Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

वो क्या है जो आसक्ति और अनासक्ति से परे है?

इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण है?

  Views :617  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :13
submit to reddit  
2840 days 7 hrs 10 mins ago By Waste Sam
 

radhey radhey, aasakti aur anasaakti se pare hai "PREM"... jai shri radhey

2842 days 10 hrs 35 mins ago By Vipin Sharma
 

AADI SHAKTI

2842 days 10 hrs 36 mins ago By Vipin Sharma
 

BRAHAM

2846 days 16 hrs 54 mins ago By Raghu Raj Soni
 

Aaskti & Anaskti vanishes when we merge with the supreme.Advait bhav emerges; krisna is Advait and therefore, He alone is beyond the both.

2849 days 13 hrs 51 mins ago By Avichal Mishra
 

viswas aaskti aur anasakti se pare hai... jai shri radhe...

2849 days 14 hrs 26 mins ago By Aditya Bansal
 

mein sab se pare hai

2850 days 9 hrs 16 mins ago By Gulshan Piplani
 

परब्रह्म

2851 days 3 hrs 3 mins ago By Gulshan Piplani
 

परमेश्वर|

2851 days 7 hrs 51 mins ago By Aditya Bansal
 

PRABHU HE PREM HAI

2852 days 4 hrs 41 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... आसक्ति और अनासक्ति व्यक्ति की भावदशा होती है।..... बूँद (जीवात्मा) जब तक स्वयं को सागर (परमात्मा) से अलग समझती रहती है तब तक बूँद आसक्ति और अनासक्ति के भाव में ही स्थित रहती है और बूँद जब सागर में विलय हो जाती है तब बूँद भी आसक्ति और अनासक्ति के भाव से परे स्थित हो जाती है।

2852 days 12 hrs 40 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 

आसक्ति और अनासक्ति से परे केवल प्रभु हैं उन्हें ना किसी में आसक्ति है ना किसी से अनासक्ति है | कह सकते हैं की आनंद का जोड़ा नहीं है वह आसक्ति और अनासक्ति से परे है पर आनंद भी तो स्वयं प्रभु ही हैं | राधे राधे

2852 days 14 hrs 12 mins ago By Pradeep Pal
 

kabir das ji kahte hai ki, kabira sab jag nirdhana dhanwanta na koi, dhanwanta so janiye jake raam naam dhan hoe. to ek bhakt hi ashakti or ana shakti se pare rhata hai........hare krishn

2852 days 14 hrs 38 mins ago By Nidhi Nema
 

राधे राधे, आसक्ति और अनासक्ति दोनों का मतलब है सुख और दुःख,यदि हमें कही से सुख मिलता है तो हमारी वहाँ आसक्ति हो जाती है और यदि दुःख मिला तो अनासक्ति हो जाती है.दुनिया में हर चीज के दो पक्ष है जैसे आसक्ति/अनासक्ति , सुख/दुःख ,पर एक शब्द है "आनंद" आनंद का विपरीत कुछ नहीं है ,क्योकि जिसके जीवन में आनंद आ जाता है,उसे फिर कुछ पाने की चाह नहीं होती.बस यही आनन्द ही आसक्ति अनासक्ति से परे है.

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Popular Article
Latest Video
Opinion Topic
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1381
Baanke Bihari
   Total #Visiters :305
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :248
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :359
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :419
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :248
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com