Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

आत्म हत्या को अपराध माना जाता है। फिर जीव समाधि क्या है?


  Views :825  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :7
submit to reddit  
2641 days 13 hrs 12 mins ago By Waste Sam
 

radhey radhey... samadhi ka arth khud ke aatma ko bhagwan mein leen kar dena jo ke jeevan ka uddeshey hai... aatma hatya hai apne jeevan ka anth karna jo insaan apne pareshaniyo se darr kar karta hai aur vichalit aatma moksha nahi prapat kar pati.. jai shri radhey

2648 days 20 hrs 40 mins ago By Bhakti Rathore
 

ha ye apraadh he jeev samdhi yaani ki jeev ka jnam ka lekha jokha jub pura ho jaata he tum use jo mott aati he wahi samdhi he

2657 days 13 hrs 28 mins ago By Diwakar Kushwaha
 

Atma hatya Log is jeevan Ke Dukho se Haarkar karte hain Aur Samadhi Wo Stithi hai jise Jeev Apney ko Sweksha Se parmatma Ko Samarpit kar Deta Hai.Dono me Sharir Nast Avasya hota hai kintu Dono ke Bhaav Alag-alag hai.

2657 days 22 hrs 33 mins ago By Vipin Sharma
 

AATM HATYA ALAG BAAT HAI OR JEEV SAMADHI BILKUL ALAG IN DONO KO EK SAATH NAHI JODA JA SAKTA.

2657 days 23 hrs 46 mins ago By Gulshan Piplani
 

जीव को मनुष्य योनी परमेश्वर की प्राप्ति हेतु प्रदान हुई है क्योंकि उसमें परमात्मा के अंश होने के नाते वोह सब गुण विद्यमान हैं| उस परमेश्वर द्वारा प्रदान किये हुए शरीर को मिटाने का हक़ भी हमें नहीं है जैसे अपने बनाये हुए माकन को हम गिरा सकते हैं पर दूसरे किसी के मकान को पूछे बिना हमें हाथ भी लगाने का हक नहीं है इसलिए आत्महत्या अपराध है| परन्तु ब्रह्म में लीन हो कर समाधी में चले जाना एक तप है| ब्रह्मसूत्र पर लिखा एक दोहा अवलोकन करैं: सूत्र १-१-९ ------------------ --------------------- स्वाप्ययात्------------------------------------------------------ हो विलीन स्व: स्वयं में सत् संपन्न हो जाये|------------------------------------------------------------------- हीन विलीन हो लीन स्व: स्वपिति कहलाये||-------------------------------------------------------------------- दोहा अनुवादक: गुलशन हरभगवान पिपलानी

2658 days 46 mins ago By Vipin Sharma
 

jeevatma se parmatma ka milan hi samadhi h

2658 days 3 hrs 22 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... भगवान श्री कृष्ण गीता में कहते हैं.....आत्मा न तो शस्त्र द्वारा काटा सकता है, न ही आग के द्वारा जलाया जा सकता है, न जल द्वारा भिगोया जा सकता है और न ही वायु द्वारा सुखाया जा सकता है, आत्मा को न तो तोडा़ जा सकता है, न ही जलाया जा सकता है, न इसे घुलाया जा सकता है और न ही सुखाया जा सकता है, यह आत्मा शाश्वत, सर्वव्यापी, अविकारी, स्थिर और सदैव एक सा रहने वाला है।...... आध्यात्मिक स्तर पर आत्मा को अधोगति में ले जाना ही आत्म-हत्या कहलाती है।.... जीवात्मा का "सांख्य-योग" द्वारा परमात्मा में स्थित हो जाना समाधि अवस्था कहलाती है।

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Latest Article
Latest Video
Popular Opinion
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1353
Baanke Bihari
   Total #Visiters :295
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :245
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :353
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :360
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :245
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com