Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

जीवन का उद्देश्य क्या है, इसे कैसे जाना जा सकता है?

इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण है? आप क्या सोचते है?

  Views :502  Rating :5.0  Voted :2  Clarifications :11
submit to reddit  
2652 days 6 hrs 41 mins ago By Waste Sam
 

radhey radhey, jeevan ka uddeshay janane ke liye humara satsang sunana jaroori hai aur tab he hume humare astitav ke vishay mein gyan ho pata hai, ke hum bhagwan ke ansh hai...lakshay hai iss manav jeevan ke dwara wapis apne bhagwan ko pana... jai shri radhey

2673 days 8 hrs 11 mins ago By Gulshan Piplani
 

मनुष्य जीवन का उदेश्य तो परब्रह्म की प्राप्ति है इसे सतगुरु के सत्संग और संत समागम द्वारा ही प्राप्त किया जा सकता है - गुलशन हरभगवान पिपलानी

2683 days 3 hrs 11 mins ago By Ravi Kant Sharma
 

जय श्री कृष्णा.... जिस प्रकार प्रत्येक बूँद का उद्देश्य सागर से मिलना होता है, उसी प्रकार प्रत्येक जीवात्मा का एक मात्र उद्देश्य परमात्मा में मिलना होता है।.... जीवात्मा बूँद के समान है और परमात्मा सागर के समान है।

2686 days 13 hrs 43 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 

जीवन का उद्देश्य क्या है और ये कैसे जाना जाए प्रश्न जटिल है क्योंकि हर जीव के जीवन के अलग अलग उद्देश्य होते हैं संतों ने भी इस विषय में अलग अलग बाते कहीं है किसी ने इस संसार में जप तप से प्रभु प्राप्ति को उद्देश्य बताया है किसी ने प्रकृति की सेवा से प्रभु प्राप्ति को उद्देश्य बताया है किसी ने परोपकार से ही प्रभु प्राप्ति को उद्देश्य बताया है पर भगवान् कृष्ण ने अपनी प्रकृति के अनुसार कर्म करने को ही उद्देश्य बताया है गीता के १८ वें अध्याय के एक श्लोक में कहते है हे अर्जुन तू कहता है मै युद्द नहीं करूँगा ये तेरा अभिमान है तेरी प्रकृति तुझे युद्द करने के लिए बनी है इसलिए तुझे करना ही पढ़ेगा | इसलिए मेरा मानना है की अपनी प्रकृति को पहचान कर उसके अनुसार कर्म प्रसन्ता से कर्म करना ही जीवन का उद्देश्य है श्री कृष्ण ने अपनी प्रकृति के अनुसार कर्म को प्रेम से करने से ही अपनी प्राप्ति बतलाई है इसलिए मेरी नज़र में जो प्रभु ने हमें कर्म दिया उस कर्म को सचे मन से प्रेम से करना ही इस जीवन का उद्देश्य है........राधे राधे

2686 days 18 hrs 16 mins ago By Muka Reiki
 

"I am the conscience in the heart of all creatures I am their beginning, their being, their end I am the mind of the senses, I am the radiant sun among lights I am the song in sacred lore, I am the king of deities I am the priest of great seers…" This is how Lord Krishna describes God in the Holy Gita. And to most Hindus he is the God himself, the Supreme Being or the Purna Purushotam.

2688 days 7 hrs 20 mins ago By Ashish Anand
 

bahgwan ki bhakti karna humara path aur bhagwan ki seva karna hi humara karya hona chahiye, jisase hum param shanti ko paa sakten hain... fir to hum material world mein kon sa bhi karya kar rahe ho... usse bhagwan se zod dena hi param lakshya ki prapti hai...

2688 days 10 hrs 26 mins ago By Ashish Bansal
 

We are all sent by God to perform some duties. So do your work sincerely and help the needy without thinking of pro and cons u will get out of it " KARAM KIYE JA, FAL KI ICCHA MAT KAR "..And keep reminding GOD name whenever u get time, no matter if its a single second but it should be from heart. " FAITH and PATIENCE " key to success. Jai Shree Radhey...

2688 days 10 hrs 38 mins ago By Gajendra Rathi
 

The thing is - we might live our entire lives and yet not know the reason why we existed.. but there was still a definite purpose that we would have fulfilled during our life.. that was the reason we were born... so important thing then is not WHY we exist but HOW we exist... Be happy and spread happiness... and being HAPPY does not mean that you have no troubles but its an acknowledgement that you know how to sort them out.. Live each day like a festival and our existence will find its true essence!!!

2688 days 12 hrs 8 mins ago By Gaurav Malhotra
 

jivan ka udsheya shri krihna bhakti he esa shai BHAGWAT (GEETA) SEH PTA LAGEYA JA SAKYA HE

2688 days 12 hrs 10 mins ago By Gaurav Malhotra
 

2688 days 14 hrs 56 mins ago By Aditya Bansal
 

भगवान् ने कहा है-‘माया बड़ी दुस्तर है। इस माया से कोई भी सहज में पार नहीं हो सकता, परन्तु मेरे शरणापन्न व्यक्ति इस माया से तर जाते हैं।’ भगवान् के अतिरिक्त जो कुछ भी है-असत् है, माया है और उसको जीवन से निकालना है। भगवान् के शरणापन्न होने पर जीवन में से यह मिथ्यापन निकल सकता है। मानव-जीवन का यही एकमात्र कर्तव्य और उद्देश्य है।

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Article
Latest Video
Popular Opinion
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1353
Baanke Bihari
   Total #Visiters :295
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :245
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :353
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :360
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :245
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com