Theme :
Home
Granth
eBook
Saint
Leelaye
Temple
Yatra
Jap
Video
Shanka
Health
Pandit Ji

स्वकीय परकीया भाव

  Views : 1084   Rating : 5.0   Voted : 3
submit to reddit  
Send your Master/Guru/God article to [email protected] to add in radhakripa. ?>
!! जय जय श्री राधे !!
Use following code to Embebd This Article in your website/Blog
Comments
2011-12-17 12:32:11 By Dasabhas DrGiriraj Nangia

jis prakar hema malini vastav me dharmendra ki patni hai,kisee film k abhinay me hema malini dharmendr ki premika bane to ise parkeeya kahte hain, bhav parkeeya ka h, vastav m to swakeeya hi hai. shri radha n gopiyan nitya swakeeya hai, jab leela (film)karni hoti h to prkiya ka roll karte hain, jsr

2011-10-21 09:24:17 By Mohan Lal Agarwal

चेतन्य महाप्रभु के ५ भ्हवो में- माधुर्य भाव की प्रधान्ता है।माधुर्य भाव में २ भाव-
स्वकीय माधुर्य भाव-इस भाव में श्रीकृष्ण की विवाहित गोपीस्वरूप पत्नियाँ- रक्मणी प्रधान। इस भाव में इन्को चाह है -स्वयं के सुख की- समस्त सुख पत्नि का।
परकीय माधुर्य भाव- मे समस्त गोपीयाँ- राधा-प्रधान। इस भाव में इनकी चाह है- केवल श्रीकष्ण की चाह की पूर्ति- स्वयं की कोई चाह नहीं- केवल केवल कृष्ण सुख।
यही कारण है कि- इस संसार में- परकीय माधुर्य भाव की प्रतीक- राधा- श्रीकृष्ण के साथ मंदिरों में विराज्मान है और श्रीकृष्ण राधा के हृदय में व राधा- श्रि कृष्ण के हृदय में- अर्थात- पूर्ण लीनता। इसी परकीय माधुर्य भाव की साधना करने को भक्त- राधे- राधे नाम का जप करते है और आनन्द रस में डूबे रहते है- केवल कृष्ण नाम का जाप कोई नहीं करता। भक्त या तो राधे राधे या राधेकृष्ण का जाप करते हैं। कृष्ण की पत्नियों के नाम का जाप नहीं करता। राधे-राधे

2011-08-09 17:15:52 By Gulshan Piplani

radhey radhey

2011-07-27 20:32:49 By Rajender Kumar Mehra

radhe radhe bahut sundar

Enter comments


 
 
Tags :
DISCLAIMER:Small effort to expression what ever we read from our scripture and listened from saints. We are sorry if this hurts anybody because information is incorrect in any context.
राधा जी की सखियाँ


  • Send your article to [email protected]
    to add in radhakripa.
    Last Viewed Articles
    eBook Collection
    सभी किताबे
    राधा संग्रह
    ग्रन्थ
    कृष्ण संग्रह
    व्रज संग्रह
    व्रत कथाएँ
    यात्रा
    Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
    You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com