Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

जब प्रेम सिर्फ भावना नहीं है, और वह हमारा मूल आस्तित्व है तो फिर प्रेम किसी दिन कैसे गायब हो जाता है और फिर किसी अन्य दिन कैसे प्रकट हो जाता है ?

इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण है?

  Views :430  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :8
submit to reddit  
2675 days 12 hrs 22 mins ago By Waste Sam
 

radhey radhey... jaisa ke yahan kaha ke humara astitva prem hai kyonki hum bhagwan ke ansh hai aur bhagwan kewal prem hai.. prem ka arth hai samarpan, tyaag, daya, sadbhav, kshama etyaadi isse samjhane ke liye dekhe jab hum kisse se prem karta hai toh hum kabhi usse naraz nahi ho pate... yeh prem kabhi bhi gayab nahi hota bus iss par kai aa jate hai jo maya ke karan hota hai... yadi hum kai ko naa aane de aur naa jamne dee toh prem hume prakat aur aprakat hota nahi dekhega, woh stahiye dekhega... jai shri radhey

2686 days 11 hrs 17 mins ago By Aditya Bansal
 

PREM KABHI GAYAB NAHI HOTA WOH DIL MEIN REHTA HAI JIS DIN DIL SE KAAM NAHI LENGE PYAAR GAYAB HOGA TAB

2691 days 18 hrs 50 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... डगर सुहानी प्रेम की जहॉ ठगी ना होई। ठगी होय जिस डगर पर प्रेम डगर ना सोई॥

2696 days 3 hrs 29 mins ago By Chandrani Purkayasth
 

jo prem ek din ghat jaye, woh prem prem kaha? prem to woh shuddhi ha, jahar ko banade amrit ka pyala. gar dekho ghan shyam ki chaya , jag ke har ek kan kan mein, prem ka mandir ban jayega apne antar man mein. esi poonam ayegi phir apne jiban angan mein, krishna prem ka chand kabhi ghir na payega badal me..........

2696 days 7 hrs 58 mins ago By Gulshan Piplani
 

प्रेम कभी भी गायब नहीं होता दरअसल जब वह माया के वशीभूत हो अपना रूप बदल लेता है तो गायब होता दीखता है और जब माया हट जाती है तो फिर दिखने लगता है| यह देखनें वाले व्यक्ति के नज़रिए पैर निर्भर होता है की वोह आँखों से देख रहा है या कला -लाल-हरा-पीला चश्मा लगा कर| - गुलशन हरभगवान पिपलानी

2696 days 9 hrs 55 mins ago By Raghu Raj Soni
 

prem with bhavna is never changing, the beast highest stage of prem is in gopies that continues for krisna, never changing no matter what are the circumstances.

2696 days 16 hrs 58 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 

ये बिल्कुल सही है कि प्रेम सिर्फ भावना ही नहीं है हमारा जीवन इस प्रेम के कारण ही अस्तित्व में है अगर प्रेम ना हो तो संसार से जीवन लुप्त प्रायः हो जाएगा | हम अपनी कामनायों की पूर्ती के लिए इतने स्वार्थ के अभिभूत हो जाते हैं कि उसके धुंधलके में हमारा प्रेम छुप जाता है और जैसे ही स्वार्थ का बदल हटता है प्रेम फिर उदय हो जाता है | लेकिन अगर जीव को उचित समय पर उचित सत्संग मिलता रहे तो स्वार्थ रूपी राक्षस कभी सिर सवार नहीं होगा और प्रेम का सूरज सदा चमकता रहेगा | राधे राधे

2696 days 21 hrs 38 mins ago By Manish Nema
 

सूर्य भी गायब होना प्रतीत होता है ,परन्तु वास्तव में वह गायब नहीं होता है | यह सिर्फ छुपने के जैसे है या आप किसी अन्य दिशा की तरफ चले गए है | यह ऐसा ही है |"राधे राधे"

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Popular Article
Latest Video
Popular Opinion
Latest Bhav
Spiritual Directory
211
0.0
240
0.0
359
0.0
223
0.0
229
0.0
295
0.0


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1358
Baanke Bihari
   Total #Visiters :296
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :246
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :355
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :366
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :246
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com