Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

आध्यात्मिक पथ पर गौ-सेवा का क्या महत्व है ?

इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण है ?

  Views :477  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :12
submit to reddit  
2676 days 16 hrs 17 mins ago By Waste Sam
 

radhey radhey.. gau humari mata hai kyonki woh sada humara poshan karte hai apne dhoodh se, gau mata woh hai jinhe bhagwan krishna ne apni maa ka sthan diya... gau woh hai jiske seva mein krishna bhagwan nange pair junglo mein ghoomee.. ab khud he hum samjh skate hai ke gau mata ke sewa ka kya arth hai- bhagwan ke maa ke sewa ... jai shri krishna... jai shri radhey...

2677 days 19 hrs 33 mins ago By Vipin Sharma
 

RAADHE RAADHE

2677 days 19 hrs 33 mins ago By Vipin Sharma
 

GAU SEVA MATLAB JEEVO KI SEVA. ISKA MATLAB YE NAHI KI AAP SIRF GAU KI SEVA KARO BALKI AAP SABHI JEEVO PE DAYA KARO SEVA KARO. SABHI ME USKI ISHWAR KA ROOP SAMAYA HUA H.

2695 days 12 hrs 32 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 

अध्यात्मिक पथ में किसी भी तरह की निष्काम सेवा का महत्व है फिर गौ सेवा तो बहुत महत्वपूर्ण है वैष्णव के लिए गौ सेवा कृष्ण सेवा के बराबर है क्योंकि श्री कृष्ण को गौ अपने प्राणों से ज्यादा प्रिय है | राधे राधे

2696 days 15 hrs 39 mins ago By Gulshan Piplani
 

राधे राधे - जो माता-पिता की सेवा का महत्त्व है वाही गो माता की सेवा का महत्व है| गो माता बस देती ही देती है|- गुलशन हरभगवान पिपलानी

2713 days 17 hrs 13 mins ago By Ashish Anand
 

sirf adhyatmik path par hi gau-seva nahin honi chahiye... unaki seva to niskam-bhav se honi chahiye... kyun ki ek wahi to hai jo hume sab-kuchh detin hain...unki har chiz upyogi hai... aur bhagwan ne swayam kaha hai, maine khud ke sath pure devi-devataon ko usamen aavrist kar diya hun... hum sab uss mein basaten hain... so aisi dhanya gau-mata ki seva kaun nahin karna chahega...

2713 days 17 hrs 18 mins ago By Ashish Anand
 

sirf adhyatmik path par hi gau-seva nahin honi chahiye... unaki seva to niskam-bhav se honi chahiye... kyun ki ek wahi to hai jo hume sab-kuchh detin hain...unki har chiz upyogi hai... aur bhagwan ne swayam kaha hai, maine khud ke sath pure devi-devataon ko usamen aavrist kar diya hun... hum sab uss mein basaten hain... so aisi dhanya gau-mata ki seva kaun nahin karna chahega...

2717 days 32 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... निष्काम भाव से किये जाने वाले कार्यों का ही आध्यात्मिक पथ पर महत्व होता है।..... गौ-सेवा भी जब तक निष्काम भाव से नहीं होगी तब तक गौ सेवा का आध्यात्मिक पथ पर कोई महत्व नहीं होता है।

2717 days 32 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... गौ-सेवा जब तक निष्काम भाव से किये जाने वाले कार्यों का ही आध्यात्मिक पथ पर महत्व होता है।..... गौ-सेवा भी जब तक निष्काम भाव से नहीं होगी तब तक गौ सेवा का आध्यात्मिक पथ पर कोई महत्व नहीं होता है।

2717 days 14 hrs 4 mins ago By Swesh Kumar
 

what is the significance of rathyatra........??????

2721 days 20 hrs 48 mins ago By Aditya Bansal
 

gau mata mein 33 crore devi devta baste hai hum mandir jaate hai pooj akrte hai har bhagwan ki jo ke ek he hai...agar hum gau mata ki pooja karte hai to sabhi 33 crored evi devtaon ki pooj aek saath ho jati hai...

2722 days 2 hrs 41 mins ago By Dasi Radhika
 

पद्म पुराण में कहा गया है : गौ को अपने प्राणों के समान समझे, उसके शरीर को अपने ही शरीर के तुल्य माने, जो गौ के शरीर में सफ़ेद और रंग-बिरंगी रचना करके, काजल, पुष्प, और तेल के द्वारा उनकी पूजा करते है, वह अक्षय स्वर्ग का सुख भोगते है. जो प्रतिदिन दूसरे की गाय को मुठ्ठीभर घास देता है, उसके समस्त पापों का नाश हो जाता है जैसे ब्राहमण का महत्व है, वैसे ही गौ का महत्व है, दोनों की पूजा का फल समान है. भगवान के मुख से अग्नि, ब्राह्मण, देवता और गौ - ये चारो उत्पन्न हुए इसलिए ये चारो ही इस जगत के जन्मदाता है . गौ सब कार्यों में उदार तथा समस्त गुणों की खान है .गौ की प्रत्येक वस्तु पावन है, गौ का मूत्र, गोबर, दूध, दही और घी, इन्हे पंचगव्य कहते है इनका पान कर लेने से शरीर के भीतर पाप नहीं ठहरता .जिसे गाय का दूध दही खाने नहीं मिलता उसका शरीर मल के समान है. See More. http://www.radhakripa.com/book/page.php?book=mahatm&article=gau_seva_mahatmy&lang=hindi

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Latest Article
Latest Video
Latest Opinion Topic
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1358
Baanke Bihari
   Total #Visiters :296
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :246
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :355
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :366
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :246
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com