Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

आनंद कि अनुभूति होने के लिये जीवन में किस चीज का अनुभव होना जरुरी है?

इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण है?

  Views :854  Rating :5.0  Voted :3  Clarifications :18
submit to reddit  
2892 days 18 hrs 33 mins ago By Aditya Bansal
 

jab hum apna dhyan sansarik cheezon se utha kar prabhu kia ur lagayenge...prabhu ke prakash roopi swaroop ko pehchange ki iss jivan kewal ek he sach hai woh shreekrishan hai

2894 days 10 hrs 17 mins ago By Bhakti Rathore
 

radhe apne east se milan apne gyan chachu kholna

2901 days 21 hrs 35 mins ago By Waste Sam
 

radhey radhey... anand ka udgan sthan hai bhagwan (isliye unka ek naam hai satchidanand) toh anand ke udgan strotra ka jeevan mein hona jaroori wah hai bhagwan aur bhagwan aate hai humari bhakti se. jeevan mein sansar ke anityata ka anubhav hona aur iss se sada preret reh kar bhagwan ke bhakti karna bus iss baat ka anubhav hona jaroori hai. jai shri radhey..

2902 days 8 hrs 3 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 

आनंद की अनुभूति क्षणिक भी हो सकती है और स्थायी भी क्षणिक अनुभूति अक्सर लौकिक अनुभुतीओं से या क्रियाओं से या लौकिक वस्तुएं पाने से होती है जैसे ही वो चीज मिलती है और उससे मन भर जाता है आनंद की समाप्ति हो जाती है | पर स्थायी आनंद तो उस परम सत्ता की अनूभूति या अनुभव होने से है जैसे ही हम उस परम सत्ता में विलीन हो जाते हैं वैसे ही हम आनंद के समुद्र में डूब जाते हैं और जब डूब जाते हैं तो उससे उबरने का तो प्रश्न ही ख़तम हो जाता है | यानी हम चिर आनंद में हो जाते हैं | राधे राधे

2902 days 8 hrs 3 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 

आनंद की अनुभूति क्षणिक भी हो सकती है और स्थायी भी क्षणिक अनुभूति अक्सर लौकिक अनुभुतीओं से या क्रियाओं से या लौकिक वस्तुएं पाने से होती है जैसे ही वो चीज मिलती है और उससे मन भर जाता है आनंद की समाप्ति हो जाती है | पर स्थायी आनंद तो उस परम सत्ता की अनूभूति या अनुभव होने से है जैसे ही हम उस परम सत्ता में विलीन हो जाते हैं वैसे ही हम आनंद के समुद्र में डूब जाते हैं और जब डूब जाते हैं तो उससे उबरने का तो प्रश्न ही ख़तम हो जाता है | यानी हम चिर आनंद में हो जाते हैं | राधे राधे

2902 days 10 hrs 29 mins ago By Ashish Rai
 

prabhu shri krishna ka..

2902 days 14 hrs 7 mins ago By Vipin Sharma
 

RAADHE RAADHE

2902 days 15 hrs 55 mins ago By Ashish Anand
 

yahaan do baaten hain... santosh hi anand ki anubhuti ka sabse bada khajana hai, lekin ye sirf material world ke liye hai... lekin agar humen vastavik anand prapt karna hai to uss param pita ke charno mein apne chitt ko laga dena aur unke har ek lila ko manan aur chintan karne mein jo anand hai vo aur kahaan milega... so bhagwat prem hi anand ki anubhuti ka khajana hai...

2902 days 16 hrs 52 mins ago By Gulshan Piplani
 

अनुभूत किये बिना स्थिति नहीं आ सकती| स्थिति में पहुँचने की लिए अनुभूत करना आवश्यक है - यह तत्व की बात है| अनुभूति क्षणिक होती है अनुभव क्षणिक नहीं होता स्थायी होता है| लोकिकता में आनंद एवं स्थिति क्षणिक होती है पर अलोकिकता में स्थायी तब होता है जब मनुष्य प्रबुद्ध हो जाता है| राधे राधे

2902 days 17 hrs 20 mins ago By Ajay Nema
 

आनंद कोई अनुभूति नहीं है, आनंद वो स्तिथि जब सारे अनुभव और जीवन के रंग समाप्त हो जाते है. आनंद और ईश्वर एक है . आनंद आने के बाद प्राणी कुछ बताने लायक बचता नहीं है.

2902 days 17 hrs 40 mins ago By Ravi Dewangan
 

Anand ki anubhuti ke liye bhagwan krishna ke liye prem hona zaroori hai, Bina prem ke aanand ki anubhuti sambhav hi nahi hai. aur krisna k liye prem me sarvasha tyaag karne ki bhav hona chahiye bina kisi sansaarik mohe ke.

2902 days 17 hrs 57 mins ago By Gulshan Piplani
 

हमारी जो इच्छा संकल्प बन जाती है उसकी पूर्ती ही हमारे अहंकार को(हमारा अहंकार 'अहम' अर्थात 'मैं हूँ को ) आनंदित करती है| अर्थात विकल्प प्राप्त होते ही हमारा अहंकार शांत हो जाता है और संतोष की प्राप्ति का अनुभव होता है| - राधे राधे

2902 days 18 hrs 17 mins ago By Vipin Sharma
 

RADHE RADHE

2902 days 18 hrs 18 mins ago By Vipin Sharma
 

JAB VYAKTI KISI DUKH KO SAHAN KARKE US SE NIKALTA HAIN TAB USE ANAND KI ANUBHOOTI SABSE JYADA HOTI H. ISLIYE DUKHA KA ANUBHAV HONA JAROORI H.

2902 days 18 hrs 22 mins ago By Vipin Sharma
 

DUKH KA ANUBHAV !!

2902 days 19 hrs 16 mins ago By Chandrani Purkayasth
 

santosh. jaisa ke bhagbad geeta me kaha gaya ha, sukh dukh, shatru mitra ko saman bahv se dekhte hue, sthit pragya ke tarah, iswar ke khusi ke liye karm karne se tatha fal ki asha kiye bager man laga karma karte rehne se hi anand ki anubhuti hoti ha.

2902 days 19 hrs 27 mins ago By Vipul Nema
 

Anand ke anubhuti ke leye santhoch ka anubhav ho na jaruri hai.

2902 days 20 hrs 47 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... सत्य में स्थित चित्त का अनुभव होना जरुरी है।.... जिस व्यक्ति का चित्त सत्य में स्थित हो जाता है उसे ही आनन्द की अनुभूति होती है क्योंकि सच्चिदानन्द (सत्य+चित्त+आनन्द) स्वरूप भगवान स्वयं हैं।

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Article
Latest Video
Popular Opinion
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1382
Baanke Bihari
   Total #Visiters :307
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :248
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :359
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :429
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :248
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com