Home
Darbaar
Shanka
1M
GauSeva
Saint
eBook
Photo
Video
eSatsung
Pandit
Radio
Worship
Store
 
Gauseva
SocialTwist Tell-a-Friend

राधाकृपा गौसेवा  




भगवान श्रीकृष्ण को गौ अत्यंत प्रिय है. जो गौ माता की पूजा करते है, वह अक्षय स्वर्ग का सुख भोगते है. जो प्रतिदिन गाय को मुठ्ठीभर घास देता है, उसके समस्त पापों का नाश हो जाता है. जैसे ब्राहमण का महत्व है, वैसे ही गौ का महत्व है, दोनों की पूजा का फल समान है. भगवान के मुख से अग्नि, ब्राह्मण, देवता और गौ - ये चारो उत्पन्न हुए इसलिए ये चारो ही इस जगत के जन्मदाता है .

गौ सब कार्यों में उदार तथा समस्त गुणों की खान है .गौ की प्रत्येक वस्तु पावन है, गौ का मूत्र, गोबर, दूध, दही और घी, इन्हे पंचगव्य कहते है इनका पान कर लेने से शरीर के भीतर पाप नहीं ठहरता .जिसे गाय का दूध दही खाने नहीं मिलता उसका शरीर मल के समान है.

 

जो गौ की एक बार प्रदक्षिणा करके उसे प्रणाम करता है वह सबी पापों से मुक्त होकर अक्षय स्वर्ग का सुख भोगता है . गौ माता के विभिन्न अंगों में ३३ करोड़ देवी देवताओ का वास होता है.

१. सीगों में भगवान श्री शंकर और श्रीविष्णु सदा विराजमान रहते है.

२. गौ के उदर में कार्तिकेय, मस्तक में ब्रह्मा, ललाट में महादेवजी रहते है .

३. सीगों के अग्र भाग में इंद्र, दोनों कानो में अश्र्वि़नी कुमार, नेत्रो मे चंद्रमा और सूर्य, दांतों में  गरुड़, जिह्वा में सरस्वती देवीका वास होता है . 

४.  अपान (गुदा)में सम्पूर्ण तीर्थ, मूत्र स्थान में गंगा जी, रोमकूपो में ऋषि, मुख और प्रष्ठ भाग में यमराज का वास होता है .

५. दक्षिण पार्श्र्व में वरुण और कुबेर, वाम पार्श्र्व में तेजस्वी और महाबली यक्ष, मुख के भीतर  गंधर्व, नासिका के अग्र भाग में सर्प, खुरों के पिछले भाग में अप्सराएँ वास करती है .

६. गोबर में लक्ष्मी, गोमूत्र में पार्वती, चरणों के अग्र भाग में आकाशचारी देवता वास करते है .

७. रँभाने की आवाज में प्रजापति और थनो में भरे हुए चारो समुद्र निवास करते है .

जो प्रतिदिन स्नान करके गौ का स्पर्श करता है और उसके खुरों से उडाई हुई धुल को सिर पर धारण करता है वह मानो सारे तीर्थो के जल में स्नान कर लेता है, और सब पापों से छुट जाता है.

श्री राधा रानी की कृपा से राधा कृपा गौ शाला बरसाना में स्थापित की गई है. जिसमे सभी प्रकार की गायों की सेवा की जाती है. गौ सेवा के इस पवित्र और पुण्य कार्य में यदि आप भी सहयोग करना चाहते है तो इस पते पर संपर्क कीजिये.

 

संपर्क :- श्री राधाकृपा गौशाला

       चिकसोली गाँव, बरसाना

       फोन न. – 08861765728, 09880158155, 09911441928, 09313035491

Website:- www.radhakripa.com    

 

 जय जय श्री राधे ” 

 

 

 

 

Comments
2012-01-03 17:34:33 By m.j

jai gau mata

2012-01-02 10:55:05 By Kamlesh

Jai ho Gau Mata ki

2011-12-19 11:45:57 By ramjeewan solanki

cow is mother

2011-11-26 07:54:10 By shashank pujari

radhe radhe janha dekhu tu hi tu jai shiri radhe jai shiri radhe

2011-11-11 10:58:00 By bidyaramkhuswaha

ramramramram

2011-11-10 15:13:11 By Shiv Kumar

Jai Shri Radhe
Jai Kamdhenu Gau Mata Ki

2011-11-03 14:19:59 By Rita Kothari

नित्य भागवत का पाठ करना, भगवान् का चिंतन, तुलसी को सीचना और गौ की सेवा करना ये चारो सामान है

2011-10-25 13:44:37 By K.S.RAJHANS

HARE KRISHNA ****** GREAT HARI BOL!!!!!!!!!!!!!!!!

2011-10-17 08:55:54 By Aruna devi

gau matako raksha kariye

2011-09-09 23:37:16 By chandra shekhar verma

Gau mata ki seba ke saath saath uski raksha karna bhi hamara krishna dharam hai,radhe radhe..............

2011-09-06 14:59:43 By Kanhaiya Prajapati

JAI GAU MATA KI....... YAH SITE BAHOOT HI ACHHI HE.

2011-08-30 10:22:56 By Pt Chandra Sagar

ek gau ko ek roti khilane maatr sr 33 koti devtayon ka bhandara ho jata hai , narayan trip ho jate hain |

2011-08-30 10:22:54 By Pt Chandra Sagar

ek gau ko ek roti khilane maatr sr 33 koti devtayon ka bhandara ho jata hai , narayan trip ho jate hain |

2011-08-21 18:50:32 By Pt Chandra Sagar

जय श्री राधे ! सब भक्तों को जानकर बड़ी प्रसन्नता होगी की भारत में एक गौतीर्थ की स्थापना होने जा रही है | यह स्थान मध्य प्रदेश के रीवा जिले में हनुमना नाम का एक नगर है , जिसके समीप २४ एकड़ भूमि में यह विशाल गौतीर्थ व गौ संग्रहालय बनने जा रहा है जहाँ भारत के सभी राज्य की गौ प्रजाति को एक साथ दर्शाया जायेगा | भारत में एकमात्र गौमाता मंदिर की स्थापना भी वहीँ होगी | शीघ्र ही उसका दर्शन सबको होगा , अभी निर्माणाधीन चल रहा है |

2011-08-18 16:16:34 By Akshay Soni

bahut hi rasmay hai ye website....

2011-08-17 09:56:11 By Ashish Rai

jai gau mata ..

2011-08-16 16:37:51 By Akshay Soni

prem se bolo jaijai shree radhey..........

2011-08-12 23:03:34 By Waste Sam

radhey radhey.. yadi hum bhagwan se prem karna chahate hai toh hume sab se prem karna chaheye.. humara sanatan dharam toh pashu ko bhi aaradhaniye mante hai(naag, sher etyaadi).. aur gau ko toh bhagwan nee hee maa ka darja diya hai...jai shri radhey

2011-08-09 11:57:27 By Nidhi Nema

राधे राधे,गौ को माता इसलिए कहा जाता है कि एक बच्चा तो एक दो वर्ष ही अपनी माँ का दूध पीता है परन्तु गाय का दूध तो हम उम्र भर पीते है,गाय अपने बछड़े को तो दूध पिलाती ही है साथ साथ हमें भी देती है,गाय कितनी परोपकारी होती है,इसका अंदाजा भी हम नहीं लगा सकते,गौ की हर एक वस्तु उपयोगी है मूत्र,गोवर,दूध,दही,घी,इतने गुण है गौ में कि शब्दों में बताना असंभव है,राधा कृपा के गौ माता कथाएँ वाले option में आप सुन और पढ़ सकते है.

2011-08-09 11:35:57 By Vipin Sharma

Gau ko Mata kyon maante hain ??

2011-08-05 02:05:56 By Pradeep Pal

गऊ माता तो सारे ससांर की माँ है। सर्व मंगल मागल्ये, शिवे सर्वर्थ साधिके। शरण्ये त्रयंम्बके देवि, गो माता नमोस्तुते॥

2011-08-04 13:20:54 By Amit

Its really good.

2011-08-04 13:20:22 By Amit

Its really good.

2011-08-03 17:37:41 By ARVIND KUMAR SHARMA

COW IS VERY PIOUS TO US AS WELL AS USEFUL IN ALL THE WAYS.IN THE SEQUENCE WE SEE THE ALL OR SOME GOD EQUIVALENT FEATURE IN COW AND WORSHIP HER.

2011-08-02 14:39:01 By ANMOL KUMAR CHAUBEY

जय गौ माता। जय श्री राधे । जय श्री किशनकन्हैया ।

2011-08-02 10:19:46 By SANGEET MODANWAL

BAHUT HI ACHCHA LAGA.RADHE RADHE

2011-08-02 10:01:39 By Avichal Mishra

I lived in delhi... From where I can buy your products like gothrith (Go Mutra) etc.

2011-07-26 14:47:08 By MAHADEV

जय गैया माता मेऱा काँई काम नही हे करता हू ताँ बनद हाँ जाता हे हे राधा रानी हे क्रषण हमपरक्रपाकरे राधे राधे

2011-07-23 20:01:01 By gopal gomat

jay gau mata

2011-07-02 05:23:14 By Krishna Chaitanya

Bahut Acchi information hai...... Jai Sri Krishna......

2011-06-28 17:04:16 By ravi prakash

site bahut acchi hai

Enter comments


 
Share
 
Copyright © radhakripa.com, 2010. All Rights Reserved
You are free to use any content from here but you need to include radhakripa logo and provide back link to http://radhakripa.com