Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

संस्कार क्या है ?

इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण है ?कितने प्रकार के होते है ? संस्कार क्यों आवश्यक है?

  Views :894  Rating :5.0  Voted :1  Clarifications :10
submit to reddit  
2980 days 6 hrs 29 mins ago By Kiran Kejriwal
 

sanskar hi sub kuch hote ha ache sanskar hi insan ka caritr ka nirman karte ha radhey radhey

3151 days 15 hrs 4 mins ago By Vipin Sharma
 

THE CHANNEL OF INDIA

3169 days 12 hrs 17 mins ago By Gulshan Piplani
 

हर कर्म एक संस्कार है| राधे राधे

3205 days 19 hrs 16 mins ago By Aditya Bansal
 

Sanskar ka arth hai manushy ke andar chhupi evam dabi padi prachin sanskriti ko ubhar kar samajik jivan ke anusar dhalane kee ek anavarat prakriya. ek din men kharab ho jane vale doodh ko dahi banakar, ghee men parivartit karana, doodh ka sanskar kar use paushtik banana evam varshon kharab n hone vala ghee banana hi sanskarita hai.

3218 days 17 hrs 46 mins ago By Aditya Bansal
 

radhey radhey

3245 days 16 hrs 48 mins ago By Aditya Bansal
 

koi kaam karte hiye ya kisi ke baare mein socte huye chahhe dushamn he ho uske iye acha soche

3263 days 8 hrs 5 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा...... किसी भी कार्य को करते समय मन में जिन भावों से सांसारिक बन्धनकारी फलों की उत्पत्ति होती है उन्हें संस्कार कहते हैं। मनुष्य जीवन संस्कारों पर आधारित होता है, जब तक संस्कारों की उत्पत्ति होती रहती है तब तक जीवात्मा को स्थूल शरीर धारण करके सुख-दुख रूपी भोगों को भोगने के लिये संसार में आना ही पड़ता है। जब तक जीवात्मा के नये संस्कारो का उत्पन्न होना बन्द नहीं होता है और पुराने संस्कारो को जीवात्मा भोग नहीं लेती है तब तक जीवात्मा मुक्ति को प्राप्त नहीं हो सकती है।......ब्रह्म साक्षात्कार के बाद ही नये संस्कारों का उत्पन्न होना बन्द होता है। ब्रह्म साक्षात्कार के बाद भी जीवात्मा शरीर में रहती है तब वह केवल पूर्व जन्म के संस्कारों को भोगते हुए मुक्त रहती है। यही वास्तविक मुक्ति है।

3263 days 14 hrs ago By Keshav Kunj
 

jis se hamein ache bure ki pehchan hoti hai sanskar ke karan he to hum bhakti marg per chal sakte hain

3263 days 17 hrs 40 mins ago By Nidhi Nema
 

राधे राधे ,संस्कार वह क्रिया है जिससे ऐहिक तथा पारलौकिक जीवन शुद्ध होता है जिस प्रकार हीरा खान में से निकलने पर मिट्टी से सने होते है पर जब वे सन पर रखे जाते है तो उनकी मलिनता दूर हो जाती है और उनमें चमक आ जाती है उसी प्रकार जीव भी संस्कारो से शारीरिक व मानसिक शक्तियुक्त होता जाता है.शास्त्रों में १६ संस्कार बताये गए है ? संस्कारों से ही व्यक्ति का चरित्र का निर्माण होता है.इसलिए संस्कार आवश्यक है. राधे-राधे..

3263 days 19 hrs 44 mins ago By Jaswinder Jassi
 

Manukhi Smajj ke bnaye hue niyun (ASSUL) agar ye mankhi smajj ke anusar hotey hain to smajj isse asshe sanshnkar ka nam deta hai aur agar ye smajj ke assulon ke anusar nhi hotey to in ko bure sanshkar kha jata hai.

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Article
Latest Video
Popular Opinion
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1399
Baanke Bihari
   Total #Visiters :311
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :249
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :361
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :502
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :249
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com