Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

भगवान श्री कृष्ण नील वर्ण के (सावरे ) क्यों हैं ?

इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण है?

  Views :468  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :7
submit to reddit  
2669 days 15 hrs 6 mins ago By Aditya Bansal
 

As per the ancient writings the colour of lord Krishna is Black or darkish blue. He is been called as Shyama which means Black. The colour black depicts rain clouds and the colour blue depicts sea and sky which corresponds to 'ananth' or never ending (infinity). Further, the paintings of face of all the avatars of Lord Vishnu are blue coloured.

2671 days 12 hrs 2 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... नील वर्ण सर्वव्यापकता और निर्लिप्तता का प्रतीक है।.... जिस प्रकार आकाश नील वर्ण का है और सर्वज्ञ व्याप्त होते हुए भी निर्लिप्त रहता है उसी प्रकार भगवान श्री कृष्ण आकाश के सदृश्य सर्वव्यापी होते हुए भी निर्लिप्त रहते हैं।

2671 days 16 hrs 19 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 

भगवान् सांवरे क्यों है ऐसा प्रचलित है कि भक्तों के पापों को हरने के कारण प्रभु का रंग सांवरा है | लेकिन अगर पापों के हरने से रंग सांवरा होता तो फिर तो गंगा जी का रंग भी सांवरा होना चाहिए क्योंकि उसमे भी पापी अपने पाप धोने के लिए उतरते हैं | लेकिन गंगा जी का रंग तो पारदर्शी और निर्मल है | सांवरे रंग का अर्थ कुछ ऐसा होना चाहिए कि प्रभु तो करुणामय है जिसे सब दुत्कारते हों उसे प्रभु अपनाते हैं श्याम रंग को कोई पसंद नहीं करता सब गोरा रंग चाहते हैं पर प्रभु ने श्याम रंग को अपनाया | प्रभु कहते हैं श्याम रंग भी सुन्दर होता है देखो मेरा रंग श्याम है | प्रभु बताना चाहते हैं इस ब्रह्माण्ड में उन्होंने कोई भी चीज व्यर्थ नहीं बनायी है सब का अपनी अपनी जगह पूर्ण उपयोग है | इसलिए सबमे प्रभु की सुन्दरता को ही देखना चाहिए | साथ ही प्रभु ये भी हिंट देना चाहते हैं कि जैसे सांवरे रंग पर कोई और रंग नहीं चढ़ता ऐसे ही भक्ति के रंग को अपने अन्दर इतना पक्का कर लो की संसार का कोई और रंग उस पर चढ़ ही ना सके | राधे राधे

2672 days 10 hrs ago By Waste Sam
 

radhey radhey... bhagwan treta mein shri ram ke roop mein neel varn the aur swapar mein shri krishn ke roop mein sawale varn ke hue... bhagwan ne yeh varn islye chune - kyonki woh bhakto ke paapo ko apne mein sokh lete hai, sawala rang kissi bhi rang ka abhav hona hai arthat bbhagwan sattv, rajo yaa tamas guno se rahit hai.. jai shri radhey

2672 days 11 hrs 28 mins ago By Deepak Varsha Sharma
 

Bhagwan Sri Krishnaji Neel varn me isliye hai kyu ki Bhagwan Vishnu bhi Neel Varn me hai and Sri Krishnaji Unke Avataar hai,, har avataar mai bhagwan neel varn me hai,, ye unki pehchaan hai

2672 days 17 hrs 20 mins ago By Neetu Vaishnav
 

jb kaliaya naam ke veshela naag yamuna me aa kr rehna lga tha or sare jal ko vishela bna diya tha.........to yamuna se kaliya naag ko nikalne ke liye kanha ji ne usse yudh kiya tha ......or us yudh me kaliya naag ne apni visheli funkar kanha ji pr dali .......or us visheli funkar se kanha ji neel varan k ho gye.........shree radhey..........

2672 days 21 hrs 20 mins ago By Bhakti Rathore
 

radhe radhe wo isley kyunki woapne bhakto ke saare paap her lete he unke samne jaane per

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Article
Latest Video
Latest Opinion Topic
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1358
Baanke Bihari
   Total #Visiters :296
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :246
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :355
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :367
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :246
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com