Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

आध्यात्मिक पथ पर साधक, निराकार, साकार के बीच भटक जाता है क्यों ?

इस बारे में आपका क्या द्रष्टिकोण है ?

  Views :408  Rating :0.0  Voted :0  Clarifications :4
submit to reddit  
2627 days 4 hrs 4 mins ago By Vipin Sharma
 

ISHWAR TO NIRAKAAR HOTA HAI. LEKIN HAME DHYAAN LAGANE K LIYE SAKAAR KI JARURAT HOTI H.

2644 days 46 mins ago By Gulshan Piplani
 

राधे राधे - क्योंकि उसके पास पुस्तकें तो होती हैं पर कोई अध्यात्मिक गुरु नहीं होता| और अगर गुरु होता भी है तो वह गुरु को समर्पित नहीं होता वह अपनी बुद्धि को समर्पित होता है तो जितना उसकी बुद्धि कार्य कर पाती है उतना ही वोह समझ पाता है| अध्यात्मिक पथ पर गुरु को समर्पित होना आवश्यक है| - गुलशन हरभगवान पिपलानी

2657 days 1 hrs 44 mins ago By Ashish Anand
 

ek saccha sadhak apne path se kabhi nahin bhatkata... wo bhatkata tab hai jab usse wastavik guru aur santo ka sang nahin milta, haan duniya mein sabse zyada sadhak aise hi hain jo abhi bhi bhatak rahen hai ki ishwar nirakar hain ya sakar hain... kya main jisaki pooja kara raha hun, vo mujhe mukti dega? kya wahi param Ishawar hai..? to Lord krishna says 'jo mujhe jiss roop mein dekhega main usse ussi roop mein dikhayi dunga'... bt nirakar ka to koi roop hi nahin hai.... to hum ussse kis roop mein dekhen... hum jisse energy ka naam deten hain aur jise 'brahma jyoti ka naam deten hai' woh God ka roop nahin hai vo to Unki antarnga shakti hai, means (eternal power)... jisame sadhak vileen hone ki baat karten hai... lekin unhe ye pata nahin hota ki wahan se fir janma lena padta hai... isliye ek sadhak ko janana zaruri hai ki ishwar SAKAR hai... wo nirakar ho hi nahin sakta... like akash nirakar hai, anant hai... so God har jagah wyapt hone ke karan akash mein bi vyapt hai... isliye Ishawar ka ek roop (akash) nirakar hai... vo swayam nirakar nahin hai... hare krishna...

2660 days 5 hrs 14 mins ago By Rajender Kumar Mehra
 

साधना पथ में बढ़ने के ये दो मार्ग हैं साकार और निराकार या यूँ कहें एक मार्ग भक्ति और प्रेम के द्वारा संचालित है और दूसरा ज्ञान के द्वारा लेकिन लक्ष्य दोनों का एक ही है क्योंकि जब विलय हो जाता है तो कुछ रहता ही नहीं साकार और निराकार एक हो जाते हैं व्यक्त हो अव्यक्त का भेद ख़त्म हो जाता है भटकाव तब होता है जब हम अपने मार्ग पर दृढ नहीं रहते हैं ये जीव की आदत है उसे दूसरे का मार्ग सुविधा जनक लगता है निराकार वाले को साकार वाला मार्ग और साकार वाले को निराकार वाले का मार्ग अच्छा लगने लगता है दोनों ही मार्ग उचित और अच्छे हैं साधन दोनों में करना पढता है कोई कहे की इस मार्ग में साधन नहीं है तो गलत है साधन दोनों में ही करना पढ़ेगा साधक का भटकाव तभी संभव है जब वो अपने मार्ग को तुच्छ समझने लगता है और अपने गुरु से अपना विश्वास खो बैठता है साधक को चाहिए की गुरु की आज्ञा से जो मार्ग मिले उस पर दृढ़ता से चले भटकाव नहीं होगा........राधे राधे

 
Tags :
Radha Blessings



Click here to know more about Radha Blessings
Article
Latest Video
Popular Opinion
Latest Bhav
Spiritual Directory


Today Top Devotee [0]

Today Opinion Topic

हम अधिक अनुशासित कैसे बने?

Radhakripa on Mobile

This Month Festivals

Guru/Gyani/Artist
Online Temple
Radha Temple
   Total #Visiters :1345
Baanke Bihari
   Total #Visiters :293
Mahakaal Temple
   Total #Visiters :
Laxmi Temple
   Total #Visiters :245
Goverdhan Parikrima
   Total #Visiters :353
Animated Leelaye
Maharaas Leela
   Total #Visiters :347
Kaliya Daman Leela
   Total #Visiters :
Goverdhan Leela
   Total #Visiters :
Utsav
Radha Ashtami
   Total #Visiters :
Krishna Janmashtami
   Total #Visiters :
Diwali Utsav
   Total #Visiters :245
Braj Holi Utsav
   Total #Visiters :
eBook Collection
सभी किताबे
राधा संग्रह
ग्रन्थ
कृष्ण संग्रह
व्रज संग्रह
व्रत कथाएँ
यात्रा
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com