Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

गौ सेवा महत्व

  Views : 368   Rating : 0.0   Voted : 0
submit to reddit  
Convertion of eSatsung in text is in Process ...Mean while you can listen the Audio.
Comments
2011-12-28 18:49:33 By MANOJ JASWAL

SAB K LIYE SOCHO

2011-08-09 16:50:58 By Vipin Sharma

Radhe Radhe Jai Shri krishna

2011-08-09 12:29:52 By Gautam Kushwaha

नाम महाधन है अपनों.............नहीं दूसरी कोई सम्पति कमानी.. छोड़ अटारी अटा जग के ..............हमको को कुटिया ब्रिज मै है बनानी. टूक मिले रसिको के सदा और पीबन को यमुना जल पानी. हमे और के परवाह नहीं ...क्योकि अपनी ढकुरानी श्री राधिका रानी

2011-08-09 12:29:25 By Gautam Kushwaha

राधा-परिचय\"वृन्दावन में रस आया बरसाना से बरसाना में रस कहाँ से आया? बरसाना में रस आया,श्री राधा रानी के चरणों से.ये सभी जानते हैं कि राधा रानी का गाँव बरसाना है और यहाँ आने के लिए श्री कृष्ण भी तरसा करते हैं.बहुत लोग इस बात को नहीं समझ पाते हैं.जो सबसे प्रधान श्री राधा रानी जी का ग्रन्थ राधा सुधा निधि है,उसमें बरसाना की ही वंदना की गई है.रसिक लोग कहते हैं कि राधा रानी को प्रणाम करने की योग्यता तो हममें नहीं है उनके श्री चरणों को अनंत कोटि ब्रह्माण्ड नायक भगवान श्री कृष्ण भी छूने में हिचकते.

2011-08-09 12:28:53 By Gautam Kushwaha

हम प्रेम नगर की बंजारिन जप-तप और साधन क्या जाने, हम श्याम के नाम की दीवानी, व्रत नेम के बंधन क्या जाने, हम ब्रज की भोली ग्वारनियाँ, हम ...ज्ञान की उलझन क्या जाने, ये प्रेम की बाते है ऊद्धो, कोई क्या समझे, कोई क्या जाने, मेरे और मोहन की बाते, या मै जानू या वो जाने || ”See More

2011-08-09 12:28:29 By Gautam Kushwaha

तुम रूठे रहऊ मोहन हम तुम को मना ले गे आहो में असर हो गा तेरे दिल भी चुरा ले गे तक़दीर हो तुम लिखते जो मर्जी लिख डालो हम दर तेरे प् सर रख कर तक़दीर बना ले गे तुम रूठे रहऊ मोहन हम तुम को मना ले गे

2011-07-02 08:16:00 By Roopesh Sharma

प्रेम में भी सुख की खोज होती , परंतु उसमे विशेषता यही है कि वहाँ प्रेमास्पदका सुख ही अपना सुख माना जाता है राधे-राधे

Enter comments


 
 
Tags :
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com