Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

कृष्ण को जीवन में प्रकट करने के लिए हमें क्या करना चाहिये?


  Views :425  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :6
submit to reddit  
2301 days 10 hrs 55 mins ago By Waste Sam
 

radhey radhey....Krishna ko jeevan mein prakat karne ke liye ek uttar hai bhakti karo … par meri ek aur drishtikon se mein kahoongi ke krishna jaise bano.. Krishna jaise banane ka arth hai unke tarah akarshak vyaktitva banao aur who tab banega jab hum khud ek accha insaan banayenge.. jai shri radhey

2302 days 9 hrs 7 mins ago By Neeru Arora
 

bas prem hi sabse asaan rasta hai aur prem krihan se khud se bhi nahin

2302 days 14 hrs 11 mins ago By Gulshan Piplani
 

- राधे राधे - हम सब यह जानते हैं की कृष्ण को जीवन में प्रकट करने के लिए हमें उनसे प्रेम करना चाहिए| पर जब तक हमारे अंदर माया व्याप्त रहेगी क्या हम प्रेम कर पायेंगे? जब तक काम , क्रोध, लोभ, मोह, मद , इर्ष्या , निंदा और माया हम में व्याप्त है तब तक हम समर्पित हो ही नहीं सकते| प्रेम का तात्पर्य होता है अपने को मिटा देना अर्थात अपने मन को ख़तम कर देना| जब तक वोह नहीं होगा तब तक भी तो कुछ ऐसा होना चाहिए जो हमें वहां तक पहुंचा दे| ....न्यू paragraph ........... गीता के अध्याय - १० विभूति योग में भगवान् श्री कृष्ण ने शलोक संख्या १० में कहा है: शलोक का दोहानुवाद मेरी पुस्तक गीताजी-कविताजी से उद्धृत : ........... अनन्ये भावी भक्तों को देता, तत्व ज्ञानयोग अज्ञात| मुझमें निरंतर ध्यान लगा वह होते मुझको प्राप्त||.................... अर्थात अगर मनुष्य मात्र भगवान् कृष्ण के समक्ष ही अपने अहंकार का त्याग कर उसकी भक्ति में लीन हो जाता है और निरंतर उसके ध्यान में रहता है और उनको अपने ध्यान में रखता है वह ही कृष्ण को अपने जीवन में प्रकट कर पाता है| भगवन श्री कृष्ण कहते हैं कि अपने अनन्ये भावी भक्तों को मैं तत्व के ज्ञान से प्रकाशित कर देता हूँ जिससे उनका ध्यान मुझमें निरंतर लग जाता है| निरंतर ध्यान लग जाना ही कृष्ण का प्राकट्य होता है| - बाकि तो बस राधे राधे करता जा - आगे आगे बढता जा| - राधे राधे

2303 days 11 hrs 19 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... मन को नन्द (किसी की भी निन्दा ना करना) और बुद्धि को यशोदा (दूसरो यश प्रदान करना) बनाने का प्रयत्न करना चाहिये।

2304 days 10 hrs 25 mins ago By Pt Chandra Sagar
 

जय श्रीराधे ! जीवन में सत्य और सदाचार को धारण करके धर्म का पालन करते हुए सच्चे भाव से जो प्रेम करेगा उसी के जीवन में कृष्ण प्रकट होते हैं | स्मरण रहे किसी भी परिस्थिति में धर्म का उल्लंघन कृष्ण को पसंद नहीं | मानस में लिखा है -कामादि दोष रहितं कुरु मानसं च अर्थात निर्भरा प्रेम देने के साथ मेरे ह्रदय से कामादि दोष भी दूर करो ,

2304 days 20 hrs 28 mins ago By Nancy Dahra
 

Radhe Radhe......... Krishn ko jeevan mein pragat karne ke liye bus hamein uss se sache dil se prem karna chahiye.... vo to bus prem ka bukha hai........ itna bhola hai ki bus dil se prem karo or ho gya vo apka..........

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Latest Article
Latest Video
Opinion Topic
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1246
Baanke Bihari
   Total #Visiters :254
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :232
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :333
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :194
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :232
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com