Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

दान क्या है?

इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण है ? वास्तविक दान क्या है ?

  Views :375  Rating :1.0  Voted :1  Clarifications :7
submit to reddit  
2672 days 8 hrs 11 mins ago By Gulshan Piplani
 

प्रसंतापूर्वक किया गया त्याग दान है

2708 days 15 hrs 8 mins ago By Aditya Bansal
 

jiske peeche apna koi swarth ya koi dikhawa naa ho ... wahi sabse bada daan hai.

2748 days 12 hrs 43 mins ago By Aditya Bansal
 

pichle janam ka karj

2759 days 12 hrs 41 mins ago By Rakesh Sharma
 

देने का भाव "दान" कहा जाता है। दान द्वारा ही मनुष्य का अन्त:करण पवित्र होता है और पवित्र अन्त:करण होने पर ही भगवान की प्राप्ति होती है। दान का अर्थ केवल धन का दान ही नहीं है, बल्कि दान का अर्थ भगवान के प्रति मन, बुध्दि, श्रध्दा और विश्वास अर्पित करना भी है। सब कुछ भगवान ने ही हमें दिया है, हमारा अपना कुछ भी नहीं है। भगवान्‌ द्वारा दी हुई वस्तु भगवान्‌‍ को ही देना दान का सच्चा स्वरूप है।किसी वस्तु से अपनी सत्ता और ममता उठा लेना ही दान है, यह त्याग भी है, परन्तु त्याग और दान में भी थोड़ा अन्तर है। दान मुख्यत: पुण्य का और त्याग देवत्व का हेतु होता है। कोई भी दान, त्याग की श्रेणी में आता है, किंतु सभी प्रकार के त्याग, दान नहीं हैं। दान प्राप्त वस्तुओं का और वह भी सीमित मात्रा में किया जा सकता है, जबकि त्याग अप्राप्त वस्तुओं का और असीमित मात्रा में हो सकता है। दानदाता स्वंय को दान-ग्रहणकर्ता के प्रति अनुग्रहीत मानता है, किंतु हर त्याग में यह आवश्यक नहीं। "श्रध्दया देयम्‌ । अश्रध्दयादेयम्‌ । श्रिया देयम्‌ । ह्रिया देयम्‌ । भिया देयम्‌ । संविदा देयम्‌ ।" अर्थात्‌ दान श्रध्दापूर्वक करना चाहिये, बिना श्रध्दा के करना उचित नहीं (श्रध्दया देयम्‌ । अश्रध्दया अदेयम्‌ ), अपनी सामर्थ्य के अनुसार उदारतापूर्वक देना चाहिये (श्रिया देयम्‌), विनम्रतापूर्वक देना चाहिये (ह्रिया देयम्‌), दान नहीं करुंगा तो परलोक में नहीं मिलेगा-इस भय से देना चाहिये अथवा भगवान्‌ ने मुझे देने योग्य बनाया है, पर दुसरों को न देने पर भगवान को क्या मुख दिखाऊंगा-इस भय से देना चाहिये (भिया देयम्‌), प्रमाद से, भय से या उपेक्षापूर्वक न देकर विधिपूर्वक, आदरपूर्वक एवं उदारतापूर्वक नि:स्वार्थ भाव से देना चाहिये (संविदा देयम्‌), चाहे जैसे भी दो, किंतु देना चाहिये। मानवजाति के लिये दान परमावश्यक है। दान के बिना मानव की उन्नति अवरूध्द हो जाती है।

2764 days 12 hrs 8 mins ago By Keshav Kunj
 

hum kya kisi ko kuch daan karenge hum to khud mang ker pate hain sab kuch thakur ji se danni to hamare thakur ji hain hum is layak kahan ki kisi ko daan de sakein

2764 days 14 hrs 57 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा...... दान से त्याग की भावना प्रबल होती है।......... गीता के अनुसार दान तीन प्रकार के होते हैं......... जो दान कर्तव्य समझकर, बिना किसी उपकार की भावना से, उचित स्थान में, उचित समय पर और योग्य व्यक्ति को ही दिया जाता है, उसे सात्त्विक (सतोगुणी) दान कहा जाता है।....... जो दान बदले में कुछ पाने की भावना से अथवा किसी प्रकार के फल की कामना से और बिना इच्छा के दिया जाता है, उसे राजसी (रजोगुणी) दान कहा जाता है।........ जो दान अनुचित स्थान में, अनुचित समय पर, अज्ञानता के साथ, अपमान करके अयोग्य व्यक्तियों को दिया जाता है, उसे तामसी (तमोगुणी) दान कहा जाता है।.... इन तीनों प्रकार के दान के फल भी अलग-अलग होते हैं।........ सभी मनोकामनाओं को सम्पूर्ण रूप से भगवान को दान कर देना ही वास्तविक दान होता है।

2764 days 16 hrs 2 mins ago By Sunita Singla
 

daan apni nkoi bahut hi priya vastu dusre ko de dena.wo chahe koi vastu ho ya khud ke vikar jo hum bhagwan ke aage samarpit kar sakte hain

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Popular Article
Latest Video
Opinion Topic
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1353
Baanke Bihari
   Total #Visiters :295
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :245
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :353
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :360
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :245
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com