Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

स्वर्ग और नर्क क्या हे? क्या वास्तव में स्वर्ग और नर्क होते हे?

इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण हें? आप क्या सोचते हे?

  Views :537  Rating :5.0  Voted :8  Clarifications :4
submit to reddit  
2725 days 28 mins ago By Gulshan Piplani
 

जहाँ मनुष्य को satogunon के कर्मफलों की प्राप्ति हो वोह सवर्ग है और जहाँ तमोगुणों के फलों की प्राप्ति हो वोह नरक है|

2735 days 3 hrs 35 mins ago By Gulshan Piplani
 

माया नरक है और संतोष स्वर्ग - गुलशन हरभगवान पिपलानी

2783 days 12 hrs 44 mins ago By Aditya Bansal
 

radhey radhey

2810 days 11 hrs 37 mins ago By Aditya Bansal
 

hume narak swarg yahi milt ahai hai jitne kast bhogenege utne hamare purv paap hai wahi narak hai hai..nd jitni bhakti karngee tne paap katengee..nd wahi swarg hai

2837 days 6 hrs 11 mins ago By Kailash Chandra Shar
 

शास्त्रीय उल्लेख स्वर्ग एवं नरक का मिलता है , परन्तु हमें लोक शब्द के प्रयोग को देखने से एक स्पष्टता मिलाती है | हम जब विचार लोक या मानस लोक जैसे शब्दों का प्रयोग करते हैं तो यह स्पष्ट होता है की लोक वह है जहाँ किसी की स्थिति होती है | गीता में दो बातें कही गयीं हैं पहली- मन प्रकृति का हिस्सा है और दूसरी -स्वर्ग प्राप्ति निरर्थक व अस्थायी है | इससे यह बात निकलती है कि संसार के कार्य व्यवहार से जो सुख की या दुःख की उपलब्धि होती है वह जड़ पदार्थ मन द्वारा अनुभूत होने के कारण अस्थायी और क्षरण युक्त होती है | शारीर के साथ हो या शारीर छूटने के बाद यह अनुभूति जड़ मन के साथ ही सलग्न रहती है | यही कारण है कुछ लोग,स्वर्ग नरक की अवधारणा को काल्पनिक और प्रतीकात्मक तक कह देते हैं |

2837 days 8 hrs 24 mins ago By Murli Dhar
 

RADHEY RADHEY!! WONDERFUL ..AND WELL SAID!

2837 days 11 hrs 56 mins ago By Nidhi Nema
 

राधे राधे,किये कर्मो के हिसाब से मरने के बाद स्वर्ग और नर्क मिलता है.लेकिन वास्तव में स्वर्ग और नर्क जीवन में ही होते है,व्यक्ति अपने कर्मो से ही जीवन को स्वर्ग या नर्क बनाता है.यदि व्यक्ति का आपस में प्रेम है जहाँ लोग दूसरे की परवाह करते है,घर्म पर चलते है,मर्यादा का पालन करते है कोई गलत काम नहीं करते तो वास्तव में वह व्यक्ति स्वर्ग में है,और जहाँ व्यक्ति केवल अपना स्वार्थ देखता है उसके लिए चाहे उसे कुछ भी करना पड़े जहाँ भाई भाई एक साथ रहकर भी कभी एक दूसरे की सूरत तक देखाना पसंद नहीं करते वही नर्क है. राधे-राधे.

2837 days 12 hrs 11 mins ago By Murli Dhar
 

Jai Sree Radhey!! yes, there exist heaven and hell, alwyas from time immemorial. it is lord krishna's system no one can deny it but a fools dont have confidence ti belive in it even thogh he can suffers. Vrindawan or ISKCON temple at banglore or Dwarika dessh .or any place when we go and enjoy peace, solance and realize the importance of life that is a sample of heavenly test..........on the other hand when one go to person, or dirty hospitals or butchrkhana or see the shame of vaishyaliye or disaster in nuclear or rotten life at footpath are smple of hell.... Oh! my lovely krishna and radhay maiya please and please keep me in your lotous feet forever for your service....radhey radehy!!

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Article
Latest Video
Latest Opinion Topic
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1363
Baanke Bihari
   Total #Visiters :297
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :246
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :357
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :381
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :246
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com