Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

humare saath jo kuch bhi ho raha hai uske liye kya humara mastishq aur soch hi zimewar hai??


  Views :711  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :5
submit to reddit  
2667 days 4 hrs 27 mins ago By Gulshan Piplani
 

प्रशन बहुत गहन है उत्तर में किताब लिखी जा सकती है परन्तु सोचने वाली बात यह है की जिम्मेवारी ली किसने हमारे अहंकार ने, बुद्धि ने, मन ने, आत्मा ने या हृदय ने जो जिम्मेवारी ले रहा है वोही तो जिम्मेवार होगा|

2684 days 3 hrs 37 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 

ये जिज्ञासा हर किसी में है की हम जो कर रहे हैं या जो भोग रहे हैं वो अपनी बुद्धि से या किसी के वश में हैं | कभी ऐसा लगता है की सब कुछ यंत्र आरूढ़ हो रहा है कभी ऐसा लगता है की हम अगर सोच समझ कर करे तो और अच्छा कर सकते हैं किसी बुरे से बच सकते हैं | सभी कहते हैं की कर्म तीन प्रकार के हैं प्रारब्ध, क्रियामान, और संचित | कहते हैं प्रारब्ध भोगना ही पड़ता है और क्रियामान वो है जो हम कर रहे हैं उसका फल अभी भी भोगना पढ़ सकता है और वो संचित भी हो सकते हैं | लेकिन प्रशन फिर ये उठता है कि कैसे पता चले कि ये भोग है प्रारब्ध का या इस समय का नया कर्म है | मेरा मानना है कि हमारे पास कोई साधन नहीं है इसे जानने का कि ये प्रारब्ध था या नया कर्म था कयोंकि जहाँ हम असफल हो जाते हैं उसे नियति मान लेते हैं और जहाँ सफल हो जाते हैं उसे अपना कर्म | हमने अपनी सारी असफलताएं प्रभु के नाम लिख दी हैं और सफलताएं अपने नाम लिख लेते हैं कभी कभी कह देते हैं कि ठाकुरजी कि कृपा से सफल हो गए पर साथ ही ये कहना भी नहीं भूलते कि बढ़ी मेहनत करनी पढ़ी | इसलिए एक विचार अपने मस्तिक्ष में पक्का रखना चाहिए कि जो हो रहा है उसे समर्पण भाव से स्वीकार करते चलें प्रभु कि लीला का दृष्टा बनकर आनंद लिए जाए सुख दुःख दोनों धूप छाँव कि तरह हैं आते रहेंगे | तुलसी दास जी के वचन बिलकुल सत्य हैं : सुनो भारत भावी प्रबल बिलखी कहें मुनिनाथ हानि लाभ जीवन मरण यश अपयश सब विधि हाथ || इन छे बातों में संसार का हर कर्म आ जाता है | इसलिए मन में द्वन्द न ला कर हर कर्म को उसे समरपति करते हुए उसके फल को आनंद से भोगते चलें यही जीवन है यही शरणागति है |...........राधे राधे

2686 days 3 hrs 25 mins ago By Ashish Anand
 

nahin! yahaan do baten important hai.... 'pehala ki humare sath abhi jo kuch bhi ho raha hai, jo kuch bhi hum bhugat rahen hain, uske liye humare sanchit karma (past mein kiye gaye karma ke fal ke karan) zimmedar hain... aur dusara abhi present mein humara mind jo kuch bhi soch raha hai aur uske fal swaroop jo kuch bhi kar raha hai... uska parinam... kuch to turant bhugtana padta hai aur kuch karmo ke fal future mein apko bhugatane ke liye sanchit kar diye jaten hai... hare krishna!

2690 days 16 hrs 30 mins ago By Avijit Das
 

RADHEY RADHEY.....HUMARE SATH JO BHI HO RAHA HAY WOH SAB APNA KARM KA PHAL KA HISAB SE ..MASTISHQ SE ATA HAY SOCH ..SOCH SE HOTA HAY KARM...KARM SE MILTA HAY PHAL....PHIR BHI JO HUA ACHA HI HUA...JO HO RAHA HAY ACHA HI HO RAHA HAY OR JO HOGA WOH BHI ACHA HI HOGA..SO DONT WORRY..BAS BOLO RADHEY RADHEY ..RADHEY RADHEY OR RADHEY RADHEY.

2694 days 3 hrs 30 mins ago By Nidhi Nema
 

राधे राधे, व्यक्ति अपने कर्मो का स्वयं उत्तरदायी होता है,कर्म तीन प्रकार के होते है प्रारब्ध कर्म संचित कर्म और क्रियमाण कर्म,हम जो भी पिछले जन्म के करके आये है, उसी का परिणाम हम आज है, और हम जो आज कर रहे है, वही हमारा भविष्य है. तीनो काल व्यक्ति स्वयं बनाता है और दोष कभी भगवान को देता है तो कभी भाग्य को , पर भाग्य भी तो व्यक्ति अपने कर्मो से बनाता है और भगवान तो साक्षी मात्र है....

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Latest Article
Latest Video
Popular Opinion
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1352
Baanke Bihari
   Total #Visiters :294
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :245
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :353
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :357
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :245
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com