रमाणिकता के उनका अस्तित्व अर्थात वजूद टिक नहीं सकता| हर सत्य समाज के सामने होता है पर लोग अपनी अपनी स्थिति अनुसार और ज्ञानानुसार ही ग्रहण करते हैं| कुछ चीजें अनावृत नहीं होतीं और सब कुछ बताया नहीं जा सकता क्योंकि सामने वाला उसे ग्रहण करने की जब तक स्थिति में नहीं होता ग्रहण नहीं कर पाता| जैसे किसी पंडित ने कहा की तुम ५ मंगलवार हनुमान जी के मंदिर में २१रु का प्रसाद चढाओ तो तुम्हारी समस्या का निदान हो जायेगा| इसका क्या मतलब हुआ| इस पक्ष को अनावृत करके देखते हैं, जिससे तीनो का महत्त्व प्रतिपादित होगा| ज्योतिष अनुसार भक्त की समस्या का ५ सप्ताहों में समाधान हो जाना था| पंडित जी ने भक्त को ५ मंगलवार इंतज़ार करने को नहीं कहा| ५ मंगलवार प्रसाद चढाने को कहा| प्रसाद चढ़ाना अध्यात्म के अनुसार त्याग का प्रतिरूप है| मनोविज्ञान के अनुसार ध्यान को समस्या से समाधान की तरफ परिवर्तित कर देना| अर्थात आस्था और वोह भी प्रभु के प्रति यहाँ मैं गीता जी के अध्याय १८ का शलोक - १४ का एक दोहा जो गीता का हिंदी दोहनुवाद है (मेरी पुस्तक गीताजी-कविताजी से उद्धृत है)......... शरीर कर्म क्षेत्र पा, आत्मा इन्द्रियों से कर्म कराये| पंच .कर्म .कारन .परमात्म,करण .जान.न.पाए|| (करण का तात्पर्य ज्ञानेद्रियाँ हैं)
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2289 days 19 hrs 55 mins ago By Waste Sam
 राधा नाम की क्या महिमा है ?
radhey radhey, jis naam ko lene se bhagwan khud hume mil jaye, jis naam ko sun kar bhagwan harshit ho jate hai kya uss naam ke mahima hum jaise tujj prani keh payenge... maa saraswati bhi shayad iske mahima nahi bata sakti...radha naam bhagwan ke swaroop ke tarah anant, asaar hai.... jai shri radhey
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2289 days 20 hrs 56 mins ago By Rajender Kumar Mehra
  radha kripa
राधा दामोदर मंदिर में बैठ कर महामंत्र संकीर्तन, और जितना हो सकेगा संतो का संग..........राधे राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2290 days 44 mins ago By Gulshan Piplani
  radha kripa
आत्म-चिंतन करूंगा - हरि ॐ तत्सत परमात्म -चिंतन करूंगा - हरि ॐ तत्सत
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2290 days 13 hrs 37 mins ago By Pt Chandra Sagar
  radha kripa
मै तो बचपन से ही राधारमणजी  की मंगला आरती किया करता था और फिर निधिवन
 में बुहारी करके राधारानी की आरती दर्शन करता था , सो अब भी वही करूँगा 
शामको कहीं रास लीला का अवलोकन का अवसर मिले तो वह भी करूँगा |
ध्यान करने के लिए तो पूरा हिंदुस्तान पड़ा हैं|वृज में तो ठाकुर के रूप रस का ही आनंद लेना चाहिए |
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2290 days 14 hrs 58 mins ago By Diwakar Kushwaha
  radha kripa
मै वहां के मंदिरों के दर्शन करूँगा ,यमुना जी में स्नान करूँगा,और यमुना जी के किनारे बैठकर िचतन करूँगा और उस पल को याद करूँगा जब भगवान् श्री कृष्ण ने यहाँ लीलाए की थी ,गाये चराई थी ,माखन खाया था 
और अपने भाग्य पैर गर्व करूँगा की मै आज उस धरती पर हूँ जहाँ मेरे प्रभु अवतरित हुए थे 
हरी ॐ तत्सत 
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2290 days 15 hrs 17 mins ago By Ajay Nema
  radha kripa
Radhe Radhe
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2290 days 17 hrs 28 mins ago By Pt Chandra Sagar
 राधा अष्टमी कैसे मनाये ?
उस एक दिन श्रीकृष्ण के विरह में थोडा आंसू बहा लीजिये , 
और कृष्ण मिलन की विरह में गाईये --
"हा नाथ रमण प्रेष्ठ ,क्वासी-क्वासी महाभुज |
दास्यास्ते कृपनाया में सखे दर्शय संनिधिम ||"
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2291 days 18 hrs 48 mins ago By Bhakti Rathore
 राधा नाम की क्या महिमा है ?
राधे राधे नाम की महिमा हे उनका नाम लेने मात्र से जीवन की आने वाली बधये मिट जाती हे ! इस्लीये उनका नाम सर्वोपरी हे उनका नाम लेते हुए जीवन में आगे बढ़ते जाओ जीवन में आई हेर बाधा दूर हो जाएगी ! राधे राधे हम्हारे जीवन का सार हे राधा राधा नाम
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2291 days 18 hrs 50 mins ago By Bhakti Rathore
 राधा नाम की क्या महिमा है ?
राधे राधे नाम की महिमा हे उनका नाम लेने मात्र से जीवन की आने वाली बधये मिट जाती हे ! इस्लीये उनका नाम सर्वोपरी हे उनका नाम लेते हुए जीवन में आगे बढ़ते जाओ जीवन में आई हेर बाधा दूर हो जाएगी ! राधे राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2291 days 19 hrs 7 mins ago By Bhakti Rathore
 राधा चरणामृत महिमा क्या है ?
राधे राधे वो ईसलीय क्युंगी उनके चरणों में सारे धाम हे और वो खुस अलग नहीं हे इ उनसे वो खुस उनकी हे तो छ्या हे इसलेय श्याम जी उनके चरण दबाते हे और चरनामत पीने से इस जीवन और इस योनी दोनी से मुक्ति होती हे उसके पीने से सीधे उनके धाम . राधे राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2291 days 19 hrs 7 mins ago By Bhakti Rathore
 राधा चरणामृत महिमा क्या है ?
राधे राधे वो ईसलीय क्युंगी उनके चरणों में सारे धाम हे और वो खुस अलग नहीं हे इ उनसे वो खुस उनकी हे तो छ्या हे इसलेय श्याम जी उनके चरण दबाते हे और चरनामत पीने से इस जीवन और इस योनी दोनी से मुक्ति होती हे उसके पीने से सीधे उनके धाम . राधे राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2291 days 19 hrs 26 mins ago By Bhakti Rathore
 राधा अष्टमी कैसे मनाये ?
राधे राधे उस दिन मन ये विचार करे की आज से हम किसी का दिल न दुखाये और ये संकल्प ले की हम जिंतना होगा उतना हम रधे रानी के नाम का जाप संकीर्तन करेगे और आज से हीईईइ हेलो छोड़ने को कहगे सबको की सब राधे राधे बोले और अपने जीवन की सारी बधये दूर करे . राधे राधे बस यही हमारी राधा आस्टमी होगी राधे राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2292 days 20 hrs 3 mins ago By Dasabhas DrGiriraj N
 राधारानी जी का कृष्ण प्रेम कैसा था ?
apne kul, laz, dharm ya kuchh bhi se vikendrit
krishna ki anukultaamay sukh, seva ,preeti par kendrit
thaa SHRI RADHA-PREM.
jai shri radhe
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2292 days 20 hrs 3 mins ago By Dasabhas DrGiriraj N
 राधारानी जी का कृष्ण प्रेम कैसा था ?
apne kul, laz, dharm ya kuchh bhi se vikendrit
krishna ki anukultaamay sukh, seva ,preeti par kendrit
thaa SHRI RADHA-PREM.
jai shri radhe
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2292 days 20 hrs 3 mins ago By Dasabhas DrGiriraj N
 राधारानी जी का कृष्ण प्रेम कैसा था ?
apne kul, laz, dharm ya kuchh bhi se vikendrit
krishna ki anukultaamay sukh, seva ,preeti par kendrit
thaa SHRI RADHA-PREM.
jai shri radhe
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2292 days 20 hrs 3 mins ago By Dasabhas DrGiriraj N
 राधारानी जी का कृष्ण प्रेम कैसा था ?
apne kul, laz, dharm ya kuchh bhi se vikendrit
krishna ki anukultaamay sukh, seva ,preeti par kendrit
thaa SHRI RADHA-PREM.
jai shri radhe
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2292 days 20 hrs 27 mins ago By Gulshan Piplani
 राधा अष्टमी कैसे मनाये ?
किसी एक व्यक्ति जिससे इर्ष्या हो उससे प्रेम करना प्रारंभ कर दें और जिससे नाराज़ हों उसे माफ़ कर दें| एक दिन का उपवास करैं और एक जरूरतमंद की सहायता करैं| - बाकि तो बस राधे राधे करता जा आगे आगे बढ़ता जा - जय श्री राधे
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2292 days 20 hrs 33 mins ago By Gulshan Piplani
 राधारानी जी का कृष्ण प्रेम कैसा था ?
राधा कृष्ण में समाहित थीं जिस प्रकार एक सागर दूसरे सागर से जा मिले तो सागर ही रहता है|
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2293 days 12 hrs 24 mins ago By Pradeep Narula
 चीटी मनुष्य से क्यों नहीं डरती ?
श्रीमदभागवत कथा में एक प्रसंग था जब कृष्णजी इन्द्र के प्रकोप की बारिश से बचाने के लिये गोकुलवासियों के लिये गोवर्धन पर्वत को अपनी चींटी ऊँगली याने कि सबसे छोटी ऊँगली से तीन दिनों तक उठा लेते हैं, तो गोकुलवासी भी पर्वत को उठाने में अपने सामर्थ्य अनुसार योगदान करते हैं, कोई अपने हाथों से पर्वत को थामता है तो कोई अपनी लाठी पर्वत के नीचे टिका देता है। इस तरह से तीन दिन बीत जाते हैं, तो गोकुल वासी कृष्णजी से पूछते हैं “लल्ला तुमने तीन दिन तक कैसे गोवर्धन पर्वत को उठा लिया ?” अब कृष्णजी कहते कि मैं भगवान हूँ कुछ भी कर सकता हूँ तो गोकुलवासी मानते नहीं, इसलिये उन्होंने कहा कि “आप सब जब पर्वत के नीचे खड़े थे और सब मेरी तरफ़ देख रहे थे, तो मेरे शरीर को शक्ति मिल रही थी और उस शक्ति को मैंने अपनी चीटी यानी कि छोटी ऊँगली को देकर इस पर्वत को उठा रखा था” तो भोले भाले गोकुल वासी बोले “अरे ! लल्ला तबही हम सोच रहे हैं कि हम सभी को कमजोरी क्यों लग रही है ।” इस लिए ये कहावत या सच्ची बात हे की चीटी को इन्सान या हाथी से डर नहीं लगता I और इस लिए जब भी कोई निर्बल, बूड़ा (अन्ना हजारे ), छोटा इन्सान जब एक अच्छे कम के लिए निकलता हे तो उसके लिए श्री कृष्ण की चीटी ऊँगली भी साथ में रहती हे. राधे राधे ......
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2293 days 12 hrs 46 mins ago By Pradeep Narula
 राधारानी जी का कृष्ण प्रेम कैसा था ?
राधे राधे ...... प्रेम जहां लेन-देन है, वहां बहुत जल्दी घृणा में परिणत हो सकता है, क्योंकि वहां प्रेम है ही नहीं। लेकिन जहां प्रेम केवल देना है, वहां वह शाश्वत है, वहां वह टूटता नहीं। वहां कोई टूटने का प्रश्न नहीं, क्योंकि मांग थी ही नहीं। आपसे कोई अपेक्षा न थी कि आप क्या करेंगे तब मैं प्रेम करूंगा। कोई कंडीशन नहीं थी। प्रेम हमेशा अनकंडीशनल है। कर्तव्य, उत्तरदायित्व, वे सब अनकंडीशनल हैं, वे सब प्रेम के रूपांतरण हैं।बस येही तो था राधा जी का प्रेमI
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2293 days 13 hrs ago By Pradeep Narula
 कुबेर के नौ रतन
जिसका किसी से बैर न हो, और जो कृष्ण प्रेम में लिप्त हो, जो सब से प्रेम करता हो I वो ही किसी के लिए नो रत्नों में से एक रतन या नो रतन हो सकता हेI जो किसी भी कर्म में तन मन से रमा हे वो ही रतन हेI राधे राधे .........
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2294 days 18 hrs 38 mins ago By Dasabhas DrGiriraj N
 तिलक का क्या महत्व है ?
FOR DETAILED INFO, PLZ VISIT
www.shriharinam.blogspot.com
article no 46
plz klick on matter once, wait, klick one more time, u wll get big readable matter
jai shri radhe.

in previous posts blog add is wrong, plz follow this add
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2294 days 18 hrs 44 mins ago By Dasabhas DrGiriraj N
 तिलक का क्या महत्व है ?
FOR DETAILED INFO, PLZ VISIT
www.shrinam.blogspot.com
article no 46
plz klick on matter once, wait, klick one more time, u wll get big readable matter
jai shri radhe.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2294 days 23 hrs 2 mins ago By Dasabhas DrGiriraj N
 टीका लिखने की अनाधिकार चेष्टा ,
आपकी-मेरी तारह एक सामान्य व्यक्ति नही हैं =
= aap n m ek samaanya vyakti hn.
kam se kam m to samanya hi hun.jsr.
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2294 days 23 hrs 39 mins ago By Diwakar Kushwaha
 राधा नाम की क्या महिमा है ?
राधा नाम की धारा में बहते हुए भक्त कृष्ण को प्राप्त कर लेते है क्योकि कृष्ण को राधा अति प्रिय है इसका मुख्या कारन मेरे अनुसार भगवान् का अपने भक्त के भक्त पर पहले कृपा प्रदान करने का सिद्धांत है
भगवान के भक्तो पर जिसकी आस्था होती है वह सबसे पहले भगवान् की कृपा प्राप्त करता है उदाहरण के लिए गजेन्द्र मोक्ष में देखिये की गज से पहले भगवान् ने ग्राह को मुक्त किया  इसका कारण ग्राह का गज के चरण पकड़ना था जिस भाव से हम भगवान के भक्तो को भजते है उसी भाव से भगवान् हमारा उद्धार करते है 
भक्त को पकड़ा है तो उधार तो निश्चित है इसीलिए भगवान् श्री कृष्ण को पाना है तो राधे राधे जपता जा आगे आगे बढ़ता जा  
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2294 days 23 hrs 49 mins ago By Diwakar Kushwaha
 राधारानी जी का कृष्ण प्रेम कैसा था ?
राधा जी का कृष्ण प्रेम सांसारिक नहीं अपितु भक्ति भावना से ओतप्रोत था राधा जी और श्री कृष्ण देखने में तो अलग-अलग प्रतीत होते थे परन्तु वे भीतर से एकरूप थे राधा जी का मन कृष्ण प्रेम में इतना रम चुका था की संसार  उनके लिए स्वप्न मात्र था ,यही भक्ति भावना की पराकाष्ठा होती है जिसमे भक्त और भगवान् में कोई अंतर नहीं रहता मेरे अनुसार यही दिव्यता पूर्ण  प्रेम  ही कृष्ण के प्रति  राधा प्रेम है
अन्य रानिया भगवान् को प्रेम तो करती थी परन्तु उनके प्रेम में वो स्रेस्ठता नहीं थी जो राधा जी के प्रेम में थी भगवान के लिए   राधा शुख और दुःख सभी भावो को स्वीकार करने में तत्पर थी जबकि अन्य रानियों के लिए भगवान् का साथ ही  स्र्येश्कर था यही कारन है भगवान ने राधा को वो स्थान दिया जिसकी वो हकदार थी  
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
  2295 days 13 mins ago By Nancy Dahra
 राधा नाम की क्या महिमा है ?
JAI SHRI RADHE....... RADHA NAM EK AISA NAM HAI JISE KOI BHI INSAN APNI ICHHA SE NAHI LE SAKTA..... ISS NAM KO LENE KE LIYE KISHORI JI KI KRIPA HONI CHAHIYE..... JAB THAKURJI BHI ISS NAAM KO SUNTE HAI TO UNKA MAN BAHUT PRAFULLIT HO UTHTA HAI....... I WISH KI KISHORI JI KI KRIPA MUJH PAR BANI RAHE OR MERE ROM-2 MEIN RADHA NAM BAS JAYE...
   
   See More Samadhans | Your Samadhan | Ask Your Shanka | See All Shanka
Article
Latest Video
Latest Opinion Topic
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1248
Baanke Bihari
   Total #Visiters :254
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :232
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :333
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :195
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :232
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com