Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

शरीर के मृत होने पर भी स्मृति कैसे आस्तित्व में रहती है?

इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण है ?

  Views :511  Rating :5.0  Voted :1  Clarifications :11
submit to reddit  
2775 days 11 hrs 16 mins ago By Waste Sam
 

radhey radhey, smriti jo iss jeevan kal mein humare saath hoti hai woh sthol aur sukshm do prakar ke hai mere anusaar. sthol woh hai jo humare jeevan kaal mein samay samay par humari yaadein bankar rehte hai parantu sukshm smiriti humare sukshm sharir ke saath hoti hai aur jaise sukshm sharir nahi marta waise hee smriti nahi marte sharir ke saath.. jai shri radhey

2779 days 20 hrs 37 mins ago By Vipin Sharma
 

YE ASAMBHAV HAI

2784 days 22 hrs 17 mins ago By Aditya Bansal
 

सबसे पहली चीज़ है आध्यात्मिक सम्पत्ति।

2784 days 22 hrs 17 mins ago By Aditya Bansal
 

स्मृति कोई भौतिक तत्व नहीं है| यह ठीक है कि उसमे भौतिकता होती है,परन्तु उसके सांसारिक प्रभाव/छाप चेतना पर भी होते है | आप माइक पर बोल रहे है, और उन शब्दों का विद्युतीकरण होकर, वे फिर से ध्वनि बन जाते है | यह कैसे होता है ? यही चेतना की बुद्धिमत्ता है | ध्वनि का विद्युत बनना और फिर से वही ध्वनि में परिवर्तित हो जाना | मस्तिष्क के कोशिका में संस्कार/छाप बन जाते है, जो एक जीवनकाल से अगले जीवन काल मे चलते जाते है | इसलिए चेतना में कई पूर्व की स्मृतियाँ होती है | यह अत्यंत स्वाभाविक है | कई घटनाये हो रही और कुछ चेतना में बैठ/छप जाती है |

2785 days 17 hrs 16 mins ago By Gulshan Piplani
 

सूक्ष्म शरीर द्वारा

2796 days 17 hrs 43 mins ago By Gulshan Piplani
 

राधे राधे - यह बहुत गहन विषय है| स्थूल शरीर के चोबीस तत्व होते हैं और सूक्ष्म शरीर के भी चोबीस तत्व होते हैं| सूक्ष्म शरीर के चोबीस तत्वों में पांच तत्व सथूल शरीर के होते हैं तभी सूक्ष्म शरीर की सथूल शरीर से एक तत्व रूपता सध सकती है| वैसे सूक्ष्म शरीर के उन्नीस तत्व होते हैं| तभी मनुष्य स्वप्नावस्था में सथूल शरीर के कार्य संपन्न कर पाता है| जैसे सूक्ष्म देह द्वारा स्त्री संग प्राप्त होने से वीर्येपात हो जाना| सूक्ष्म शरीर में ही स्मृति रह जाती है तभी हमें स्वप्न में कुछ ऐसे- ऐसे दृश्य दीखते हैं जिन्हें हम ने इस जन्म में न कभी देखा होता है न सुना होता है और न कभी महसूस किया होता है| गुलशन हरभगवान पिपलानी

2806 days 11 hrs 58 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... प्रत्येक प्राणी के दो शरीर होते हैं, एक स्थूल शरीर और दूसरा सूक्ष्म शरीर, स्थूल शरीर छूटने पर स्मृति का अस्तित्व सूक्ष्म शरीर में रहता है। नया स्थूल शरीर प्राप्त होने पर प्राणी मोहनिशा अचेत अवस्था के कारण पूर्व स्मृति का विस्मरण हो जाता है, मनुष्य को पूर्व स्मृति का आभास कभी-कभी स्वप्न में होता है।

2807 days 19 hrs 38 mins ago By Aditya Bansal
 

shree radhey

2809 days 19 hrs 9 mins ago By Ashish Anand
 

sirf humara bhautik sharir hi marta hai, aatma nahin marti... aur aatma ke sath hota hai sukshma sharir jisame 3 tatva hoten hain... aur inhi 3 tatvon ke karan smriti astitva mein rehati hai...

2809 days 22 hrs 44 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 

पञ्च तत्व से बना स्थूल शरीर ही मृत होता है सूक्षम शरीर जीवित रहता है सूक्षम शरीर में मन बुद्धि और अहंकार होता है और स्मृति मन में और बुद्धि में होती है इसलिए जब तक सूक्षम शरीर चेतन तत्व के साथ है तब तक स्मृति सुप्त रूप से जीवित रहती है उच्च साधक को अपने पिछले जन्म की स्मृति होती है.........राधे राधे

2810 days 3 hrs 4 mins ago By Manish Nema
 

स्मृति कोई भौतिक तत्व नहीं है| यह ठीक है कि उसमे भौतिकता होती है,परन्तु उसके सांसारिक प्रभाव/छाप चेतना पर भी होते है|"राधे राधे "

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Latest Article
Latest Video
Opinion Topic
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1373
Baanke Bihari
   Total #Visiters :299
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :248
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :357
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :399
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :248
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com